🎾🎗कांग्रेस का प्रथम अधिवेशन🎗🎾   
🚫भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस का प्रथम अधिवेशन 28-31दिसंबर 1885 में मुंबई में ग्वालिया टैंक स्थित गोकुलदास तेजपाल संस्कृत कॉलेज में व्योंमेश चंद्र बनर्जी की अध्यक्षता में संपन्न हुआ था  कांग्रेस के प्रथम अधिवेशन में ज्यादातर नेता वकील और पत्रकारथे  मुंबई के पहले अधिवेशन में कुल 72 प्रतिनिधियों ने भाग लिया था *

💧🔱कांग्रेस के प्रथम अधिवेशन के प्रमुख उद्देश्य थे🔱💧
🍏देशहित की दिशा में प्रयत्नशील भारतीयों के बीच परस्पर संबंध स्थापित कर मित्रता को प्रोत्साहित करना
🍏देश में व्याप्त धर्म वंश और प्रांत संबंधी विवादों को समाप्त कर राष्ट्रीय एकता की भावना को प्रोत्साहित करना
🍏शिक्षक वर्ग की सहमति से आवश्यक सामाजिक विषयों पर विचार विमर्श करके भविष्य में भारतीय जन कल्याण के लिए नीति निर्धारित करना  भारत के प्रति अन्याय पूर्ण परिस्थितियों को खत्म करके भारत और ब्रिटेन के संबंधों को घनिष्ट बनाना  जनता की मांगों को सूत्रीकरण और उसका प्रस्तुतिकरण करना
🍏भारत के सभी वर्गो और समुदायों को एकत्रित करके उनमें एक राष्ट्र की भावना उत्पन्न करना
🍎इसका गुप्त उद्देश्य भारतीयों में राजनीतिक चेतना उत्पन्न करना और उन्हें राजनीति में दक्ष करके स्वशासन के लिए तैयार करना था

💧🔱कांग्रेस के प्रथम सम्मेलन में कुल 9 प्रस्ताव सरकार के सम्मुख रखे गए थे🔱💧
🍏भारतीय शासन विधान की जांच के लिए एक रॉयल कमीशन को नियुक्त किया जाए 

🍏इंग्लैंड में कार्य रत इंडिया काउंसिलको समाप्त किया जाए
🍏प्रांतीय और केंद्रीय व्यवस्थापिका का विस्तार किया जाए परिषद में मनोनीत सदस्य के स्थान पर चुने गए प्रतिनिधि सम्मिलित किए जाएं
🍏इंडियन  सिविल सर्विस परीक्षा का आयोजन भारत और इंग्लैंड दोनों स्थानों पर किया जाए और साथ ही उम्र की अधिकतम सीमा 19 वर्ष से बढ़ाकर 23 वर्ष की जाए
🍏सैन्य व्यय में कटौतीकी जाए
🍏इंग्लैंड से आयात किए गए कपड़ों पर आयात करलगाया जाए
🍏बर्मा जिस पर अधिकार कर लेने की आलोचनाकी गई थी, उसको अलग किया जाए
🍏प्रस्तावो को  सभी प्रदेशों की राजनीतिक संस्थाओंको भेजा जाए, जिससे वे उनके क्रियान्वन की मांग कर सकें
🍏कांग्रेस का अगला सम्मेलन कलकत्ता मे बुलाया जाये

🎾🎗कांग्रेस का द्वितीय अधिवेशन🎗🎾 
🚫कांग्रेस के प्रथम अधिवेशन में ही तय हो गया था कि भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस का दूसरा अधिवेशन दिसंबर 1886 में कलकत्तामें होगा
🚫ह्यम जब वे अधिवेशन की तैयारी हेतु कलकत्ता आए तब उन्होंने अनुभव किया की अगर सुरेंद्रनाथ बनर्जी और इंडियन एसोसिएशनको अलग रखा जाता है तो बंगाल में राजनीतिक विचारों वाले शिक्षित लोगों का सहयोग पाना असंभव है
🚫इस कारण वे सुरेंद्रनाथ बनर्जी के पास गए और इंडियन एसोसिएशन को कांग्रेस में शामिल करने के लिए तैयार किया 

