माउंटबेटन योजना 3 जून 1947

🔹समय- 3 जून 1945
🔹माउंटबेटन का पूरा नाम-लार्ड लूई माउंटबेटन
🔹लार्ड माउंटबेटन-भारत के गवर्नर जनरल
🔹भारत आगमन-*24 मार्च 1947
🔹माउंटबेटन की प्रथम मुलाकात-पंडित जवाहरलाल नेहरू से
🔹गांधी जी से मुलाकात-*31 मार्च 1947
🔹माउंटबेटन योजना-भारत का विभाजन
🔹माउंटबेटन द्वारा सर्वप्रथम विभाजन के लिए तैयार किया गया- सरदार वल्लभ भाई पटेल और उसके बाद पंडित जवाहरलाल नेहरू

🔹लार्ड माउंटबेटन का दुबारा भारत आगमन-*31 मई 1947
🔹माउंटबेटन योजना की प्रस्तुति-*3 जून 1947
🔹लार्ड माउंटबेटन योजना के अंय नाम-मन बाटन योजना, 3 योजना
🔹माउंटबेटन योजना का निर्णय- भारत विभाजन की एकमात्र विकल्प है
🔹नेहरु को भारत विभाजन के लिए तैयार किया गया-लेडी माउंटबेटन द्वारा
🔹माउंटबेटन योजना का विरोध किया-कांग्रेस समिति के 161 सदस्य ने

🍇☘🍇☘🍇🍇☘🍇☘🍇
वेवल के स्थान पर लार्ड लुई माउंटबेटन को भारत का वायसराय नियुक्त करने की घोषणा की

  • 24 मार्च 1947 को लॉर्ड माउंटबेटन गवर्नर जनरल बनकर भारत आए
  • भारत आते ही लॉर्ड माउंटबेटन ने घोषणा कर दी कि वह कुछ ही महीनों में भारतीयों को सत्ता सौंप देंगे
  • माउंटबेटन ने यहां की राजनीतिक स्थितियों पर काबू पाने के लिए देश के विभिन्न नेताओं से विचार विमर्श किया यह विचार विमर्श 24 मार्च से 15 अप्रैल के बीच तक किया गया
  • कांग्रेस के प्रमुख नेताओं में सर्वप्रथम लॉर्ड माउंटबेटन ने पंडित जवाहरलाल नेहरू से मुलाकात की
  • महात्मा गांधी से लार्ड माउंटबेटन की पहली मुलाकात 31 मार्च 1947 को हुई
  • इसके पश्चात लार्ड माउंटबेटन वल्लभभाई पटेल से मिले
  •  मोहम्मद अली जिन्नाह से माउंट बेटन की मुलाकात कांग्रेस नेता मौलाना अबुल कलाम आजाद जे. बी.कृपलानी .कृष्ण मेनन और मुस्लिम लीग सचिव लियाकत अली के साथ हुई
  • मोहम्मद अली जिन्ना अपनी पाकिस्तान की मांग पर अड़े रहे इससे कांग्रेसी नेताओं को स्पष्ट हो गया था कि भारत की एकता असंभव है
  • सिक्ख प्रतिनिधियों में बलदेव सिह, मास्टर तारा सिंह और अन्य सिक्ख नेताओं के अतिरिक्त बीकानेर और भोपाल की भारतीय रियासतों के राजाओं से भी बातचीत की
  • 24 मार्च से 15 अप्रैल के बीच के विभिन्न राजनीतिक दलों के नेताओं से वार्तालाप के बाद वायसराय लॉर्ड माउंटबेटन इस निष्कर्ष पर पहुंचे कि भारतीय समस्या का एकमात्र समाधान देश का विभाजन और पाकिस्तान की स्थापना करना था
  •  गांधीजी ने अपनी मुलाकात के दौरान यह सुझाव दिया कि अंतरिम सरकार पूर्ण रूप से मुस्लिम लीग के नेता मोहम्मद अली जिन्ना के हाथों में सौंप दी जाए जिससे भारत में सांप्रदायिक दंगों को रोका जा सके
  • लेकिन गांधीजी का यह सुझाव कांग्रेस नेताओं और वर्किंग कमेटी को स्वीकार नहीं था
  • मोहम्मद अली जिन्ना ने भी अपनी मुलाकात के दौरान गांधीजी के सुझाव का विरोध किया था
  • जब लार्ड माउंटबेटन को यह पता चल चुका था कि भारतीय समस्याओं का समाधान केवल विभाजन है तो लार्ड माउंटबेटन कांग्रेस नेतृत्व को अपनी राय के पक्ष में लाने के लिए कार्य करना प्रारंभ कर दिया
  • माउंटबेटन ने सबसे पहले सरदार वल्लभभाई पटेल को देश के बंटवारे के पक्ष में किया ,इसके बाद पंडित जवाहरलाल नेहरु को समझा कर बटवारे के लिए हां करवाया
  • पंडित जवाहरलाल नेहरू को समझाने के कार्य में माउंटबेटन से ज्यादा लेडी माउंटबेटन ने  सहयोग किया


