1. मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे को मिला ‘डिजिटल लीडर ऑफ द ईयर अवॉर्ड’
राजस्थान की मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे को डिजिटल इंडिया समिट 2017 में ‘डिजिटल लीडर ऑफ द ईयर’ अवॉर्ड से सम्मानित किया गया है| केन्द्रीय सूचना प्रोद्योगिकी मंत्री रविशंकर प्रसाद से शुक्रवार को नई दिल्ली में आयोजित समारोह में उद्योग मंत्री राजपाल सिंह शेखावत ने ट्रॉफी ग्रहण की| मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे को प्रमुख शासन सचिव सूचना प्रोद्योगिकी अखिल अरोरा ने यह ट्रॉफी शनिवार को मुख्यमंत्री कार्यालय में भेंट की|
डिजिटल इंडिया समिट के दौरान राजस्थान को तीन अन्य अवॉर्ड भी मिले| इसमें महिला सशक्तीकरण और वित्तीय समावेशन की भामाशाह योजना को ई-गवर्नेंस इनिशिएटिव ऑफ द ईयर अवॉर्ड, राजस्थान पुलिस के क्राइम कंट्रोल और डाटा एनालिसिस केन्द्र अभय कमाण्ड सेंटर को इफेक्टिव यूज़ ऑफ टेक्नोलॉजी फॉर सिक्योरिटी एण्ड सेफ्टी अवार्ड और भामाशाह स्वास्थ्य बीमा योजना को हेल्थ इंश्योरेंस इनिशिएटिव ऑफ द ईयर पुरस्कार मिला| तीनों पुरस्कार सूचना प्रोद्योगिकी और आयोजना विभाग के अधिकारियों ने प्राप्त किए|

2. ऑनलाइन मॉनिटरिंग के लिए विशेष मैप तैयार करें 
मुख्यमंत्री वसुन्धरा राजे ने विभिन्न विभागों को प्रगतिरत परियोजनाओं की ऑनलाइन मॉनीटरिंग के लिए विशेष मल्टी-लेयर कंप्यूटराइज्ड मैप तैयार करने के निर्देश दिए हैं। उन्होंने कहा कि इन नक्शों में कार्य के आरम्भ एवं पूरा होने की तारीख सहित अलग-अगल चरणों में हो रही प्रगति का पूरा विवरण दर्ज होगा। साथ ही, विभिन्न कार्यों के लिए बजट के आवंटन, स्वीकृति तथा भुगतान की स्थिति तथा लाभान्वित लोगों एवं भौगोलिक क्षेत्रों का विवरण भी मैप में ही अपडेट किया जाए। शुक्रवार को मुख्यमंत्री निवास पर ऊर्जा, जलदाय, सार्वजनिक निर्माण और जल संसाधन विभागों की बजट घोषणाओं की क्रियान्विति की समीक्षा कर रही थीं। उन्होंने आधारभूत सेवाएं प्रदान करने वाले ऊर्जा, जलदाय, सार्वजनिक निर्माण और जल संसाधन आदि विभागों को ऐसे इंटरएक्टिव मैप तैयार कर इनमें कार्यों की प्रगति से सम्बन्धित डाटा नियमित रूप से अपडेट करने का सुझाव दिया।\


3. डिजिटल इंडिया मिशन में राजस्थान सबसे आगे
केंद्र सरकार के डिजिटल इंडिया कैंपेन में राजस्थान पहले पायदान पर है। केंद्र सरकार की ओर से 26 मई को आयोजित किए जा रहे डिजिटल इंडिया समिट 2017 में राजस्थान को चार श्रेणियों में पुरस्कार दिए जाएंगे। इन पुरस्कारों की अधिकारिक घोषणा समिट में ही की जाएगी। खास बात यह है कि चार पुरस्कारों में प्रदेश को ‘डिजिटल लीडर ऑफ ईयर’ का पुरस्कार भी दिया जा रहा है। अन्य पुरस्कारों में भामाशाह में ई-गवर्नेंस इनिशिएटिव ऑफ ईयर, अभय कमांड सेंटर और भामाशाह  स्वास्थ्य बीमा योजना में टेक्नोलॉजी के इस्तेमाल के लिए राज्य सरकार को पुरस्कार दिया जाएगा।