🚫कोलकाता में दादा भाई नौरोजी की अध्यक्षता में 1886 के दूसरे अधिवेशन में 434 प्रतिनिधि आए थे
🚫 इसी अधिवेशन में नेशनल कॉन्फ्रेंस का राष्ट्रीय कांग्रेस में विलय हो गया था
🚫इस अधिवेशन में निर्णय लिया गया था कि सभी महत्पूर्ण केंद्रों में कॉन्ग्रेस स्टेडिंग कमेटी का गठन किया जाएगा
🚫डफरिन ने सम्मेलन में आए हुए प्रतिनिधियों को व्यक्तिगत हैसियत से गार्डन पार्टीदी थी
🚫निमंत्रित व्यक्तियों में सुरेंद्रनाथ बनर्जी नहींआए थे

🎾🎗भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस का तृतीय अधिवेशन🎗🎾
🚫कांग्रेस का तीसरा अधिवेशन 1887 में मद्रास में सैयद बदरुद्दीन तैयबकी अध्यक्षता में हुआ था
🚫अधिवेशन की मुख्य उपलब्धि यह थी सैयद बदरुद्दीन तैयबजी कांग्रेस के पहले मुस्लिम अध्यक्ष थे
🚫अधिवेशन में 607 प्रतिनिधियों ने भाग लिया था
🚫तैयब जी ने मुसलमानों से आग्रह किया कि वह सर्व साधारण के हितों के लिए अपने साथी देशवासियोंके साथ कंधे से कंधा मिला कर कार्य करें
🚫यह पहला सम्मेलन था जिस के कार्य के संचालन का भार प्रतिनिधियों की एक कमेटी के हाथ में सौंपा गया था
🚫यह कमेटी आगे चलकर विषय निर्धारिणी समितिकहलाई
🚫कांग्रेस के इतिहास में यह पहला अवसर था जब आम जनता से कांग्रेस में शामिल होने की अपील की गई और सरकारी अधिकारियों की आलोचनाकी गई
🚫पहली बार कांग्रेस अधिवेशन के लिए पैसा साधारण जनता से इकट्ठा किया गया
🚫कांग्रेस का अधिवेशन सिर्फ अंग्रेजी पढ़े हुए लोगों का नहींरह गया था
🚫इसके अनेक ऐसे प्रतिनिधि थे जो अंग्रेजी बिल्कुल नहींजानते थे
🚫इस सम्मेलन में भारतीय भाषाओं में भी भाषणहुए
🚫तंजोर के म्युनिलिपल  कमिश्नर मूकनासिटी ने तमिल में भाषण दिया
🚫इस अधिवेशन में उपस्थित प्रतिनिधियों में 95 प्रतिनिधि रैयत थे
🚫कांग्रेस के अधिवेशन में दो महत्वपूर्ण बातेंहुई थी
🍏प्रथम आर्म्स टैक्स के खिलाफ प्रस्ताव, यह प्रस्ताव ह्यम के विरोध के बावजूद पास हुआ था
🍏द्वित्तीय असम खुली एक्ट के खिलाफ प्रस्ताव* इसमें प्रांतीय विषय होने के कारण प्रस्ताव पास नहींहो सका था 🚫मद्रास अधिवेशन में गौ रक्षा से संबंधित विवादास्पद प्रश्नभी प्रस्ताव में आया था
🚫लेकिन पहले से ही यह निर्धारित किया गया था कि ऐसा कोई भी धार्मिक प्रश्न नहीं उठाया जाएगा
🚫जिस पर उससे प्रभावित होने वाले धर्मावलंबी प्रतिनिधियोंको एतराज हो
🚫 मद्रास कांग्रेस अधिवेशन को सफल बनाने के लिए मद्रास सरकार ने पूरी तरह से सहायता की थी
🚫मद्रास प्रेसिडेंसी के गवर्नर कोन-मेयर ने प्रतिनिधियों को आमंत्रित किया था
🚫इसी अधिवेशन से अंग्रेज शासको और अधिकारियों की कटु आलोचना कांग्रेस के मंच से प्रारंभ हो गई थी
🚫मद्रास कांग्रेस अधिवेशन के अवसर पर ही उत्तर और दक्षिण में वितरित पुस्तिकाओं में अंग्रेज शासकों की कटु आलोचना की गई थी
🚫 वीर राघवाचार्य द्वारा तमिल में प्रश्नोत्तर के रूप में लिखित पुस्तिका कि 30000 प्रतिया मद्रास प्रेसिडेंसी में बांटी गई 🚫इससे अंग्रेज शासक अत्यंत क्रूद्धहो गए थे