🍇☘🍇☘🍇🍇☘🍇☘🍇
🌺भारत विभाजन के खिलाफ🌺
लेकिन अबुल कलाम आजाद देश विभाजन के खिलाफ थे उन्होंने स्पष्ट शब्दों में कहा मैं बटवारे के खिलाफ रहा हूं और अभी भी हूं  

गांधी जी ने भी कहा अगर कांग्रेस बंटवारा मंजूर करेगी तो उसे मेरी लाश के ऊपर से गुजरना पड़ेगा जब तक मैं जिंदा हूं भारत के बटवारे के लिए कभी राजी नहीं होगा और अगर मेरा बस चला तो कांग्रेस को भी इसे मंजूर करने की इजाजत नहीं दूंगा
🍇☘🍇☘🍇🍇☘🍇☘🍇

  • 2 अप्रैल 1947 को महात्मा गांधी लॉर्ड  माउंटबेटन से मिले उन्होंने माउंटबेटन को सुझाव दिया कि जिन्ना को सरकार बनाने दिया जाए
  • लार्ड माउंटबेटन को यह सुझाव कुछ हद तक मंजूर था लेकिन इस सुझाव का जबरदस्त विरोध पंडित जवाहरलाल नेहरु और सरदार वल्लभभाई पटेल दोनों ने किया और गांधीजी को यह सुझाव वापस लेने के लिए बाध्य किया गया
  • मौलाना अबुल कलाम आजाद का विचार था कि गांधीजी सरदार पटेल के प्रभाव के कारण बटवारे का विरोध ना करें और उनके समर्थक बन जाए और ऐसा ही हुआ सरदार वल्लभ भाई पटेल के प्रभाव में गांधीजी विभाजन के लिए  अनिच्छापूर्वक की तैयार हो गये
  • कांग्रेस नेतृत्व को विभाजन के लिए तैयार करने के पश्चात लार्ड माउंटबेटन मई 1947 में विचार विमर्श के लिए लंदन गए
  •  लार्ड माउंटबेटन नें लंदन पहुंचकर ब्रिटिश सरकार के सामने देश विभाजन की अपनी योजना पेश किए
  •  ब्रिटिश सरकार की सहमति पाकर लार्ड माउंटबेटन दुबारा 31 मई 1947 को वापस आए और कांग्रेस और मुस्लिम लीग नेताओं से बातचीत की

☄🌴लॉर्ड माउंटबेटन की योजना🌴☄
3 जून 1947 को लॉर्ड माउंटबेटन ने एक वक्तव्य दिया जिसमें भारतीय समस्या का हल इस प्रकार सुझाया
🌐🌐🌹🌐🌹🌹🌐🌹🌐🌐

