मुंशी प्रेमचंद

💐 मुंशी प्रेमचंद💐

🌹   1880 — 1936🌹
*मुंशी प्रेमचंद का जन्म बनारस के गांव लूंगी में हूआ I  

उनका असल नाम धनपतराय था I गांव के लोग नवाबराय 

भी कहते थे इनके दादा गुरु शाही लाल पटवारी थे I पिता अजय 

लाल डाकखाने में मुंशी थे I
माता का नाम आनंदी देवी था*

📕📗📒🖊 शिक्षा
🔽🔽🔽🔽🔽🔽🔽
* प्रेमचंद की शुरूआती पढ़ाई गांव के मदरसे में हुई दसवीं पास करने के बाद 1899 में बनारस के करीब चुनारगढ़ केक मिशन स्कूल में सहायक अध्यापक के रूप में नौकरी लगी चिनार मिशन स्कूल के बाद जुलाई 1920 बहराइच के जिला स्कूल में स्थाई अध्यापक के रूप में लगे इसी साल सहायक प्रथम श्रेणी अध्यापक कउनका तबादला प्रतापगढ़ हो गया अध्यापक प्रशिक्षण की वाह कायदा शिक्षा हासिल करने की गरज से इलाहाबाद के शिक्षक प्रशिक्षण कॉलेज में दाखिला लिया और प्रथम श्रेणी से डिग्री हासिल की इसी दौर में उन्होंने हिंदी उर्दू स्पेशल वर्नाक्यूलर ट की परीक्षा भी पास कर ली ट्रेनिंग के बाद 1904 में इलाहाबाद के एक मिडिल स्कूल में हेड मास्टर रहे 1905 पूर्व 1905 में कानपुर के जिला स्कूल में मास्टर की हैसियत से तबादला हो गया 1909 में महुआ जिला हमीरपुर यूपी के लिए तबादला हो गया और पढ़ाने की बजाय उन्हें स्कूल के निरीक्षण का काम सौंपा l
महुआ रहने के दौरान 1916 में 12वीं उत्तीर्ण की और 1919 में गोरखपुर में रहते हुए इलाहाबाद यूनिवर्सिटी से प्राइवेट के रूप में b.a. का इम्तिहान पास किया गोरखपुर के जलसे में महात्मा गांधी के विचारों से प्रभावित होकर 1920 में सरकारी नौकरी समाज सेवा और लेखन का कार्य शुरु कर दिया*

📚📚 प्रेमचंद का साहित्य में योगदान📚📚
🔽🔽🔽🔽🔽🔽🔽
प्रेमचंद को कहानियां लिखने का शौक बचपन से था उनके द्वारा लिखी गई पहली प्रति एक ड्रामा था जो उन्होंने लगभग 13 साल की उम्र में लिखा था इसका विषय था “एक मामू का रुमाल “यह ड्रामा छपा नहीं|
प्रेमचंद जी का प्रथम उपन्यास Asrare majbid ( देवस्थान रहस्य) बनारस से प्रकाशित होने वाले उर्दू अखबार आवाज ए खल्क में 8 अक्टूबर 1903 से फरवरी 1905 तक धारावाहिक के रूप में आने लगा था इस पर लेखक का नाम धनपतराय उर्फ नवाबराय इलाहाबादी लिखा जाता था I

1996 कृष्णा उपन्यास प्रकाशित होता है जिसमें अंग्रेजी को शासन की निंदा की गई है प्रेमा और कृष्णा बाद में कुछ परिवर्तित रूप में क्रमश “प्रतिज्ञा “और “गबन “नाम से 1922-30 में प्रकाशित किए गए हैं |

प्रेमचंद का दूसरा नोवेल हम खुर्मा  व हम शबाब है जॉब 1996 कानपुर से दयानारायण निगम ने जारी किया| वह एक मासिक पत्रिका जमाना भी जारी करते थे जिसने प्रेमचंद के बहुत से नावेल कहानियां निबंध जारी हुए |

1907 के पारम में प्रेमचंद ने अपनी प्रथम कहानी “दुनिया का सबसे अनमोल रतन” लिखी जो उसी वर्ष जमाना में प्रकाशित हुईं |

1908 के अंत भाग में प्रेमचंद जी का प्रथम कहानी संग्रह सोजे वतन प्रकाशित हुआ इसमें वह “शेख मखमूर” ” यही मेरा वतन है ”  “संसारिक प्रेम” और “देशप्रेम”  आदि कहानियां संकलित है |

1910 तक उन की कहानियां निबंध नोवेल नवाब राय के नाम से छपती रही | प्रेमचंद की कहानियों का पहला भाग सोजे वतन भी नवाब राय के नाम से जारी हुआ लेकिन जब अंग्रेज सरकार को महसूस हुआ की इन की कहानियां वतन से मोहब्बत और आजादी हासिल करने की सोच लोगों में पैदा कर रही है तो सरकार ने इनकी सभी कहानियों को जप्त कर लिया पूछताछ के बाद कलेक्टर ने प्रेमचंद से कहा कि उनकी कहानियों से राजद्रोह की बू आती है वह कहता है की ” thank your stars that you live under British empire. Your hands would have been chopped if it were mogul rule.

