खेड़ा सत्याग्रह 1918

  • खेड़ा का किसान आंदोलन चरित्र की दृष्टि से चंपारण के आंदोलन से भिन्न था
  • यह अनाज,तंबाकू और कपास पैदा करने वाले खाते पीते किसानों का आंदोलन था
  • यह आंदोलन गरीब उत्पीड़ित रेयत का आंदोलन नहीं था
  • 1899 के वर्ष से अकाल व महामारी के एक के बाद दूसरे प्रकोप के कारण किसानों के लिए यह कठिन हो गया था कि वह लगान का भुगतान कर सके
  •  
  • लेकिन सरकार द्वारा लगान व उसकी में वसूली में किसी प्रकार की रियायत नहीं की जा रही थी
  • 1917-18 में किसानों को मूल्य वृद्धि और कृषि उत्पादन में कमी की दोहरी मार का शिकार होना पड़ा था
  • इन सभी स्थितीयो को देखते हुए मोहनलाल पांडेय देसी किसानों ने नवंबर 1917 में लगान का भुगतान रोकने का फैसला लिया था
  • 22 मार्च 1918 को गांधी जी खेड़ा आंदोलन से जुड़े थे
  •  
  • हार्डीमन के अनुसार खेड़ा (गुजरात) आंदोलन गांधी जी के नेतृत्व में चलाया गया भारत में पहला वास्तविक किसान सत्याग्रह था
  • गुजरात का खेड़ा सत्याग्रह मुख्य रूप से मुंबई सरकार के विरुद्ध था
  • 1917-18में अल्पवृष्टि के कारण फसल नष्ट हो जाने और सुखा पड़ने के कारण इस प्रदेश के किसानों को बहुत कष्ट हुआ
  • इन सब परिस्थितियों के बावजूद मुंबई सरकार ने खेड़ा गुजरात के कुनबी-पाटीदार किसानों से लगान की वसूली की जा रही थी
  •  
  • यह भूमि कर नियमों में यह स्पष्ट का गया था कि यदि फसल साधारण से 25% कम हो तो भूमि करने पूर्णतया छूट मिलेगी लेकिन मुंबई सरकार छूट देने को तैयार नहीं थी सरकारी अफसरों को यह अधिकार नहीं था कि फसल 25% कम है
  • साथ ही कुनबी पाटीदारों के साथ बरइया नामक निम्न जाति के खेतीहर मजदूर की बढ़ती कीमतों की वजह से त्रस्त थे
  • इन सब परिस्थितियों को देखते हुए महात्मा गांधी ने मार्च 1918 में खेड़ा आंदोलन का नेतृत्व सम्भाला
  • महात्मा गांधी खेड़ा गुजरात में सर्वेंट ऑफ इंडिया के सदस्य विट्ठल भाई पटेल के साथ आए थे
  • यहां आकर गांधी जी ने किसानों को संगठित किया और सभी वर्ग के लोगों का समर्थन प्राप्त किया
  •  
  • गांधी जी के नेतृत्व में कृषकों की बहुत बड़ी संख्या ने सत्याग्रह किया और जेल में गये
  • गांधी जी ने किसानों को राय दी कि जब तक लगान मे छूट नहीं मिलती है वह लगान देना बंद कर दे और इस आंदोलन को लगातार जारी रखें
  • खेड़ा आंदोलन जून 1918  तक चलता रहा और अंत में सरकार को गांधी जी की मांग स्वीकार करनी पड़ी
  • सरकार ने यह आदेश दिया की लगाम उन्हीं किसानों से वसूला जाए जो वास्तव में इस का भुगतान कर सकते हैं
  • सरकार के इस आदेश के बाद गांधी जी ने संघर्ष वापस ले लिया था
  • खेड़ा आंदोलन के गांधी जी का प्रभाव गुजरात में फेल गया था
  •  
  • गॉधीजी के अहिंसा के सिद्धांत और वैष्णव भक्ति के कारण पाटीदार किसानों ने ही महात्मा गांधी जी का सदैव समर्थन किया
  • स्वदेश वापसी के पश्चात महात्मा गांधी जी का दूसरा महत्वपूर्ण आंदोलन गुजरात के खेड़ा क्षेत्र के किसानों की समस्याओं के निपटारे हेतु किया गया सत्याग्रह था
  • चंपारण और खेड़ा के आंदोलन नें न केवल गांधी जी को जनता का नेता बना दिया बल्कि कृषको मे आत्मविश्वास भी जागा कि यदि वह मिल कर कार्य करें तो सफल अवश्य होंगे
  •  
  • खेड़ा आंदोलन में इंदुलाल याग्निक ने गांधीजी का पूर्ण सहयोग किया था
  • खेड़ा आंदोलन में गांधीजी के साथ वल्लभ भाई पटेल इंदुलाल याग्निक और अन्य युवा लोगों ने गांव का दौरा किया था
  • इन सभी अनुभवों ने गांधीजी को जनता के घनिष्ठ संपर्क में ला दिया और वह जीवन भर उनके हितों की सक्रिय रुप से रक्षा करते रहे
  •  
  • वे वास्तव में भारत के पहले ऐसे राष्ट्रवादी नेता थे जिन्होंने अपने जीवन और जीवन पद्धति को साधारण जनता के जीवन से एकीकृत कर लिया था
  •  
  • जल्दी ही वे गरीब भारत राष्ट्रवादी भारत और विरोधी भारत के प्रतीक बन गए थे ​
  • गांधीजी के तीन दूसरे लक्ष्य दी थी जो उन्हे जान से प्यारे थे 
  • इनमें पहला लक्ष्य था हिंदू मुस्लिम एकता 
  • दूसरा लक्ष्य था छुआछूत विरोधी संघर्ष 
  • तीसरा लक्ष्य था देश की स्त्रियो की सामाजिक स्थिति को सुधारना 
  •  
  • अपनी राजनीति के प्रारंभिक दिनों में गांधी जी ने ब्रिटिश सरकार के संविधानिक सुधारों की प्रक्रिया की प्रशंसा की थी 
  • लेकिन 1919 में जलियांवाला कांड के बाद काली जी का पूरा दृष्टिकोण सरकार के संदर्भ में बदल गया था