आजाद हिंद फौज की स्थापना–सुभाष चंद्र बोस

🔸🔹🔹🔸🔹🔹🔸🔹🔹🔸
🌱संस्थापक-सुभाष चंद्र बोस 

🌱समय- 1943ई.
🌱स्थान-सिंगापुर
🌱वास्तविक संस्थापक-मोहन सिंह( भारतीय सेना के अधिकारी कैप्टन)
🌱जन्म- 23 जनवरी 1897
🌱स्थान-कटक (उड़ीसा ) 

🌱स्नातक की उपाधि-1919 में (कलकत्ता विश्वविद्यालय )
🌱इंडियन सिविल सर्विस परीक्षा पास की- 1920
🌱भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस में शामिल- 1921 में
🌱राजनीतिक गुरु-चितरंजन दास
🌱पहली बार सजा-दिसंबर 1921 में (छह माह)
🌱कारावास का दंड-11 बार 

🌱कोलकाता के मेयर- 1923 में
🌱इंडिपेंडेंस लिंग का गठन- 1927 जापान
🌱जर्मनी युद्ध में शामिल- 7 दिसंबर 1941
🌱सुभाष चंद्र बोस द्वारा दिए गए नारे- दिल्ली चलो और तुम मुझे खून दो मैं तुम्हें आजादी दूंगा
🌱शहीद दिवस मनाया- 22 सितंबर 1944
🌱मृत्यु 18 अगस्त-1945 को
🌱मृत्यु का कारण- विमान में आग लग जाने के
🌱स्थान-फारमोसा द्विप ताइपे  

🌱नेताजी की उपाधि-जर्मनी 

🌱फ्री इंडिया सेंटर की स्थापना- सुभाष चंद्र बोस द्वारा (जर्मनी)
🌱 सुभाष चंद्र बोस द्वारा पहली बार दिया गया नारा-जय हिंद

🔹🔸🔸🔹🔸🔸🔹🔸🔸🔹
जिस समय भारत के अंदर जनता भारत छोड़ो आंदोलन के द्वारा चेतावनी दे रही थी वह अधिक समय तक गुलामी की बेडियो को स्वीकार नहीं करेगी
उसी समय देश के बाहर नेताजी सुभाष चंद्र बोस के नेतृत्व में सशस्त्र संघर्ष की तैयारी हो रही थी जिसमें यह स्पष्ट कर दिया था कि भारत के रणबांकुरे अपने शौर्य का प्रदर्शन देश को गुलाम बनाए रखने के लिए नहीं अपितू गुलामी की बेड़ियों को तोड़ने के लिए करेंगे

🌸💦सुभाष चंद्र बोस का जीवन परिचय💦🌸
🔹🔸🔸🔹🔸🔸🔹🔸🔸🔹

  • नेताजी के नाम से विख्यात सुभाष चंद्र बोस का जन्म 23 जनवरी 18697 को उड़ीसा के कटक में मध्यमवर्गीय बंगाली गृहस्थ में हुआ था
  • उन्होंने 1919 में कलकत्ता विश्वविद्यालय से स्नातक की उपाधि प्राप्त की इसके बाद वह इंग्लैंड चले गए थे
  • 1920 में इंडियन सिविल सर्विस परीक्षा में बैठे और योग्यता क्रम में उनका चौथा स्थान था लेकिन इस से भी इन्होंने त्याग पत्र दे दिया
  • 1921 में स्वराज चितरंजन दास व गांधी जी की प्रेरणा से भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस में शामिल हो गए
  • चितरंजन दास जी सुभाष चंद्र बोस के राजनीतिक गुरु थे
  • उन्हें पहली बार दिसंबर 1921 में 6 महीने की सजा हुई और उसके बाद अपनी राजनीतिक गतिविधियों के लिए उन्हें 11 बार कारावास का दंड दिया गया
  • बोस बाबू देशबंधु चितरंजन दास से प्रभावित हुए और शीघ्र ही उनके सबसे विश्वास पात्र प्रतिनिधि और दाहिना हाथ बन गए
  • 1923 में उन्होंने स्वराज दल के गठन और कार्यक्रम का समर्थन किया है
  •  उनका विचार था कि अंग्रेजों का विरोध भारतीय विधान परिषद के अंदर भी होना चाहिए
  • 1923 में जब चितरंजन दास कोलकाता के महापौर बने तो सुभाष चंद्र बोस  कोलकाता निगम के मुख्य कार्यकारी अधिकारी (मेयर) नियुक्त किए गए
  • 25 अक्टूबर 1924 को बंगाल सरकार ने उनकी राजनीतिक गतिविधियों के लिए उन्हें दोबारा गिरफ्तार कर लिया गया और मांडले (बर्मा)की जेल में भेज दिया गया
  • 16 मई 1927 को उन्हें जेल से रिहा कर दिया गया
  •  1927 में ही उन्होंने धारा सभा वअसेंबली का चुनाव लड़ा और इंडिपेंडेंस लीग का गठन किया
  • भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के उदारवादी दल के कट्टर विरोधी थे
  • 1928 में भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के कलकत्ता अधिवेशन के समय उन्होंने विशेष समिति में नेहरू रिपोर्ट द्वारा अनुमोदित प्रादेशिक शासन स्वायत्तता  अथवा औपनिवेशिक स्वराज संबंधी प्रस्ताव का डटकर विरोध किया था
  • 1929 में इन्हें फिर से 6 महीने की सजा हुई थी
  • 1938 के भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के हरिपुरा अधिवेशन की इन्होंने अध्यक्षता की और
  • 1939 में महात्मा गांधी के विरोध के बाद भी कांग्रेस के त्रिपुरी अधिवेशन के अध्यक्ष निर्वाचित हुए
  • संभवत  यह महात्मा गांधी की सबसे बड़ी हार थी
  • लेकिन कांग्रेस कार्यकारिणी में महात्मा गांधी के समर्थकों का  बहुमत था
  •  सुभाष चंद्र बोस ने अधिवेशन में अपने अध्यक्षीय भाषण में सुझाव दिया कि स्वाधीनता की राष्ट्रीय मांग एक निश्चित समय के अंदर पूरी करने के लिए ब्रिटिश सरकार के सामने रखी जाए और ब्रिटिश सरकार द्वारा निर्धारित अवधि मे मांग पूरी न करने पर सविनय अवज्ञा आंदोलन और सत्याग्रह आंदोलन शुरू कर देना चाहिए
  • लेकिन कांग्रेस वर्किंग कमेटी के बहुसंख्यक सदस्य जो महात्मा गांधी के कट्टर अनुयायी थे के निरंतर विरोध के फलस्वरुप उन्हें अप्रैल 1939 में अध्यक्ष पद से त्याग पत्र दे देना पड़ा