🎾🎗भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस का चतुर्थ अधिवेशन🎗🎾
🚫कांग्रेस अधिवेशन पश्चिमोत्तर प्रदेश की राजधानी इलाहाबाद में जार्ज यूले की अध्यक्षता में दिसंबर 1818 में हुआ था
🚫 इस अधिवेशन की उपलब्धि यह थी कि इसका अध्यक्ष अंग्रेज शासक बना था
🚫इसे असफल बनाने की पूरी कोशिश की गई थी
🚫यहां के गवर्नर ऑकलैण्ड काल्विन ने उपर्युक्त पुस्तिकाओं के विरुद्ध ह्यम के पास कड़ा प्रतिवाद पत्रभेजा
🚫काल्विन ने पूरी कोशिश की थी की यह सम्मेलन इलाहाबाद में ना होने पाए
🚫लेकिन इस समय राजा दरभंगा ने इलाहाबाद में लोथर काउंसिल खरीद कर कांग्रेस को दे दिया था
🚫डरफिन ने कांग्रेस की कटु आलोचना की और आदेश जारी किया कि कोई भी सरकारी व्यक्ति किसी राजनीतिक संगठन के लिए पैसा इकट्ठा नहींकरेगा
🚫उस ने कांग्रेस का यह कहकर मजाक उड़ाया कि यह सूक्ष्म दर्शी अल्पसंख्यकों की प्रवक्ता है
🚫उन्होंने कांग्रेस पर बिटिश अधिकारियों के विरुद्ध विद्वेष फैलाने का दोषारोपण किया
🚫जब इलाहाबाद में कांग्रेस अधिवेशन होने का फैसला हुआ तब सर सैयद अहमद व वाराणसी के राजा शिवप्रसाद सितारेहिंद ने इसका विरोध किया था
🚫सैयद अहमद को लगा कि कांग्रेस उनके इलाके में हावीहोने जा रही है
🚫इन विरोधों के बावजूद कांग्रेस का यह अधिवेशन पिछले अधिवेशनों से अधिक सफल रहा
🚫अधिवेशन में 1248 सदस्यों ने भागलिया था
🚫जार्ज यूले ने अपने अध्यक्षीय भाषण में कहा कि कांग्रेस जन का नारा है कि हम सबसे पहले भारतीय हैं हिंदू मुस्लिम सिक्ख और ईसाई बादमें हैं
🚫यह पहला अवसर था जब लाला लाजपत राय कांग्रेस अधिवेशन में शामिल हुए और हिंदी में भाषण दिया
🚫कांग्रेस ने ब्रिटिश साम्राज्य वादियों के क्षुब्द होने पर उन्हें प्रसन्न करने की कोशिश प्रारंभ की थी
🚫 यहां एक प्रस्ताव पास किया कि कांग्रेस अपनी बैठकों में पारित नियमित प्रस्तावोके लिए जिम्मेदार है और किसी भी दूसरी चीज के लिए नहीं
🚫इन सभाओं के बाहर कांग्रेस के पदाधिकारी या सदस्य जो भी करते हैं उनके लिए कांग्रेस जिम्मेदार नहीं है
🚫इन्होंने जनता के बीच सारे प्रचार प्रसार कार्य बंद कर दिए
🚫प्रचार का काम भारत में बंद करके इसका क्षेत्र ब्रिटेन को बनाया गया
🚫जुलाई 1889 में लंदन में इंडियन नेशनल कांग्रेस की ब्रिटिश कमेटी की स्थापना की गई
🚫इस कमेटी ने इंग्लैंड में कांग्रेस के प्रचार के लिए इंडिया नामक पत्र निकाला था

