प्रथम गोलमेज सम्मेलन (12 नवंबर 1930 से 19 जनवरी 1931)

🔺🔺🔺🍃🍃🍃🍃🔺🔺🔺
🔅स्थान-सेंट जेम्स पैलेस (लंदन)
🔅उद्घाटन- जॉर्ज पंचम
🔅अध्यक्षता- ब्रिटिश प्रधानमंत्री रैम्जे मैकडोनाल्ड
🔅प्रतिनिधियों की संख्या- 89
🔺🔺🔺🍃🍃🍃🍃🔺🔺🔺
लंदन में आयोजित हुआ प्रथम गोलमेज सम्मेलन अथार्थ यह पहली ऐसी वार्ता थी जिस में  ब्रिटिश शासकों द्वारा भारतीयों को समानता का दर्जा दिया गया
प्रथम गोलमेज सम्मेलन 12 नवंबर 1930 से 19 जनवरी 1931 तक आयोजित किया गया था

इस गोलमेज सम्मेलन में राजस्थान के दो शासक सम्मिलित हुए थे
1 महाराजा गंगा सिंह(बीकानेर)
2 महाराजा जयसिंह(अलवर)

27 मई 1930 को साइमन कमीशन की रिपोर्ट प्रस्तुत की हुई राजनीतिक संगठन की सिफारिशों को अस्वीकार कर दिया
कांग्रेस के प्रमुख नेता जेल में थे ब्रिटिश सरकार में निराशा और असंतोष के वातावरण में नवंबर 1930 में प्रथम गोलमेज सम्मेलन बुलाया था ,इस सम्मेलन में कुल 89 प्रतिनिधियों ने भाग लिया 


इसमें मुख्य रूप से निम्न प्रतिनिधि शामिल हुए थे है
🔺🔺🔺🍃🍃🍃🍃🔺🔺🔺
🔅हिंदू महासभा-जयकर और बी.एस.मुंजे
🔅उदारवादियों-सी. वाई. चिंतामणी और T.V.सप्रू
🔅मुस्लिम- आगा खाँ ,मोहम्मद शफी, मोहम्मद अली जिन्ना और फजलुल हक
🔅सिक्खो-सरदार संपूर्ण सिंह
🔅एग्लो इंडियन-के.टी.पाल
🔅दलित वर्ग-डॉक्टर भीमराव अंबेडकर
*🔅देसी रियासतों-*16 नरेशों
🔺🔺🔺🍃🍃🍃🍃🔺🔺🔺

  • आदि प्रतिनिधियों ने प्रथम गोलमेज सम्मेलन में भाग लिया था
  • इस सम्मेलन में कांग्रेस के एक भी व्यक्ति ने भाग नहीं लिया था
  • ब्रेल्सफोर्ड के अनुसार सेंट जेम्स पैलेस में भारतीय नरेश और दलित वर्ग ,हिंदू ,सिख, इसाई ,जमीदार, श्रमिक संघ और वाणिज्य संकाय संघों के प्रतिनिधि सम्मिलित हुए थें,लेकिन भारत माता वहां उपस्थित नहीं थी
  • 12 नवंबर 1930 को ब्रिटिश सम्राट जॉर्ज पंचम ने सम्मेलन का उद्घाटन किया
  •  ब्रिटिश प्रधानमंत्री मैकडोनाल्ड ने प्रथम गोलमेज सम्मेलन का सभापतित्व किया
  •  सम्मेलन में भारतीय नरेशों ने अखिल भारतीय संघ की स्थापना के लिए ब्रिटिश भारत में सम्मिलित होने का प्रस्ताव कर सबको चकित कर दिया
  • मुस्लिम प्रतिनिधियों ने पृथक निर्वाचन मंडल की मांग रखी थी
  • इसी तरह अंबेडकर ने भी दलित वर्गों के लिए पृथक निर्वाचन मंडल की मांग की थी लेकिन उपस्थित प्रतिनिधियों में एकता का भारी अभाव था
  • इस सम्मेलन के निष्कर्ष बाद में प्रकाशित हुए जिसके द्वारा ब्रिटिश सरकार अखिल भारतीय संघ का निर्माण ,प्रदेशों में पूर्ण उत्तरदायी शासन और केंद्र में द्वैध शासन पर सहमत हुई
  • जनवरी 1931 में कांग्रेस कार्यकारिणी समिति ने कहा कि कांग्रेस गोलमेज सम्मेलन की कार्यवाही को मान्यता देने के लिए तैयार नहीं है ,क्योंकि इसमें भारतीय जनता का प्रतिनिधित्व नहीं है
  • लार्ड इरविन ने 26 जनवरी 1931 को गांधी जी को जेल से रिहा कर देश में सौहार्द का वातावरण उत्पन्न करना चाहा
  • तेज बहादुर सप्रू जयकर के प्रयत्नों से गांधीजी और लार्ड इरविन के मध्य 17 फरवरी से दिल्ली में वार्ता आरंभ हुई ​
  • 5 मार्च 1931 को एक समझौते पर हस्ताक्षर हुए जो गांधी इरविन समझौते के नाम से जाना जाता है