🌸💦सुभाष चंद्र बोस की जर्मन यात्रा💦🌸

  • कांग्रेस से इस्तीफा देने के बाद 1939 में सुभाष चंद्र बोस ने फॉरवर्ड ब्लॉक का गठन किया
  • सितंबर 1939 में द्वितीय विश्वयुद्ध आरंभ हो गया उन्होंने इसे विदेशों की सहायता द्वारा भारतीय स्वतंत्रता प्राप्त करने का स्वर्ण अवसर समझा
  • लेकिन 1940 में ही ने दोबारा गिरफ्तार कर लिया गया और उनके घर में ही नजरबंद कर दिया गया
  • लेकिन सुभाष चंद्र बोस 26 जनवरी 1941 को पुलिस की नजरों में धूल झोंककर एक पठान जियाउद्दीन के वेश में  घर से बाहर निकले और गाड़ी में सवार होकर कलकत्ता से पेशावर पहुंचे
  • उनके साथी भगतराम ने 21 जनवरी 1941 को काबुल पहुंचा दिया उसके बाद सुभाष चंद्र बोस काबुल से रूस वहां से जर्मनी पहुंच गए
  •  वहां उनकी मुलाकात हिटलर से हुई थी हिटलर ने उन्हें हर तरह की सहायता देने का वचन किया
  • जो भारतीय सैनिक इटली और जर्मनी के हाथ में पड़ गए थे उन सब को बुला कर उन्होंने मुक्ति सेना बनाई थी और इसका दफ्तर ड्रेसडन (जर्मनी) बनाया
  • उन्होंने वर्ल्ड इन रेडियो से भारत समर्थक तथा अंग्रेजी विरोधी भाषण प्रसारित किए
  • उन्होंने भारतीयों को अंग्रेजी दासता से मुक्ति प्राप्त करने के लिए विद्रोह करने का सुझाव दिया
  • जर्मनी की जनता ने उन्हें नेताजी से संबोधित किया
  • 7 दिसंबर 1941 को जापान जर्मनी के साथ युद्ध में शामिल हो गया
  • जापान ने 16 फरवरी 1942 को संसार के सबसे प्रसिद्ध अंग्रेजों के समुद्री गढ़ सिंगापुर को फतह कर लिया
  • उसके बाद जापान ने मवाया से वर्मा तक सारा प्रदेश जीत लिया

🔹🔸🔸🔹🔸🔸🔹🔸🔸🔹
🌸💦रासबिहारी बोस द्वारा इंडियन इंडिपेंडेंस लीग की स्थापना💦🌸

  • इन ही दिनों भारत के पुराने व प्रसिद्ध क्रांतिकारी रासबिहारी बोस जापान में अप्रवासी थे
  • उन्होंने 28-30 मार्च 1942 को  टोक्यो में मलाया से वर्मा तक रहने वाले सभी भारतीय नेताओं का सम्मेलन बुलाया
  • जिसमें उन्होंने भारतीय स्वतंत्रता लीग (इंडियन इंडिपेंडेंस लीग) और आजाद हिंद फौज बनाने की घोषणा की
  • जिसके बाद 14 जून से 23 जून 1942 तक बैंकॉक में रास बिहारी बोस की अध्यक्षता में एक सम्मेलन हुआ जिसे बैंकॉक सम्मेलन के नाम से जाना जाता है
  •  इस में जापान से बर्मा तक के देशों में रहनेवाले असंख्य भारतीय सम्मिलित हुए
  • इस सम्मेलन में इंडियन इंडिपेंडेंस लीग की स्थापना विधिवत रूप से की गई और सुभाष चंद्र बोस के पूर्वी एशिया बुलाने का निमंत्रण दिया गया
  • सुभाष चंद्र बोस ने बैंकॉक सम्मेलन के निमंत्रण को स्वीकार करते हुए 13 जून 1943 टोकियो पहुंचे
  • जापान के प्रधानमंत्री तोजो ने उनका स्वागत किया
  • सुभाष चंद्र बोस ने स्पष्ट किया कि वह भारत की स्वतंत्रता चाहते हैं  उन्होंने जापान की यह मांग स्वीकार कर ली थी कि युद्ध के समय जापान भारत की अधिनता में रहेगा
  • सुभाष चंद्र बोस ने अंग्रेजों के विरुद्ध भारत की स्वतंत्रता के लिए अपना प्रथम संदेश भारतीयों को सौंप दिया यह संदेश राष्ट्र के नाम था

 🌸💦आजाद हिंद फौज का इतिहास💦🌸

  •  आजाद हिंद फौज का जन्म अपने आप में कोई स्वतंत्र घटना नहीं थी वह उस प्रक्रिया का एक नतीजा थी जो भारतीय सैनिकों में राष्ट्रभक्ति की ज्वाला को प्रज्वलित कर रही थी
  • 18 57 के बाद पहले महाराष्ट्रीय विप्लव को जन्म देने में पहल सैनिकों के द्वारा की गई थी
  • 1947 की आजादी के पूर्व की अंतिम महत्वपूर्ण लड़ाइयां शाही नौसेना में विप्लव भी सैनिकों का कार्य था
  • इन दोनों घटनाओं के मध्य अप्रैल 1930 में पेशावर में सैनिकों ने चंद्र सिंह गढ़वाली के नेतृत्व में सत्याग्रहियों पर गोली चलाने से इंकार कर मानवता, सांप्रदायिक सद्भाव ,देश भक्ति और सच्चे शौर्य का वास्तविक प्रदर्शन किया था
  • आजाद हिंद फौज और उसका संघर्ष ही शानदार परंपरा का एकमात्र था
  •  इस समय भारत में स्वतंत्रता के लिए राष्ट्रीय आंदोलन किए जा रहे थे उसी समय आजाद हिंद फौज का निर्माण प्रारंभ हो गया था
  • आजाद हिंद फौज का नाम सुभाष चंद्र बोस के साथ जुड़ा हुआ है किंतु सत्य है यह है कि
  • इसकी स्थापना का श्रेय भारतीय सेना के एक अधिकारी कैप्टन मोहन सिंह को जाता है
  • भारतीय सेना के कैप्टन मोहन सिंह ने कुछ सैनिकों के साथ अपने आपको जापानी सैनिकों के समक्ष आत्मसमर्पण कर दिया था जब जापानी सेना ने मलाया पर विजय प्राप्त कर ली थी
  • एक धार्मिक व्यक्ति प्रीतम सिंह और जापानी सैनिक अधिकारी मेजर फूजीहारा ने इन्हें भारत की स्वतंत्रता के लिए प्रोत्साहित किया
  • सिंगापुर के पतन के बाद 40,000 भारतीय सैनिकों ने अपने आप को मेजर फूजीहारा को सोप दिया
  • मेजर फूजीहारा ने यह सारे सैनिक कैप्टन मोहन सिंह को सौंप दिए
  • कैप्टन मोहन सिंह राष्ट्रप्रेमी थे उन्होंने भारतीय सैनिकों को अपने साथ लेकर उन्होंने आजाद हिंद फौज का गठन किया  इस प्रकार सितंबर 1942 में औपचारिक रूप से आजाद हिंद फौज का गठन हो गया था
  • आजाद हिंद फौज का उद्देश्य भारत की स्वतंत्रता के लिए संघर्ष करना था
  • अगस्त 1942 तक इस फौज में 16000 सैनिकों की एक डिविजन तैयार हो गई थी
  • मोहन सिंह का लक्ष्य इस सेना का और अधिक विस्तार करने का था
  • किंतु इस प्रश्न पर उनका जापानियों और रास बिहारी बोस से मतभेद हो गया
  • इन मतभेदों के चलते जापानियों ने मोहन सिह को नजर बंद कर दिया
  • पूरी संभावना थी की मोहन सिंह के मंच से हटने के साथ ही आजाद हिंद फौज के इतिहास के अध्याय भी समाप्त हो जाएगा ​
  • लेकिन इसी समय सुभाष चंद्र बोस के पूर्व एशिया में पहुंचने से आजाद हिंद फौज के इतिहास में नया मोड़ आया