  • महामहिम सम्राट की सरकार की कोई इच्छा नहीं कि वह संविधान सभा के कार्य में बाधा डाले
  • उन्होंने यह भी स्पष्ट किया कि सभा द्वारा बनाया गया संविधान उन प्रांतों पर लागू नहीं किया जा सकता जो इसे स्वीकार करने को उद्यत नहीं है
  • महामहिम की सरकार को ऐसे प्रदेशों की इच्छाओं को जानने के लिए निम्नलिखित तरीका ही संतोषजनक प्रतीत होता है
  • उनका संविधान विद्यमान संविधान सभा ही बनाएं अथवा एक नई सविधान या पृथक संविधान सभा जिसमें सब प्रदेशों के प्रतिनिधि भाग ले
  • जिन्होंने इस सभा में भाग लेना अस्वीकार कर दिया है जब ऐसा हो जाएगा तो यह निर्णय करना होगा कि किस शक्ति को अथवा शक्तियों को प्रभु सत्ता का हस्तांतरण किया जाए
  • पंजाब और बंगाल में हिंदू और मुसलमान बहुसंख्यक जिलों के प्रांतीय विधान सभा के सदस्यों की अलग-अलग बैठक बुलाई जाए
  • इस बैठक में एक मुस्लिम बहुसंख्यक भाग और दूसरा शेष प्रांत के प्रतिनिधियों का है
  • इन बैठकों में यह निश्चित  किया जाएगा कि प्रांतों का बंटवारा हो अथवा नहीं
  • यदि कोई भी प्रांत का साधारण बहुमत बंटवारे के पक्ष में मत देता है  तो  बंटवारे का प्रबंध किया जाए


सिंध की प्रांतीय सभा को भी विशेष बैठक में ऐसा  निर्णय करना था
🌐🌐🌹🌐🌹🌹🌐🌹🌐🌐

  • उत्तर पश्चिमी सीमा प्रांत में जनमत द्वारा यह पता लगाया जाए की वह भारत के किस भाग में के साथ रहना चाहेगा
  • भारतीय नरेशों के प्रति पुरानी नीति रहेगी की  सर्वोच्चता के अधिकार उन राज्यों को वापस लौटा दिए जाएंगे
  • असम के मुस्लिम बहुसंख्यक जिले सिलहट में भी जनमत संग्रह का प्रावधान था कि
  • वह आसीम में रहे अथवा पूर्वी बंगाल में सम्मिलित हो
  • लॉर्ड माउंटबेटन का सबसे मुख्य बिंदु हिंदुस्तान को दो हिस्सों भारतीय संघ और पाकिस्तान में बांट दिया जाएगा
  • यदि बंटवारा होना था तो इस योजना में सीमा आयोग का प्रावधान भी था ताकि बंटवारे की सीमाएं निश्चित की जा सके
  • इस वक्तव्य के अंत में यह भी कहा गया कि महामहिम की सरकार इसी वर्ष में एक विधेयक पारित करेगी ताकि एक अथवा दो प्राधिकरणों को प्रादेशिक शासन स्वतंत्रता के आधार पर सत्ता सौंपी जा सके
  • इसमें यह भी कहा गया ब्रिटिश राष्ट्रमंडल में बने रहना अपनी इच्छा पर निर्भर होगा