सोजे वतन की 29000 गोपिया छपी थी इनमें से 320 चुकी थी बाकी बची गोपियों को प्रेमचंद के सामने कलेक्टर ने आग लगा दी|

इस प्रकार बरसों की मेहनत से नवाब राय के नाम से जो शोहरत पाई थी उसे छोड़ना पड़ा और 1910 अक्टूबर-नवंबर में निगम जी द्वारा सुझाया गया प्रेमचंद नाम धारण कर लेते हैं और उसी नाम से जीवन पर्यंत लिखते है|

इस नाम से से उनकी प्रथम कहानी ” बड़े घर की बेटी” के नाम से छपती है यह कहानी जमाना में दिसंबर 1910 में प्रकाशित हुई थी |

प्रेमचंद की कहानियां
📚📚📚📚📚📚📚
🔽🔽🔽🔽🔽🔽
1. दुनिया का सबसे अनमोल रतन (1907)
2. सांसारिक प्रेम और देशप्रेम (अप्रैल 1908)
3. शेख मखमूर (1909 से पूर्व)
4. शोक का पुरस्कार  (1909 से पूर्व)
5. बड़े घर की बेटी (दिसंबर 1910)
6. आखिरी मंजिल (सितंबर 1911)
7. नसीहतों का दफ्तर( जून 1912)
8. धर्मसंकट ( 1913)
9. अनाथ लड़की (जून 1914)
10. अपनी करनी (अक्टूबर 1914)
11. गैरत की कटार (1915)
12. जुगनू की चमक (1916)
13. मर्यादा की बेटी (दिसंबर 1917)
14. वफा का खंजर (19 18)
15. सब देसी (1919)
16. मृत्यु के पीछे (जून 1920)
17.l बूढ़ी काकी  (सितंबर 1921)
18. हार की जीत (जनवरी 1922)
19. हजरत अली (1923)
20. नमक का दरोगा
21. शतरंज के खिलाड़ी.
22. दो बैलों की कथा.
23. कफन
24. पंच परमेश्वर
25. सदा गति

प्रेमचंद की नोवेल
📖📖📖📖📖📖📖
🔽🔽🔽🔽🔽🔽
प्रेमचंद नोवेल और कहानीकार की हैसियत से मशहूर हुए इन को उर्दू अफसाना निगारी का  बादशाह कहा जाता था l
“गोदान”.  “निर्मला” “गबन” “बाजारे हुस्न” “कवरदान”  “कायाकल्प” “प्रेमश्रम” इनके मशहूर नावेल है|

प्रेमचंद ने साहित्यकार के कर्तव्य के प्रति लिखा है कि”🖊🖊”साहित्यकार का काम मन बहलाना नहीं है यह तो बांटो और मदारियों का काम है साहित्यकार का काम इससे कई बड़ा है वह हमारा पथ प्रदर्शक होता है वह हमारे मनुष्यत्व को जगाता है  हमने सद्भाव का संचार करता है हमारी दृष्टि को फैलाता है कम से कम उसका यही उद्देश्य होना चाहिए””

प्रेमचंद के विषय में आचार्य हजारी प्रसाद द्विवेदी के शब्दों में कहा जा सकता है*  “” प्रेमचंद शताब्दियों से दलित और अपमानित कृषकों की आवार ते पर्दे में कैद लांछित और अपमानित सहाय नारी जाति की महिमा के जबरदस्त वकील थ””

💐  प्रेमचंद  के जीवन का अंतिम समय💐
प्रेमचंद पाचन क्रिया की शिकायत के कारण अक्सर बीमार रहते थे अपनी मृत्यु से 1 दिन पहले तक वह स्वस्थ हैं दूसरे दिन उनकी पत्नी ने डॉक्टर की सलाह के अनुसार प्रेमचंद को मांस की Akhni  खिला दी जिस कारण उन का हाजमा खराब हो गया और उन्हें खून की उल्टियां होने लगी इस  तरह भारत के महान साहित्यकार प्रेमचंद ने 8 अक्टूबर 1936 को अपनी अंतिम सांस ली I

पुरस्कार 🎖🎖🏆🏆
🔽🔽🔽🔽🔽🔽🔽
1…  प्रेमचंद पुरस्कार *महाराष्ट्र राज्य हिंदी साहित्य अकादमी की ओर से साहित्य के क्षेत्र में उल्लेखनीय कार्य करने वाले साहित्यकार को  दीया जाता है I इसमें ₹25000 नकद स्मृति चिन्ह दीया जाता है|

2…  उत्तर प्रदेश हिंदी संस्थान द्वारा बी प्रेमचंद स्मृति पुरस्कार दिया जाता है|