🌸💦आजाद हिंद फौज का पुनर्गठन💦🌸

  • सुभाष चंद्र बोस महान देश भक्त थे वह प्रत्येक घटनाक्रम पर इस दृष्टि से विचार करते थे कि इसका क्या प्रभाव भारत की स्वतंत्रता प्राप्ति पर पड़ेगा
  • 1931 से ही जब विश्वयुद्ध की संभावना दिखने लगी तो सुभाष का विचार बन गया कि इस युद्ध का लाभ भारत की आजादी प्राप्त करने के लिए उठाया जाना चाहिए
  • सुभाष चंद्र बोस का कहना था कि भारत को तुरंत ही आवश्यकता इस बात की है कि ब्रिटिश साम्राज्य से संघर्ष छेड़ दिया जाए और किसी प्रकार का समझौता नहीं किया जाए
  •  इस संघर्ष को किस तरह और किसके साथ मिलकर आरंभ किया जाए इस पर उनका मत था कि गांधीजी के अहिंसा के दार्शनिक विचारों को या नेहरू की धूरी विरोधी विदेशी नीति की भावना को मार्ग में नहीं आने देना चाहिए
  • अपनी इस विचारधारा के साथ सुभाष चंद्र बोस ने युद्ध आरंभ होते ही देश की जनता से अपील की कि वह युद्ध में अंग्रेजो की किसी प्रकार से सहायता ना करें
  • अपने दल फॉरवर्ड ब्लॉक के नेतृत्व में उन्होंने 6 अप्रैल 1940 को सविनय अवज्ञा आंदोलन आरंभ कर दिया


इस समय सुभाष चंद्र बोस का दृढ विश्वास था कि
🌱अंग्रेज युद्ध में हारेंगे
🌱स्वतंत्रता के लिए भारतीयों को संघर्ष करना ही पड़ेगा
🌱यदि भारत ब्रिटेन से लड़ने वाली शक्तियों के साथ सहयोग करेगा तो भारत को स्वतंत्रता मिल जाएगी

इन मान्यताओं के चलते ही 17 जनवरी 1941 को साम्राज्यवादी पुलिस की आंखों में धूल झोंककर सुभाष चंद्र बोस भारत से निकलकर काबुल और वहां से मास्को होते हुए 28 मार्च को बर्लिन पहुंच गए थे

वहां पहुंच कर उन्होंने जर्मन सरकार के सामने प्रस्ताव रखा कि
🌱उन्हें बर्लिन रेडियो से ब्रिटिश विरोधी प्रचार करने दिया जाए
🌱युद्धबंदी भारतीय सैनिकों को लेकर सेना का गठन करने दिया जाए
🌱जर्मनी और उसके मित्र भारत की स्वतंत्रता की घोषणा करें
🔹🔸🔸🔹🔸🔸🔹🔸🔸🔹

  • सुभाष की पहली दो बातें स्वीकार कर ली गई और जनवरी 1942 तक यूरोप में भारतीय सेना की दो टुकड़ों का गठन हो गया
  • लेकिन भारत की स्वतंत्रता की घोषणा में जर्मनी ने कोई रुचि नहीं दिखाई इससे सुभाष चंद्र बोस को निराशा हुई
  • उसी समय दक्षिण पूर्व एशिया में 28 से 30 मार्च के टोक्यो  सम्मेलन द्वारा रासबिहारी बोस ने एक इंडियन इंडिपेंडेंस लीग का गठन किया और भारतीय मुक्ति सेना के गठन का निर्णय लिया
  •  टोक्यो सम्मेलन के फैसलों की पुष्टि बैंकॉक सम्मेलन( 15 से 22 जून 1942) में की गई और सुभाष को नवगठित लीग की अध्यक्षता के लिए आमंत्रित किया
  • सुभाष चंद्र बोस में 8 फरवरी 1943 को जर्मनी छोड़ा
  • एक रोमांचक समुद्री व हवाई यात्रा के उपरांत 13 जून को वह टोकियो पहुंचे और जापान ने भारत को स्वतंत्र कराने में पूर्ण मदद देने का वचन दिया
  • इसके पश्चात सुभाष चंद्र बोस 2 जुलाई 1943 को सिंगापुर पहुंचा
  • 5 जुलाई 1943को सिंगापुर में सुभाष चंद्र बोस ने इंडियन इंडिपेंडेंस लीग की अध्यक्षता ग्रहण की और आजाद हिंद फौज की कमान संभाली राज बिहारी बहुत केवल मुख्य परामर्शदाता बन गये सुभाष चंद्र बोस नेताजी कहलाने लगे
  • 21 अक्टूबर1943 को आजाद हिंद सरकार का विधिवत उद्घाटन हुआ


21 अक्टूबर 1943 को चंद्र बोस ने आजाद हिंद फौज के सर्वोच्च सेनापति की हैसियत से सिंगापुर में स्वतंत्र भारत की अस्थाई सरकार की स्थापना की

सुभाष चंद्र बोस की सरकार ने
🌱तिरंगे को राष्ट्रीय ध्वज के रूप में
🌱हिंदुस्तानी को राष्ट्रीय भाषा के रूप में
🌱जयहिंद को अभिवादन के रूप में
🌱टैगोर की कविता को राष्ट्रगान के रुप में स्वीकार किया

यही पर सुभाष चंद्र बोस ने सेना को दिल्ली चलो और तुम मुझे खून दो मैं तुम्हें आजादी दूंगा का नारा दिया था
वह स्वयं ही इस सरकार के प्रधानमंत्री और मुख्य सेनापति बन गए तथा अपने पद की शपथ ग्रहण की जो इस प्रकार थी