 ☄🌴लॉर्ड माउंटबेटन योजना पर स्वीकृति🌴☄

  • लॉर्ड माउंटबेटन द्वारा 3 जून 1947 को जो योजना प्रस्तुत की गई उसे कांग्रेस और मुस्लिम लीग दोनों ने स्वीकार कर लिया
  • बंगाल और पंजाब में जिलों के विभाजन और सीमा निर्धारण का कार्य एक कमीशन के अधीन सौंपा गया
  • स्पष्टत:माउंटबेटन की योजना देश के 2 टुकड़े कर देने की थी साथ ही यह देसी रियासतों को अधिकार देती थी कि वह चाहे तो भारतीय संघ या पाकिस्तान किसी में शामिल ना होकर ब्रिटेन के अधीन बनी रह सकती थी
  • माउंटबेटन योजना को कांग्रेस कार्यसमिति मे 14 जून 1947 की बैठक में स्वीकृति हेतु गोविंद बल्लभ पंत ने (देश के विभाजन का)प्रस्ताव रखा गया
  • इस प्रस्ताव का समर्थन अब्दुल कलाम आजाद ने किया जो प्रारंभ में बंटवारे का विरोध कर रहे थे
  • अबुल कलाम आजाद ने कहा कि कांग्रेस कार्य समिति का फैसला सही फैसला नहीं है लेकिन कांग्रेस के सामने कोई और रास्ता नहीं है
  • पटेल और नेहरू ने भी इस प्रस्ताव का समर्थन किया गांधी ने प्रस्ताव को स्वीकार करने की सलाह दी
  • इस प्रस्ताव का विरोध करने वाले नेताओं में सिंध कांग्रेस के नेता चौथराम गिडवानी, पंजाब कांग्रेस के अध्यक्ष डॉक्टर किचलू ,पुरुषोत्तम दास टंडन ,मौलाना हाफिज उरर्रहमान ने इसका विरोध किया
  • महात्मा गांधी पंडित जवाहरलाल नेहरु और सरदार वल्लभ भाई पटेल के समर्थन के बावजूद कांग्रेस कार्यसमिति का प्रस्ताव अखिल भारतीय कांग्रेस समिति में सर्वसम्मति से पास नहीं हो सका था
  •  देश के विभाजन को अखिल भारतीय कांग्रेस समिति ने सर्वसम्मति से स्वीकार नहीं किया कांग्रेस समिति के108 सदस्य विभाजन के विरोध में थे या तटस्थ रहे


🌴☄भारत का बटवारा🌴☄ 

  • 3 जून की योजना सभी दलों ने स्वीकार कर ली थी
  • मुस्लिम लीग बहुत प्रसन्न थी क्योंकि उसे स्वदेश मिल गया था चाहे वह कटा-छंटा था
  •  मुस्लिम लीग की काउंसिल की बैठक 10 जून 1947 को दिल्ली में बुलाई गई मुस्लिम लीग में भारी मतों से योजना को स्वीकार किया
  • लीग की बैठक मे उपस्थिति  400 सदस्यों में से सिर्फ 10 सदस्यों ने इसका विरोध किया था
  • कांग्रेस ने बटवारा इसीलिए स्वीकार कर लिया क्योंकि इसके अतिरिक्त कोई दूसरा मार्ग नहीं था
  • सिक्खो ने अनचाछे होकर इसे स्वीकार किया
  • यह योजना  बिना किसी विलंब के लागू कर दी गई
  • पंजाब और बंगाल की सभाओ ने बटवारा मांगा और पूर्वी बंगाल और पश्चिमी  पंजाब पाकिस्तान में सम्मिलित हो गए
  • इन दोनों प्रांतों के बंटवारे के लिए सीमा आयोग नियुक्त किया गया
  • उत्तरी पश्चिमी प्रांत के जनमत संग्रह का परिणाम पाकिस्तान के पक्ष में था क्योंकि प्रांतीय कांग्रेस ने इस जनमत संग्रह में भाग नहीं लिया था
  • कांग्रेस द्वारा माउंटबेटन योजना को स्वीकार कर लेने के बाद पश्चिमोत्तर सीमा प्रांत के राष्ट्रवादी खुदाई खिदमतगार के नेता अब्दुल गफ्फार खाँ धर्म संकट में पड़ गए
  • उन्होंने मांग की कि अलग पठानिस्तान या पख्तूनिस्तान की योजना के बारे में भी जनमत लिया जाए लेकिन माउंटबेटन ने इससे इंकार कर दिया
  • फलत: पाकिस्तान या भारतीय संघ में सम्मिलित होने के बारे में जनमत लेने के समय उन्होंने बहिष्कार का नारा दिया
  • मुस्लिम लीग ने सांप्रदायिकता का प्रचार कर और अनेक जाली वोट डलवाकर पश्चिमोत्तर सीमा प्रांत को पाकिस्तान में शामिल होने का फैसला करवाया ​
  • बलूचिस्तान और सिंध पाकिस्तान में सम्मिलित हो गए