4. गांव-ढाणी तक पहुंचेगी विश्व स्तरीय चिकित्सा सुविधाएं
झालावाड़ के एसआरजी चिकित्सालय को शीघ्र ही विश्व स्तरीय चिकित्सा सुविधाओं से जोड़ा जाएगा। राज्य सरकार गांव-ढाणियों के लोगों तक विश्व स्तरीय चिकित्सा सुविधाएं पहुंचाने का प्रयास कर रही है। इन्हीं प्रयासों का परिणाम है कि आज झालावाड़ में न्यूरो चिकित्सा, हिप एंड नी-रिप्लेसमेंट तथा रीढ़ की हड्डी जैसे जटिल ऑपरेशन सफलतापूर्वक किए जा रहे हैं और यहाँ मध्यप्रदेश से भी रोगी उपचार के लिए आने लगे हैं।
श्रीमती राजे गुरुवार को झालावाड़ में चिकित्सा सुविधाओं के विस्तार के लोकार्पण समारोह को सम्बोधित कर रही थीं। मुख्यमंत्री ने जयपुर के ईएचसीसी अस्पताल के सहयोग से झालावाड़ के एसआरजी चिकित्सालय में पुनर्निमित आईसीयू, मेडिकल कॉलेज में ऑटोमेटिक पीसीआर लैब तथा हीरा कुंवर बा महिला चिकित्सालय में आईसीयू का लोकार्पण किया।
मुख्यमंत्री ने आधुनिकतम सुविधाओं से युक्त आईसीयू तैयार करने के लिए ईएचसीसी अस्पताल को धन्यवाद देते हुए कहा कि अब यहाँ के रोगियों को भी विशेषज्ञ चिकित्सकों के परामर्श की सुविधा मिल सकेगी।

4. ‘ट्रिपल-ए’ से आएंगे स्वास्थ्य सूचकांकों में सकारात्मक बदलाव 
मुख्यमंत्री वसुन्धरा राजे ने कहा कि मातृ एवं शिशु स्वास्थ्य तथा पोषण स्तर को बेहतर बनाने के लिए झालावाड़ और बारां ज़िले में अंतरा फाउंडेशन के सहयोग से चलाए जा रहे ‘अक्षदा’ कार्यक्रम के तहत डिजीटल प्लेटफॉर्म पर परिवारों का हैल्थ सर्वे किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि आंगनबाड़ी कार्यकर्ता, आशा सहयोगिनी तथा एएनएम (ट्रिपल-ए) के मिलकर काम करने से प्रसूताओं और बच्चों में कुपोषण की पहचान, इलाज तथा निगरानी जैसे कार्य आसानी से हो पा रहे हैं। इससे चिकित्सा एवं स्वास्थ्य सूचकांकों में सकारात्मक बदलाव आएंगे।
श्रीमती राजे गुरुवार को झालावाड़ डाक बंगले में अंतरा फाउंडेशन के प्रतिनिधियों के साथ ‘अक्षदा’ कार्यक्रम की समीक्षा बैठक को सम्बोधित कर रहीं थी। उन्होंने कहा कि फील्ड में काम करने वाली आंगनबाड़ी कार्यकर्ता, आशा सहयोगिनी तथा एएनएम के पास सूचनाओं का वो स्रोत है जिसका विश्लेषण कर उसका उपयोग प्रदेश भर में चिकित्सा सेवाओं को बेहतर तरीके से पहुंचाने में किया जा सकता है।  


5. कृषि ऋण लेने की प्रक्रिया को सरल और पारदर्शी बनाएं बैंक 
मुख्यमंत्री वसुन्धरा राजे ने बैंकिंग कम्पनियों से कहा है कि कृषि ऋण जारी करने की प्रक्रिया को सरल एवं पारदर्शी बनाया जाए ताकि किसानों को समय पर ऋण उपलब्ध हो सके और उन्हें इस प्रक्रिया में देरी के कारण खुले बाज़ार से अधिक ब्याज दर पर कर्ज़ लेने को मजबूर न होना पड़े। उन्होंने कहा कि बैंक इसकी पूरी व्यवस्था करें कि किसानों को ऋण आवेदन करने के बाद इस प्रक्रिया की पूरी जानकारी एसएमएस पर मिलती रहे।
श्रीमती राजे गुरुवार को कोटा स्थित आरएएसी ग्राउण्ड में ग्राम-2017 के आयोजन स्थल पर राज्य स्तरीय बैंकर्स कमेटी (एसएलबीसी) की बैठक को सम्बोधित कर रही थीं। उन्होंने कहा कि हमने प्रदेश के विकास को ध्यान में रखते हुए भामाशाह योजना के प्रभावी क्रियान्वयन सहित बैंकिंग तंत्र से जुड़ी कई ठोस पहल की हैं। उद्योगों के विकास एवं मकानों के निर्माण के लिए स्टांप ड्यूटी की अधिकतम सीमा 10 लाख रुपए से घटाकर 5 लाख की गई है। भामाशाह रोज़गार सृजन योजना के अंतर्गत शिक्षित बेरोज़गारों, महिलाओं, अनुसूचित जाति, अनुसूचित जनजाति एवं दिव्यांगजन को 5 लाख से 10 लाख रुपए तक के ऋण पर 4 प्रतिशत ब्याज सब्सिडी दी जा रही है। अच्छे लोन रिकॉर्ड वाले किसानों को ब्याज में छूट देने के लिए 370 करोड़ रुपए का प्रावधान वर्ष 2017-18 के राज्य बजट में किया गया है। सरकार ने लघु अवधि ऋणों की अधिक लागत के कारण सहकारी बैंकों को होने वाले नुकसान की भरपाई के लिए 150 करोड़ रुपए का प्रावधान करने का भी निर्णय लिया है। किसान किसी भी एटीएम से निकासी कर सकें, इसके लिए सहकारी बैंकों के किसान क्रेडिट कार्ड धारकों को 26 लाख रूपे किसान डेबिट कार्ड जारी किए जाएंगे।