🌸💦सुभाष चंद्र बोस की शपथ💦🌸 
मैं सुभाष चंद्र बोस ईश्वर की पवित्र सौगंध खाकर कहता हूं कि में भारत और अपने देश के 38 करोड़ लोगों को स्वतंत्र करूंगा मैं सुभाष चंद्र बोस अपने जीवन के अंतिम क्षण तक स्वतंत्रता के पवित्र युद्ध को जारी रखूंगा
🔹🔸🔸🔹🔸🔸🔹🔸🔸🔹
संसार की नौ शक्तियों ने जिसमें जापान, जर्मनी ,वर्मा, फिलीपींस, कोरिया, इटली ,चीन, मांचूको और आयरलैंड सम्मिलित थे इन सभी ने इस सरकार को मान्यता दी

  • इस सरकार ने 23 अक्टूबर 1943 को मित्र राष्ट्रों के विरुद्ध युद्ध की घोषणा कर दी थी
  • अंडमान और निकोबार टापू भारतीय भूमि के वह भाग थे जिन पर आजाद हिंद फौज सरकार को सबसे पहले अधिकार मिला
  • 8 नवंबर 1943 को अंडमान और निकोबार द्वीप नेताजी की इस अस्थाई सरकार को जापान के द्वारा सौंपा गया था
  • नेताजी स्वयं इन द्वीपो में आए और अंडमान का नाम शहीदी द्वीप और निकोबार का नाम स्वराज द्वीप रखा
  • 30 दिसंबर 1943को स्वतंत्र भारत का झंडा इन द्वीपो पर फहराता  दिया गया

🌸💦आजाद हिंद फौज का सैनिक अभियान💦🌸
🔹🔸🔸🔹🔸🔸🔹🔸🔸🔹

  • आजाद हिंद फौज का सैनिक अभियान फरवरी-मार्च 1944 में प्रारम्भ हुआ था
  • 4 फरवरी 1944 को आजाद हिंद फौज ने अंग्रेजो पर आक्रमण किया
  • मई में उसने माडोक पर अधिकार कर भारत भूमि पर कदम रखा और सितंबर तक कैप्टन सूरजमल के नेतृत्व में सैनिक टुकड़ी वहॉ बनी रही
  • मई मास में ही जापान की सेना के साथ मिलकर आजाद हिंद फौज ने कोहिमा ,रामू पलेन,तिद्दिम,इत्यादि भारतीय प्रदेशों को अंग्रेजों से मुक्त करा लिया
  •  आजाद हिंद फौज की सेना असम में कोहिमा तक पहुंच गई कोहिमा के स्थान पर तिरंगा झंडा गाड़ दिया गया

🔹🔸🔸🔹🔸🔸🔹🔸🔸🔹
22 सितंबर 1944 को सुभाष ने शहीदी दिवस मनाया  शहीदी दिवस के अवसर पर उन्होंने सिपाहियों को संबोधित करते हुए कहा हमारी मातृभूमि स्वतंत्रता की खोज में हैं तुम मुझे अपना खून दो और मैं तुम्हें अपनी स्वतंत्रता देता हूं यह स्वतंत्रता की देवी की मांग है

द्वितीय विश्वयुद्ध में भाग्य ने जापान का साथ नहीं दिया जर्मनी ने भी हार मान ली जापान के अधिन जो भी प्रदेश थे उन सब पर दोबारा अंग्रेजों का कब्जा हो गया
🔹🔸🔸🔹🔸🔸🔹🔸🔸🔹

🌸💦सुभाष चंद्र बोस की मृत्यु💦🌸
ऐसी परिस्थिति में 1945 में सुभाष चंद्र बोस बैंकॉक से टोक्यो रवाना हुए लेकिन फारमोसा द्वीप(ताइपेई) के पास विमान में आग लग जाने के कारण 18 अगस्त 1945 को उनकी मृत्यु हो गई
🔹🔸🔸🔹🔸🔸🔹🔸🔸🔹

🌸💦आजाद हिंद फौज के सैनिक अभियान की असफलता💦🌸

  •  आजाद हिंद फौज का यह अभियान असफल रहा
  • जापानियों की पराजय के साथ ही आजाद हिंद फौज की भी पराजय हो गई और उसके अधिकांश सैनिक युद्ध बंदी बना लिए गए
  • आजाद हिंद फौज की पराजय अप्रत्याशित नहीं थी सत्य तो यह है कि उसे अत्यंत विषम परिस्थिति में संघर्ष करना पड़ रहा था
  • उनके पास उत्कट देशभक्ति की भावना और देश पर मर मिटने का संकल्प था
  •  लेकिन केबल इन  पर युद्ध नहीं जीते जा सकते हैं
  • आजाद हिंद फौज की हार और 18 अगस्त 1945 को फारमोसा में वायुयान दुर्घटना में सुभाष चंद्र बोस की मृत्यु के साथ स्वतंत्रता संघर्ष का यह अध्याय यहीं पर समाप्त हो जाता है

🌸💦आजाद हिंद फौज पर इतिहासकारों के विचार💦🌸
भारत के स्वतंत्रता संघर्ष में आजाद हिंद फौज का अपना अलग ही स्थान है
🔹🔸🔸🔹🔸🔸🔹🔸🔸🔹
🥀🌾इतिहासकार सुमित सरकार🌾🥀

  • इतिहासकार सुमित सरकार के अनुसार केवल सैन्य दृष्टि से तो आजाद हिंद फौज का महत्त्व बहुत अधिक नहीं रहा और यदि वह अधिक प्रभावी रही भी होती तो उसका आगमन बहुत देर से हुआ था क्योंकि 1944 तक धुरी शक्तियॉ सर्वत्र  पीछे हटी लगी
  • तात्कालिक उपलब्धि नगण्य होते हुए भी आजाद हिंद फौज के संघर्ष ने गहरा मनोवैज्ञानिक प्रभाव छोड़ा
  • इसी प्रभाव के माध्यम से उसके वास्तविक महत्त्व को आकां जा सकता है
  • सुभाष व आजाद हिंद फौज के आलोचक को भी स्वीकार करना पड़ा कि
  • उनका अनुपम त्याग शौर्य और बलिदान भारतीयों को अपने देश की स्वाधीनता की रक्षा के लिए प्रेरणा देता रहेगा


🔹🔸🔸🔹🔸🔸🔹🔸🔸🔹
🥀🌾इतिहासकार ताराचंद🌾🥀
इतिहासकार ताराचंद ने आजाद हिंद फौज के संघर्ष के महत्व पर कई दृष्टि से विचार किया है
1. सर्वप्रथम तो उनके विचार में इस संघर्ष के कारण भारत का प्रश्न ब्रिटिश साम्राज्य के संकुचित दायरे से निकलकर अंतरराष्ट्रीय राजनीति के विस्तृत क्षेत्र में चला गया
2. दूसरे उनके अनुसार आजाद हिंद फौज ने भारत के विदेशी शासकों को चेतावनी दी थी कि वह भारत के वेतन भोगी सैनिकों की स्वामी भक्ति पर भारत को अपने अधीन बनाए रखने के लिए भरोसा नहीं कर सकते

इस अहसास में अंग्रेजों को भारत छोड़ने के लिए प्रेरित करने में मुख्य भूमिका का निर्वाह किया