🎾🎗भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस का पंचम अधिवेशन🎗🎾 
🚫भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस का 5 वा अधिवेशन 1889 में विलियम वेडरबर्न की अध्यक्षता में मुंबई में हुआ था
🚫मुंबई अधिवेशन में इंग्लैंड में कांग्रेस के दृष्टिकोण का प्रचार करने के लिए एक प्रतिनिधिमंडलभेजने का फैसला किया गया
🚫इस अधिवेशन के सदस्य चुने गए जार्ज यूले ह्यम एडम नॉर्टन हावर्ड फिरोज शाह मेहता मनमोहन घोष सुरेंद्रनाथ बनर्जी सैफुद्दीन एन०मचोलकर और डब्ल्यू सी बनर्जीथे
🚫इसमें भारतीय सदस्यों में से अधिकांश इंग्लैंडनहीं जा सके थे
🚫ब्रिटेन में कांग्रेस के प्रचार का फल यह हुआ कि चार्ल्स ब्रैडला ने जो 1889 में बंबई अधिवेशन में शामिल हुए थे
🚫उन्होंने एक विधेयक तैयार किया और उसे ब्रिटिश संसद में 1890में पेश किया
🚫लेकिन इसका प्रबल विरोध होने के कारण इस विधेयक को वापस ले लिया गया
🚫इसके बदले में ब्रिटिश सरकार ने खुद एक विधेयक पेश किया जो 1892 के इंडियन काउंसिल एक्ट के रूप में पारित हुआ
🚫इस अधिवेशन में पहली बार महिलाओं ने भागलिया था
🚫इसी अधिवेशन में 21 वर्षीय मताधिकार का प्रस्ताव पारित हुआ था और कांग्रेस की एक ब्रिटीश समितिका गठन लंदन में किया गया

🎾🎗भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस का छठा अधिवेशन🎗🎾 

🚫1890 मैं कांग्रेस का अधिवेशन कलकत्ता मैं फिरोजशाह मेहता की अध्यक्षता में हुआ था
🚫 यहां पर कांग्रेस के नेताओं ने यह प्रस्ताव पास किया कि 1892 का कांग्रेस अधिवेशन भारत में नहीं बल्कि इंग्लैंड में कियाजाएगा
🚫बशर्ते सभी केंद्रों की स्टैंडिंग कमेटीयों के सदस्य की अनुमति प्राप्त हो जाए
🚫ऐसा करके कांग्रेसी यह साबित करना चाहते थे कि उन्हें ब्रिटेन की सरकार और ब्रिटीश जनता की न्यायप्रियता में पूरा विश्वास है
🚫लेकिन यह अधिवेशन इंग्लेण्ड में ना हो सका, यह भारत में हुआ
🚫कलकत्ता विश्वविद्यालय की पहली महिला स्नातक कादंम्बिनी गांगुली ने 1890 में कलकत्ता कांग्रेस अधिवेशनको संबोधित किया था
🚫 यह इस बात का सूचक था कि भारतीय नारी की अतीतमें जो उपलब्धियां थी
🚫वह बीच में लुप्त हो जाने के बाद एक बार फिर उजागर होने लगी थी

🎾🎗भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस का 7 वा अधिवेशन🎗🎾 
🚫भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस का 7 वां वार्षिक अधिवेशन 26 से 27 दिसंबर 1891 को नागपुर में भी आनंद चार्लू की अध्यक्षतामें गठित हुआ था
🚫उन्होंने अपने भाषण में कहा कि कांग्रेस का दूसरा नाम राष्ट्रीयता है

