मोहम्मद अली जिन्ना की 14 सूत्रीय मांग

मुस्लिम लीग के नेता मोहम्मद अली जिन्ना ने नेहरू रिपोर्ट में मुसलमानों के लिए पृथक निर्वाचक मंडल की सुविधा न किए जाने के कारण मुसलमानों के 14 मांगो की एक सूची जारी की गई थी

जिसे मोहम्मद अली जिन्ना की 14 सूत्री फारमुला कहा गया

मोहम्मद अली जिन्ना मुस्लिम संप्रदाय के लिए कुछ रियासतें चाहते थे जिन्हे कांग्रेस ने स्वीकार नहीं किया था

मोहम्मद अली जिन्ना ने अपनी स्थिति को मजबूत करने के लिए मार्च 1929 में 14 सूत्री मांग(शर्ते) प्रस्तुत की जो निम्न प्रकार है

1💦भारत का संविधान परिसंघात्मक हो और अवशिष्ट शक्तियां प्रांतों में निहित हो

2💦प्रांतों को एक समान स्वायत्तता हो

3💦समस्त विधानमंडलों और निर्वाचित निकायों में अल्पसंख्यकों का प्रयास और प्रभावपूर्ण प्रतिनिधित्व हो

4💦केंद्रीय विधान मंडल में मुसलमानों का प्रतिनिधित्व एक तिहाई से कम ना हो

5💦 सांप्रदायिक संबंधों को प्रतिनिधित्व देने के लिए पृथक निर्वाचन मंडल की व्यवस्था जारी रहे

6💦पंजाब, बंगाल और उत्तर पश्चिमी सीमा प्रांत में कोई भी क्षेत्रीय पुनर्वितरण मुस्लिम बहुमत को प्रभावित ना करें


7💦सभी संप्रदायों को धार्मिक स्वतंत्रता हो 


8💦कोई भी विधेयक या प्रस्ताव किसी विधानमंडल अथवा किसी अंय निर्वाचित निकाय में पारित ना हो यदि किसी संप्रदाय के तीन चौथाई सदस्यों ने उसका विरोध किया हो

9💦सिंध को मुंबई से प्रथम किया जाए
10💦उत्तर पश्चिमी सीमा प्रांत और बलूचिस्तान में संवैधानिक सुधार लाए जाएं

11💦राज्य की संपूर्ण सेवाओं और स्थानीय स्वशासी संस्थाओं में मुसलमानों के लिए पर्याप्त स्थान आरक्षित हो

12💦मुस्लिम संस्कृति धर्म स्वीय विधि(पर्सनल लॉ)और पूर्त संस्थाओं(चेरिटेबल इंस्टीटूशन्स) को सुरक्षा प्रदान की जाए

13💦केंद्रीय मंत्रिमंडल और प्रांतीय मंत्रिमंडलों में मुसलमानों का कम से कम एक तिहाई प्रतिनिधित्व हो

14💦केंद्रीय विधान मंडल द्वारा भारतीय परिसंघ की इकाई और राज्यों की सहमती के बिना संविधान में संशोधन ना किया जाए