🔸🔹🔹🔸🔹🔹🔸🔹🔹🔸
🌱संस्थापक-सुभाष चंद्र बोस 

🌱समय- 1943ई.
🌱स्थान-सिंगापुर
🌱वास्तविक संस्थापक-मोहन सिंह( भारतीय सेना के अधिकारी कैप्टन)
🌱जन्म- 23 जनवरी 1897
🌱स्थान-कटक (उड़ीसा ) 

🌱स्नातक की उपाधि-1919 में (कलकत्ता विश्वविद्यालय )
🌱इंडियन सिविल सर्विस परीक्षा पास की- 1920
🌱भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस में शामिल- 1921 में
🌱राजनीतिक गुरु-चितरंजन दास
🌱पहली बार सजा-दिसंबर 1921 में (छह माह)
🌱कारावास का दंड-11 बार 

🌱कोलकाता के मेयर- 1923 में
🌱इंडिपेंडेंस लिंग का गठन- 1927 जापान
🌱जर्मनी युद्ध में शामिल- 7 दिसंबर 1941
🌱सुभाष चंद्र बोस द्वारा दिए गए नारे- दिल्ली चलो और तुम मुझे खून दो मैं तुम्हें आजादी दूंगा
🌱शहीद दिवस मनाया- 22 सितंबर 1944
🌱मृत्यु 18 अगस्त-1945 को
🌱मृत्यु का कारण- विमान में आग लग जाने के
🌱स्थान-फारमोसा द्विप ताइपे  

🌱नेताजी की उपाधि-जर्मनी 

🌱फ्री इंडिया सेंटर की स्थापना- सुभाष चंद्र बोस द्वारा (जर्मनी)
🌱 सुभाष चंद्र बोस द्वारा पहली बार दिया गया नारा-जय हिंद

🔹🔸🔸🔹🔸🔸🔹🔸🔸🔹
जिस समय भारत के अंदर जनता भारत छोड़ो आंदोलन के द्वारा चेतावनी दे रही थी वह अधिक समय तक गुलामी की बेडियो को स्वीकार नहीं करेगी
उसी समय देश के बाहर नेताजी सुभाष चंद्र बोस के नेतृत्व में सशस्त्र संघर्ष की तैयारी हो रही थी जिसमें यह स्पष्ट कर दिया था कि भारत के रणबांकुरे अपने शौर्य का प्रदर्शन देश को गुलाम बनाए रखने के लिए नहीं अपितू गुलामी की बेड़ियों को तोड़ने के लिए करेंगे

🌸💦सुभाष चंद्र बोस का जीवन परिचय💦🌸
🔹🔸🔸🔹🔸🔸🔹🔸🔸🔹

  • नेताजी के नाम से विख्यात सुभाष चंद्र बोस का जन्म 23 जनवरी 18697 को उड़ीसा के कटक में मध्यमवर्गीय बंगाली गृहस्थ में हुआ था
  • उन्होंने 1919 में कलकत्ता विश्वविद्यालय से स्नातक की उपाधि प्राप्त की इसके बाद वह इंग्लैंड चले गए थे
  • 1920 में इंडियन सिविल सर्विस परीक्षा में बैठे और योग्यता क्रम में उनका चौथा स्थान था लेकिन इस से भी इन्होंने त्याग पत्र दे दिया
  • 1921 में स्वराज चितरंजन दास व गांधी जी की प्रेरणा से भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस में शामिल हो गए
  • चितरंजन दास जी सुभाष चंद्र बोस के राजनीतिक गुरु थे
  • उन्हें पहली बार दिसंबर 1921 में 6 महीने की सजा हुई और उसके बाद अपनी राजनीतिक गतिविधियों के लिए उन्हें 11 बार कारावास का दंड दिया गया
  • बोस बाबू देशबंधु चितरंजन दास से प्रभावित हुए और शीघ्र ही उनके सबसे विश्वास पात्र प्रतिनिधि और दाहिना हाथ बन गए
  • 1923 में उन्होंने स्वराज दल के गठन और कार्यक्रम का समर्थन किया है
  •  उनका विचार था कि अंग्रेजों का विरोध भारतीय विधान परिषद के अंदर भी होना चाहिए
  • 1923 में जब चितरंजन दास कोलकाता के महापौर बने तो सुभाष चंद्र बोस  कोलकाता निगम के मुख्य कार्यकारी अधिकारी (मेयर) नियुक्त किए गए
  • 25 अक्टूबर 1924 को बंगाल सरकार ने उनकी राजनीतिक गतिविधियों के लिए उन्हें दोबारा गिरफ्तार कर लिया गया और मांडले (बर्मा)की जेल में भेज दिया गया
  • 16 मई 1927 को उन्हें जेल से रिहा कर दिया गया
  •  1927 में ही उन्होंने धारा सभा वअसेंबली का चुनाव लड़ा और इंडिपेंडेंस लीग का गठन किया
  • भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के उदारवादी दल के कट्टर विरोधी थे
  • 1928 में भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के कलकत्ता अधिवेशन के समय उन्होंने विशेष समिति में नेहरू रिपोर्ट द्वारा अनुमोदित प्रादेशिक शासन स्वायत्तता  अथवा औपनिवेशिक स्वराज संबंधी प्रस्ताव का डटकर विरोध किया था
  • 1929 में इन्हें फिर से 6 महीने की सजा हुई थी
  • 1938 के भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के हरिपुरा अधिवेशन की इन्होंने अध्यक्षता की और
  • 1939 में महात्मा गांधी के विरोध के बाद भी कांग्रेस के त्रिपुरी अधिवेशन के अध्यक्ष निर्वाचित हुए
  • संभवत  यह महात्मा गांधी की सबसे बड़ी हार थी
  • लेकिन कांग्रेस कार्यकारिणी में महात्मा गांधी के समर्थकों का  बहुमत था
  •  सुभाष चंद्र बोस ने अधिवेशन में अपने अध्यक्षीय भाषण में सुझाव दिया कि स्वाधीनता की राष्ट्रीय मांग एक निश्चित समय के अंदर पूरी करने के लिए ब्रिटिश सरकार के सामने रखी जाए और ब्रिटिश सरकार द्वारा निर्धारित अवधि मे मांग पूरी न करने पर सविनय अवज्ञा आंदोलन और सत्याग्रह आंदोलन शुरू कर देना चाहिए
  • लेकिन कांग्रेस वर्किंग कमेटी के बहुसंख्यक सदस्य जो महात्मा गांधी के कट्टर अनुयायी थे के निरंतर विरोध के फलस्वरुप उन्हें अप्रैल 1939 में अध्यक्ष पद से त्याग पत्र दे देना पड़ा