🎾🎗भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस का आठवॉ अधिवेशन🎗🎾 
🚫भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस का आठवां अधिवेशन 28-29 दिसंबर 1892 को w c बनर्जी की अध्यक्षता में इलाहाबादमें आयोजित हुआ था
🚫इस अधिवेशन की मुख्य बात यह थी कि 1892 का कांग्रेस अधिवेशन इंग्लैंड में किया जाएगा बशर्ते सभी केंद्रों के स्टैंडिंग कमेटी के सदस्य की अनुमतिप्राप्त हो जाए
🚫लेकिन यह अधिवेशन इंग्लैंड में नहींहो सका

🎾🎗भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस का नवा अधिवेशन🎗🎾

🚫27-28 दिसंबर 1893 को दादा भाई नौरोजी की अध्यक्षता में लाहौर में आयोजित किया गया था
🚫इस अधिवेशन में सिविल सेवा परीक्षा भारत में करवानेकी मांग की गई थी

🎾🎗भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस का दसवॉ अधिवेशन🎗🎾 
🚫1894 में दिसंबर में अल्फ्रेड बेव की अध्यक्षता में मद्रासमें हुआ था
🚫इस अधिवेशन में अल्फ्रेड बेब ब्रिटिश संसद के एक आयरिश सदस्य थे

🎾🎗भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस का 11 अधिवेशन🎗🎾
🚫28 दिसंबर 1895 को सुरेंद्रनाथ बनर्जी की अध्यक्षता में पुणेमें आयोजित हुआ था 🚫इस अधिवेशन में तिलक ने एम० जी० रानाडे द्वारा प्रारंभ सोशल कांफ्रेंस को कांग्रेस मंच पर बंदकरवा दिया था

🎾🎗भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस का 12 वा अधिवेशन🎗🎾
🚫27-28 दिसंबर 1896 को रहीम तुल्ला सयानी की अध्यक्षता में कलकत्ता में आयोजित किया गया था
🚫इस अधिवेशन में कांग्रेस मंच से बंकिम चंद्र चटर्जी ने वंदे मातरम गान पहली बार किया था                        

9828603603  9950833934
🚫1905 में जी० के०गोखले की अध्यक्षता में बनारस में हुआ था
🚫इस अधिवेशन में बंग भंग और कर्जन के प्रतिक्रियावादी शासनकी निंदा की गई थी
🚫इस अधिवेशन में गोखले को विपक्ष के नेता की उपाधिदी गई थी 


🎾🎗भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस का 22 वां अधिवेशन🎗🎾 
🚫1906 में दादाभाई नौरोजी की अध्यक्षता में कलकत्ता में हुआ था
🚫इस अधिवेशन में किसी अध्यक्ष द्वारा पहली बार स्वराज शब्द का प्रयोग किया गया था

🎾🎗भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस का 23 वां अधिवेशन🎗🎾 
🚫1907 में रास बिहारी घोष की अध्यक्षता में सूरत में हुआ था
🚫यह अधिवेशन पहले नागपुर में होना था
🚫स्वराज शब्द की व्याख्याको लेकर कांग्रेस का विभाजन हो गया
🚫इस अधिवेशन में कांग्रेस का विभाजन नरम और गरम दल के रूप में हुआ था
🚫इस कारण सूरत अधिवेशन की कार्यवाही पूरी नहींहो सकी
🚫अतः अधिवेशन को मद्रास में पुनः आयोजितकिया गया
🚫कांग्रेस विभाजन के बाद नरम पंथियों का कांग्रेस पर प्रभुत्व स्थापित हो गया

🎾🎗भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस का 23 वा अधिवेशन🎗🎾 
🚫रास बिहारी घोष की अध्यक्षता में 1908 मद्रास में हुआ था
🚫सूरत अधिवेशन की कार्यवाही पूरी नहीं होने के कारण पुन:23 वा अधिवेशन आयोजित किया गया था
🚫इस अधिवेशन में कांग्रेस के संविधान का निर्माणकिया गया था 


🎾🎗भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस का 26 वां अधिवेशन🎗🎾 
🚫1911 को दिसंबर में वीशन नारायण दर की अध्यक्षता में कलकत्तामें आयोजित किया गया था
🚫इस अधिवेशन में कांग्रेस मंच से पहली बार जन गण मन का गान हुआ था 


