प्रथम विश्वयुद्ध आरंभ होने के समय भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस उदारवादी दल के नेतृत्वमें थी
🗳कांग्रेस ने अंग्रेजो के युद्ध प्रयत्नों में सहायता देने को एक कर्तव्य तथा सौदा करने की भावना से समर्थन दिया
🗳लेकिन कुछ लोग ऐसे भी थे जो यह समझते थे कि कोई भी रियायतेंनहीं मिलेगी,जब तक कि सरकार पर लोकप्रिय दबाव नहीं डाला जाएगा
🗳इसलिएें एक लोकप्रिय आंदोलन और स्वशासन-संघ की आवश्यकता अनुभव की गई

🔋⚜🔋स्वशासन आंदोलन🔋⚜🔋
🗳1915 एनी बेसेंट ने आईरिस होम रूल लिंग के नमूने पर होम रूल लीग स्थापित करने की घोषणा की
🗳1916 में बाल गंगाधर तिलक ने पुणे में अपनी होम रूल लीग स्थापित की
🗳दोनों संस्थाएं तालमेल से कार्य कर रही थी
🗳जिनका उद्देश्य था कि जनता को शिक्षितकिया जाए
🗳कांग्रेस को अपने आंदोलन और एक मात्र उद्देश्य के लिए आधार बनानेमें सहायता दी जाए
🗳कांग्रेस इस समय अपनी नीति में इतना आमूल परिवर्तन करने को उद्यतनहीं थी
🗳इसीलिए यह होम रूल लीग स्वतंत्र कार्यकरती रही
🗳इसका उद्देश्य सरकार पर दबाव डालकर भारत को स्वशासन दिलाना था

🔋⚜🔋लखनऊ अधिवेशन🔋⚜🔋

🗳1907 के कांग्रेस के अधिवेशन में उदारवादी दल और उग्रवादी दल में प्रकट रूप से झगड़ा हो गया था
🗳इतने दिनों से यह उग्रवादी दल कांग्रेस से बाहर ही कार्य कर रहा था
🗳उदारवादी दल के दो प्रमुख नेताओं फिरोजशाह मेहता और गोपाल कृष्ण गोखले की 1915 में मृत्युहो गई
🗳 इसके बाद इन दोनों दलों में समझोता हो गया
🗳लखनऊ अधिवेशन में बाल गंगाधर तिलक और एनी बेसेंट की प्रमुख व्यक्ति थे
🗳इसके अलावा 1916 में कांग्रेस और मुस्लिम लिंग में समझौताहो गया ताकि संवैधानिक सुधारों की एक ही योजना अपनाईजा सके
🗳इसके फलस्वरुप 19 स्मरणपत्र में समकालीन राजनीतिक विचारों को साकार रुप दिया गया
🗳समकालीन राजनीतिक गतिविधियों और युद्ध में अंग्रेजों की स्थिति बहुत अच्छी नहींहोने के कारण सचिव लार्ड मोंटेग्यू ने अंग्रेजी ससद की लार्ड सभा में 20 अगस्त 1917 को एक विशेष महत्वपूर्ण घोषणाकी थी 


🔵1919 में भारत सरकार अधिनियम 1919 अंग्रेजी संसद में पारित कर दिया गया था 


🗳1919 के अधिनियम से राजनीतिक आकांक्षाएं पूर्ण नहीं हुई
🗳उधर सरकार ने एक दमन नीति का अनुसरण किया और राष्ट्रीय आंदोलन में एक नया मोड़ आया
🗳महात्मा गांधी के नेतृत्व में इस आंदोलन को एक नई दिशा मिली