🌸💦सुभाष चंद्र बोस की जर्मन यात्रा💦🌸

  • कांग्रेस से इस्तीफा देने के बाद 1939 में सुभाष चंद्र बोस ने फॉरवर्ड ब्लॉक का गठन किया
  • सितंबर 1939 में द्वितीय विश्वयुद्ध आरंभ हो गया उन्होंने इसे विदेशों की सहायता द्वारा भारतीय स्वतंत्रता प्राप्त करने का स्वर्ण अवसर समझा
  • लेकिन 1940 में ही ने दोबारा गिरफ्तार कर लिया गया और उनके घर में ही नजरबंद कर दिया गया
  • लेकिन सुभाष चंद्र बोस 26 जनवरी 1941 को पुलिस की नजरों में धूल झोंककर एक पठान जियाउद्दीन के वेश में  घर से बाहर निकले और गाड़ी में सवार होकर कलकत्ता से पेशावर पहुंचे
  • उनके साथी भगतराम ने 21 जनवरी 1941 को काबुल पहुंचा दिया उसके बाद सुभाष चंद्र बोस काबुल से रूस वहां से जर्मनी पहुंच गए
  •  वहां उनकी मुलाकात हिटलर से हुई थी हिटलर ने उन्हें हर तरह की सहायता देने का वचन किया
  • जो भारतीय सैनिक इटली और जर्मनी के हाथ में पड़ गए थे उन सब को बुला कर उन्होंने मुक्ति सेना बनाई थी और इसका दफ्तर ड्रेसडन (जर्मनी) बनाया
  • उन्होंने वर्ल्ड इन रेडियो से भारत समर्थक तथा अंग्रेजी विरोधी भाषण प्रसारित किए
  • उन्होंने भारतीयों को अंग्रेजी दासता से मुक्ति प्राप्त करने के लिए विद्रोह करने का सुझाव दिया
  • जर्मनी की जनता ने उन्हें नेताजी से संबोधित किया
  • 7 दिसंबर 1941 को जापान जर्मनी के साथ युद्ध में शामिल हो गया
  • जापान ने 16 फरवरी 1942 को संसार के सबसे प्रसिद्ध अंग्रेजों के समुद्री गढ़ सिंगापुर को फतह कर लिया
  • उसके बाद जापान ने मवाया से वर्मा तक सारा प्रदेश जीत लिया

🔹🔸🔸🔹🔸🔸🔹🔸🔸🔹
🌸💦रासबिहारी बोस द्वारा इंडियन इंडिपेंडेंस लीग की स्थापना💦🌸

  • इन ही दिनों भारत के पुराने व प्रसिद्ध क्रांतिकारी रासबिहारी बोस जापान में अप्रवासी थे
  • उन्होंने 28-30 मार्च 1942 को  टोक्यो में मलाया से वर्मा तक रहने वाले सभी भारतीय नेताओं का सम्मेलन बुलाया
  • जिसमें उन्होंने भारतीय स्वतंत्रता लीग (इंडियन इंडिपेंडेंस लीग) और आजाद हिंद फौज बनाने की घोषणा की
  • जिसके बाद 14 जून से 23 जून 1942 तक बैंकॉक में रास बिहारी बोस की अध्यक्षता में एक सम्मेलन हुआ जिसे बैंकॉक सम्मेलन के नाम से जाना जाता है
  •  इस में जापान से बर्मा तक के देशों में रहनेवाले असंख्य भारतीय सम्मिलित हुए
  • इस सम्मेलन में इंडियन इंडिपेंडेंस लीग की स्थापना विधिवत रूप से की गई और सुभाष चंद्र बोस के पूर्वी एशिया बुलाने का निमंत्रण दिया गया
  • सुभाष चंद्र बोस ने बैंकॉक सम्मेलन के निमंत्रण को स्वीकार करते हुए 13 जून 1943 टोकियो पहुंचे
  • जापान के प्रधानमंत्री तोजो ने उनका स्वागत किया
  • सुभाष चंद्र बोस ने स्पष्ट किया कि वह भारत की स्वतंत्रता चाहते हैं  उन्होंने जापान की यह मांग स्वीकार कर ली थी कि युद्ध के समय जापान भारत की अधिनता में रहेगा
  • सुभाष चंद्र बोस ने अंग्रेजों के विरुद्ध भारत की स्वतंत्रता के लिए अपना प्रथम संदेश भारतीयों को सौंप दिया यह संदेश राष्ट्र के नाम था

 🌸💦आजाद हिंद फौज का इतिहास💦🌸

  •  आजाद हिंद फौज का जन्म अपने आप में कोई स्वतंत्र घटना नहीं थी वह उस प्रक्रिया का एक नतीजा थी जो भारतीय सैनिकों में राष्ट्रभक्ति की ज्वाला को प्रज्वलित कर रही थी
  • 18 57 के बाद पहले महाराष्ट्रीय विप्लव को जन्म देने में पहल सैनिकों के द्वारा की गई थी
  • 1947 की आजादी के पूर्व की अंतिम महत्वपूर्ण लड़ाइयां शाही नौसेना में विप्लव भी सैनिकों का कार्य था
  • इन दोनों घटनाओं के मध्य अप्रैल 1930 में पेशावर में सैनिकों ने चंद्र सिंह गढ़वाली के नेतृत्व में सत्याग्रहियों पर गोली चलाने से इंकार कर मानवता, सांप्रदायिक सद्भाव ,देश भक्ति और सच्चे शौर्य का वास्तविक प्रदर्शन किया था
  • आजाद हिंद फौज और उसका संघर्ष ही शानदार परंपरा का एकमात्र था
  •  इस समय भारत में स्वतंत्रता के लिए राष्ट्रीय आंदोलन किए जा रहे थे उसी समय आजाद हिंद फौज का निर्माण प्रारंभ हो गया था
  • आजाद हिंद फौज का नाम सुभाष चंद्र बोस के साथ जुड़ा हुआ है किंतु सत्य है यह है कि
  • इसकी स्थापना का श्रेय भारतीय सेना के एक अधिकारी कैप्टन मोहन सिंह को जाता है
  • भारतीय सेना के कैप्टन मोहन सिंह ने कुछ सैनिकों के साथ अपने आपको जापानी सैनिकों के समक्ष आत्मसमर्पण कर दिया था जब जापानी सेना ने मलाया पर विजय प्राप्त कर ली थी
  • एक धार्मिक व्यक्ति प्रीतम सिंह और जापानी सैनिक अधिकारी मेजर फूजीहारा ने इन्हें भारत की स्वतंत्रता के लिए प्रोत्साहित किया
  • सिंगापुर के पतन के बाद 40,000 भारतीय सैनिकों ने अपने आप को मेजर फूजीहारा को सोप दिया
  • मेजर फूजीहारा ने यह सारे सैनिक कैप्टन मोहन सिंह को सौंप दिए
  • कैप्टन मोहन सिंह राष्ट्रप्रेमी थे उन्होंने भारतीय सैनिकों को अपने साथ लेकर उन्होंने आजाद हिंद फौज का गठन किया  इस प्रकार सितंबर 1942 में औपचारिक रूप से आजाद हिंद फौज का गठन हो गया था
  • आजाद हिंद फौज का उद्देश्य भारत की स्वतंत्रता के लिए संघर्ष करना था
  • अगस्त 1942 तक इस फौज में 16000 सैनिकों की एक डिविजन तैयार हो गई थी
  • मोहन सिंह का लक्ष्य इस सेना का और अधिक विस्तार करने का था
  • किंतु इस प्रश्न पर उनका जापानियों और रास बिहारी बोस से मतभेद हो गया
  • इन मतभेदों के चलते जापानियों ने मोहन सिह को नजर बंद कर दिया
  • पूरी संभावना थी की मोहन सिंह के मंच से हटने के साथ ही आजाद हिंद फौज के इतिहास के अध्याय भी समाप्त हो जाएगा ​
  • लेकिन इसी समय सुभाष चंद्र बोस के पूर्व एशिया में पहुंचने से आजाद हिंद फौज के इतिहास में नया मोड़ आया