🎾🎗भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस का 27 वा अधिवेशन🎗🎾
🚫दिसंबर 1912 को आर एन मुधोल कर की अध्यक्षता में बाकि पुरमें आयोजित किया गया था
🚫इस अधिवेशन में ह्यम को कांग्रेस का पिता कहा गया था

🎾🎗भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस का 31वा अधिवेशन🎗🎾 
🚫1916 दिसम्बर में ए० सी०मजूमदार (अंबिका चरण मजूमदार)की अध्यक्षता में लखनऊमें हुआ था
🚫इस अधिवेशन में तिलक और एनी बेसेंट के प्रयासों से कांग्रेस और मुस्लिम लिंग मे समझौता किया था
🚫इस समझौते को लखनऊ समझौता या कांग्रेस लीग पैक्टकहा गया था
🚫मदन मोहन मालवीयने इस समझौते का विरोध किया था
🚫इस अधिवेशन में मुस्लिम लिंग की पृथक निर्वाचन की मांग को स्वीकारकर लिया गया था
🚫इस अधिवेशन में नरम दल और गरम दल पुन: एकहो गए थे
🚫इसी अधिवेशन में तिलक ने नारा दिया था कि स्वराज मेरा जन्मसिद्ध अधिकार हैऔर मैं इसे लेकर ही रहूंगा 


🎾🎗भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस का 32 वा अधिवेशन🎗🎾 
🚫भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस का 32 वा अधिवेशन दिसंबर 1917 एनी बेसेंट की अध्यक्षता में कलकत्ता में हुआ था
🚫इस अधिवेशन में पहली बार किसी महिला सदस्य को अध्यक्षबनाया गया था,यह एक आयरिश महिला थी

🎾🎗भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस का 33वा अधिवेशन🎗🎾 
🚫भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस का 33 वा अधिवेशन 26 से 31 दिसंबर 1918 को मदन मोहन मालवीय की अध्यक्षता में दिल्ली में आयोजित किया गया था
🚫इस अधिवेशन का अध्यक्ष बाल गंगाधर तिलक को चुनागया था,लेकिन शिरोल केस में लंदन जाने के कारण मदन मोहन मालवीय को अध्यक्षबनाया गया
🚫पहली बार मुंबई में 1918 में सैय्यद हसन इमाम की अध्यक्षता में कांग्रेस का विशेष अधिवेशन हुआ
🚫यह अधिवेशन  रोलट एक्ट पर विचार विमर्शके लिए बुलाया गया था
🚫इस अधिवेशन में सर्व प्रथम मौलिक अधिकारों की मांग की गई थी
🚫इस अधिवेशन में एस एन बनर्जी सहित अनेक नरम पथिंयों ने इस्तीफादिया था

🎾🎗भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस का 35वा अधिवेशन🎗🎾 
🚫1920 में भी विर राघवाचारी की अध्यक्षता में नागपुर में आयोजित किया गया था
🚫इस अधिवेशन में कांग्रेस के संविधान में परिवर्तनकिया गया था और कहा गया कि 25 पैसे चंदा देख कर कोई भी 21 वर्ष का व्यक्ति कांग्रेस का सदस्य बन सकता है
🚫इस अधिवेशन मे देश को पहली बार भाषायी आधार पर प्रांतो में विभाजित करने की बात कही गई थी और हिंदी को संपर्क भाषा के रूप में इस्तेमाल करने पर जोर दिया गया था
🚫इस अधिवेशन में पहली बार कांग्रेस में रियासतों के प्रति अपनी नीति की घोषणा की थी
🚫नागपुर अधिवेशन में असहयोग आंदोलन का प्रस्ताव पारित किया गया था
🚫सितंबर 1920 में कांग्रेस का कलकत्ता में लाला लाजपत राय की अध्यक्षता में एक विशेष अधिवेशन हुआ था
🚫जिस में असहयोग आंदोलन का प्रस्ताव स्वीकार किया गया था
🚫कांग्रेस का नियंत्रण 15 सदस्य मंत्रिमंडल के अधीन करने की घोषणा की गई थी