🌸💦आजाद हिंद फौज का पुनर्गठन💦🌸

  • सुभाष चंद्र बोस महान देश भक्त थे वह प्रत्येक घटनाक्रम पर इस दृष्टि से विचार करते थे कि इसका क्या प्रभाव भारत की स्वतंत्रता प्राप्ति पर पड़ेगा
  • 1931 से ही जब विश्वयुद्ध की संभावना दिखने लगी तो सुभाष का विचार बन गया कि इस युद्ध का लाभ भारत की आजादी प्राप्त करने के लिए उठाया जाना चाहिए
  • सुभाष चंद्र बोस का कहना था कि भारत को तुरंत ही आवश्यकता इस बात की है कि ब्रिटिश साम्राज्य से संघर्ष छेड़ दिया जाए और किसी प्रकार का समझौता नहीं किया जाए
  •  इस संघर्ष को किस तरह और किसके साथ मिलकर आरंभ किया जाए इस पर उनका मत था कि गांधीजी के अहिंसा के दार्शनिक विचारों को या नेहरू की धूरी विरोधी विदेशी नीति की भावना को मार्ग में नहीं आने देना चाहिए
  • अपनी इस विचारधारा के साथ सुभाष चंद्र बोस ने युद्ध आरंभ होते ही देश की जनता से अपील की कि वह युद्ध में अंग्रेजो की किसी प्रकार से सहायता ना करें
  • अपने दल फॉरवर्ड ब्लॉक के नेतृत्व में उन्होंने 6 अप्रैल 1940 को सविनय अवज्ञा आंदोलन आरंभ कर दिया


इस समय सुभाष चंद्र बोस का दृढ विश्वास था कि
🌱अंग्रेज युद्ध में हारेंगे
🌱स्वतंत्रता के लिए भारतीयों को संघर्ष करना ही पड़ेगा
🌱यदि भारत ब्रिटेन से लड़ने वाली शक्तियों के साथ सहयोग करेगा तो भारत को स्वतंत्रता मिल जाएगी

इन मान्यताओं के चलते ही 17 जनवरी 1941 को साम्राज्यवादी पुलिस की आंखों में धूल झोंककर सुभाष चंद्र बोस भारत से निकलकर काबुल और वहां से मास्को होते हुए 28 मार्च को बर्लिन पहुंच गए थे

वहां पहुंच कर उन्होंने जर्मन सरकार के सामने प्रस्ताव रखा कि
🌱उन्हें बर्लिन रेडियो से ब्रिटिश विरोधी प्रचार करने दिया जाए
🌱युद्धबंदी भारतीय सैनिकों को लेकर सेना का गठन करने दिया जाए
🌱जर्मनी और उसके मित्र भारत की स्वतंत्रता की घोषणा करें
🔹🔸🔸🔹🔸🔸🔹🔸🔸🔹

  • सुभाष की पहली दो बातें स्वीकार कर ली गई और जनवरी 1942 तक यूरोप में भारतीय सेना की दो टुकड़ों का गठन हो गया
  • लेकिन भारत की स्वतंत्रता की घोषणा में जर्मनी ने कोई रुचि नहीं दिखाई इससे सुभाष चंद्र बोस को निराशा हुई
  • उसी समय दक्षिण पूर्व एशिया में 28 से 30 मार्च के टोक्यो  सम्मेलन द्वारा रासबिहारी बोस ने एक इंडियन इंडिपेंडेंस लीग का गठन किया और भारतीय मुक्ति सेना के गठन का निर्णय लिया
  •  टोक्यो सम्मेलन के फैसलों की पुष्टि बैंकॉक सम्मेलन( 15 से 22 जून 1942) में की गई और सुभाष को नवगठित लीग की अध्यक्षता के लिए आमंत्रित किया
  • सुभाष चंद्र बोस में 8 फरवरी 1943 को जर्मनी छोड़ा
  • एक रोमांचक समुद्री व हवाई यात्रा के उपरांत 13 जून को वह टोकियो पहुंचे और जापान ने भारत को स्वतंत्र कराने में पूर्ण मदद देने का वचन दिया
  • इसके पश्चात सुभाष चंद्र बोस 2 जुलाई 1943 को सिंगापुर पहुंचा
  • 5 जुलाई 1943को सिंगापुर में सुभाष चंद्र बोस ने इंडियन इंडिपेंडेंस लीग की अध्यक्षता ग्रहण की और आजाद हिंद फौज की कमान संभाली राज बिहारी बहुत केवल मुख्य परामर्शदाता बन गये सुभाष चंद्र बोस नेताजी कहलाने लगे
  • 21 अक्टूबर1943 को आजाद हिंद सरकार का विधिवत उद्घाटन हुआ


21 अक्टूबर 1943 को चंद्र बोस ने आजाद हिंद फौज के सर्वोच्च सेनापति की हैसियत से सिंगापुर में स्वतंत्र भारत की अस्थाई सरकार की स्थापना की

सुभाष चंद्र बोस की सरकार ने
🌱तिरंगे को राष्ट्रीय ध्वज के रूप में
🌱हिंदुस्तानी को राष्ट्रीय भाषा के रूप में
🌱जयहिंद को अभिवादन के रूप में
🌱टैगोर की कविता को राष्ट्रगान के रुप में स्वीकार किया

यही पर सुभाष चंद्र बोस ने सेना को दिल्ली चलो और तुम मुझे खून दो मैं तुम्हें आजादी दूंगा का नारा दिया था
वह स्वयं ही इस सरकार के प्रधानमंत्री और मुख्य सेनापति बन गए तथा अपने पद की शपथ ग्रहण की जो इस प्रकार थी

🌸💦सुभाष चंद्र बोस की शपथ💦🌸 
मैं सुभाष चंद्र बोस ईश्वर की पवित्र सौगंध खाकर कहता हूं कि में भारत और अपने देश के 38 करोड़ लोगों को स्वतंत्र करूंगा मैं सुभाष चंद्र बोस अपने जीवन के अंतिम क्षण तक स्वतंत्रता के पवित्र युद्ध को जारी रखूंगा
🔹🔸🔸🔹🔸🔸🔹🔸🔸🔹
संसार की नौ शक्तियों ने जिसमें जापान, जर्मनी ,वर्मा, फिलीपींस, कोरिया, इटली ,चीन, मांचूको और आयरलैंड सम्मिलित थे इन सभी ने इस सरकार को मान्यता दी

  • इस सरकार ने 23 अक्टूबर 1943 को मित्र राष्ट्रों के विरुद्ध युद्ध की घोषणा कर दी थी
  • अंडमान और निकोबार टापू भारतीय भूमि के वह भाग थे जिन पर आजाद हिंद फौज सरकार को सबसे पहले अधिकार मिला
  • 8 नवंबर 1943 को अंडमान और निकोबार द्वीप नेताजी की इस अस्थाई सरकार को जापान के द्वारा सौंपा गया था
  • नेताजी स्वयं इन द्वीपो में आए और अंडमान का नाम शहीदी द्वीप और निकोबार का नाम स्वराज द्वीप रखा
  • 30 दिसंबर 1943को स्वतंत्र भारत का झंडा इन द्वीपो पर फहराता  दिया गया

🌸💦आजाद हिंद फौज का सैनिक अभियान💦🌸
🔹🔸🔸🔹🔸🔸🔹🔸🔸🔹

  • आजाद हिंद फौज का सैनिक अभियान फरवरी-मार्च 1944 में प्रारम्भ हुआ था
  • 4 फरवरी 1944 को आजाद हिंद फौज ने अंग्रेजो पर आक्रमण किया
  • मई में उसने माडोक पर अधिकार कर भारत भूमि पर कदम रखा और सितंबर तक कैप्टन सूरजमल के नेतृत्व में सैनिक टुकड़ी वहॉ बनी रही
  • मई मास में ही जापान की सेना के साथ मिलकर आजाद हिंद फौज ने कोहिमा ,रामू पलेन,तिद्दिम,इत्यादि भारतीय प्रदेशों को अंग्रेजों से मुक्त करा लिया
  •  आजाद हिंद फौज की सेना असम में कोहिमा तक पहुंच गई कोहिमा के स्थान पर तिरंगा झंडा गाड़ दिया गया

🔹🔸🔸🔹🔸🔸🔹🔸🔸🔹
22 सितंबर 1944 को सुभाष ने शहीदी दिवस मनाया  शहीदी दिवस के अवसर पर उन्होंने सिपाहियों को संबोधित करते हुए कहा हमारी मातृभूमि स्वतंत्रता की खोज में हैं तुम मुझे अपना खून दो और मैं तुम्हें अपनी स्वतंत्रता देता हूं यह स्वतंत्रता की देवी की मांग है

द्वितीय विश्वयुद्ध में भाग्य ने जापान का साथ नहीं दिया जर्मनी ने भी हार मान ली जापान के अधिन जो भी प्रदेश थे उन सब पर दोबारा अंग्रेजों का कब्जा हो गया
🔹🔸🔸🔹🔸🔸🔹🔸🔸🔹

🌸💦सुभाष चंद्र बोस की मृत्यु💦🌸
ऐसी परिस्थिति में 1945 में सुभाष चंद्र बोस बैंकॉक से टोक्यो रवाना हुए लेकिन फारमोसा द्वीप(ताइपेई) के पास विमान में आग लग जाने के कारण 18 अगस्त 1945 को उनकी मृत्यु हो गई
🔹🔸🔸🔹🔸🔸🔹🔸🔸🔹

🌸💦आजाद हिंद फौज के सैनिक अभियान की असफलता💦🌸

  •  आजाद हिंद फौज का यह अभियान असफल रहा
  • जापानियों की पराजय के साथ ही आजाद हिंद फौज की भी पराजय हो गई और उसके अधिकांश सैनिक युद्ध बंदी बना लिए गए
  • आजाद हिंद फौज की पराजय अप्रत्याशित नहीं थी सत्य तो यह है कि उसे अत्यंत विषम परिस्थिति में संघर्ष करना पड़ रहा था
  • उनके पास उत्कट देशभक्ति की भावना और देश पर मर मिटने का संकल्प था
  •  लेकिन केबल इन  पर युद्ध नहीं जीते जा सकते हैं
  • आजाद हिंद फौज की हार और 18 अगस्त 1945 को फारमोसा में वायुयान दुर्घटना में सुभाष चंद्र बोस की मृत्यु के साथ स्वतंत्रता संघर्ष का यह अध्याय यहीं पर समाप्त हो जाता है

🌸💦आजाद हिंद फौज पर इतिहासकारों के विचार💦🌸
भारत के स्वतंत्रता संघर्ष में आजाद हिंद फौज का अपना अलग ही स्थान है
🔹🔸🔸🔹🔸🔸🔹🔸🔸🔹
🥀🌾इतिहासकार सुमित सरकार🌾🥀

  • इतिहासकार सुमित सरकार के अनुसार केवल सैन्य दृष्टि से तो आजाद हिंद फौज का महत्त्व बहुत अधिक नहीं रहा और यदि वह अधिक प्रभावी रही भी होती तो उसका आगमन बहुत देर से हुआ था क्योंकि 1944 तक धुरी शक्तियॉ सर्वत्र  पीछे हटी लगी
  • तात्कालिक उपलब्धि नगण्य होते हुए भी आजाद हिंद फौज के संघर्ष ने गहरा मनोवैज्ञानिक प्रभाव छोड़ा
  • इसी प्रभाव के माध्यम से उसके वास्तविक महत्त्व को आकां जा सकता है
  • सुभाष व आजाद हिंद फौज के आलोचक को भी स्वीकार करना पड़ा कि
  • उनका अनुपम त्याग शौर्य और बलिदान भारतीयों को अपने देश की स्वाधीनता की रक्षा के लिए प्रेरणा देता रहेगा


🔹🔸🔸🔹🔸🔸🔹🔸🔸🔹
🥀🌾इतिहासकार ताराचंद🌾🥀
इतिहासकार ताराचंद ने आजाद हिंद फौज के संघर्ष के महत्व पर कई दृष्टि से विचार किया है
1. सर्वप्रथम तो उनके विचार में इस संघर्ष के कारण भारत का प्रश्न ब्रिटिश साम्राज्य के संकुचित दायरे से निकलकर अंतरराष्ट्रीय राजनीति के विस्तृत क्षेत्र में चला गया
2. दूसरे उनके अनुसार आजाद हिंद फौज ने भारत के विदेशी शासकों को चेतावनी दी थी कि वह भारत के वेतन भोगी सैनिकों की स्वामी भक्ति पर भारत को अपने अधीन बनाए रखने के लिए भरोसा नहीं कर सकते

इस अहसास में अंग्रेजों को भारत छोड़ने के लिए प्रेरित करने में मुख्य भूमिका का निर्वाह किया