6. सबसे सस्ती बिजली देगा भड़ला सोलर पार्क
बाप क्षेत्र के भड़ला गांव में 10 हज़ार एकड़ में स्थापित एशिया के सबसे बड़े सोलर पार्क में देशी-विदेशी कंपनियों के सोलर प्लांट स्थापित होने से बिजली उत्पादन के सपने अब साकार होने लगे हैं।
भड़ला सोलर पार्क के लिए हाल ही नई दिल्ली में हुई बिड में मात्र 2.44 रुपए प्रति यूनिट बिजली उत्पादन का पीपीए (पॉवर परचेज़ एग्रीमेंट) हुआ है, जो कोयले से उत्पादित बिजली की औसत दर करीब 3.20 रुपए प्रति यूनिट से काफी सस्ती दर है। हाल ही में बिडिंग प्रक्रिया में भड़ला सोलर पार्क के लिए प्रति यूनिट बिजली 2.44 रुपए पर पीपीए हुआ है। देश में कोयले से बनने वाली बिजली की बात करें तो इस बिजली की औसतन दर करीब 3.20 रुपए प्रति यूनिट रहती है। ऐसे में अब तक की सबसे कम टैरिफ रेट पर भड़ला सोलर पार्क के लिए बिड हुई है।

7. पौराणिक और वैश्विक संस्कृति के फ्यूज़न से महकी ग्राम की शाम
‘ग्लोबल राजस्थान एग्रीटेक मीट 2017’ के पहले दिन आरएसी ग्राउंड के मुख्य सभागार में शाम को हुई सांस्कृतिक संध्या पौराणिक और वैश्विक संस्कृति के फ्यूज़न से महक उठी। भारत और स्पेन के दल ‘सोहिनीमोक्ष वल्र्ड डांस’ ने अपनी मनमोहक फ्यूज़न डांस की प्रस्तुति दी और दर्शकों को मंत्र-मुग्ध कर दिया।
‘गंगा- वेयर द वल्र्ड मीट्स’ नामक इस फ्यूज़न डांस शो में कलाकारों ने शिव के तांडव से लेकर प्राचीन भारतीय शास्त्रीय नृत्य को आधुनिक रंगों में पेश किया। मंत्रोच्चार और वेदों की ऋचाओं पर थिरकते हुए कदमों ने दर्शकों को झूमने पर मजबूर कर दिया। राजस्थान की माटी से जुड़े गीतों ‘रंगीलो म्हारो ढोलना’ और ‘मोरनी बागां में बोली आधी रात म’ पर झूमते भारत और स्पेन के कलाकारों ने साबित कर दिया कि भाषाएं और देश भले ही अलग हों, लेकिन सुर और ताल की भाषा एक है।

8. ‘कपास उगाओ-खुशहाली पाओ’ अभियान का आगाज़
राजस्थान की मुख्यमंत्री वसुन्धरा राजे ने बुधवार को झालावाड़ ज़िले के धानोदी में श्री वल्लभ पित्ती ग्रुप के ‘कपास उगाओ-खुशहाली पाओ’ अभियान का विधिवत आगाज़ किया| श्रीमती राजे ने श्री वल्लभ पित्ती ग्रुप कॉटन यार्न में जीनिंग एवं प्रोसेसिंग इकाई का भूमि पूजन, प्लेटिनम टेक्सटाइल लिमिटेड एवं एसवीपी ग्लोबल वेंचर्स लिमिटेड इकाई का भी शुभारंभ किया|
इस अवसर पर मुख्यमंत्री ने जनसभा को संबोधित करते हुए कहा कि किसानों की उगाई कपास पित्ती ग्रुप द्वारा खरीदी जाएगी| इससे उन्हें अपनी कपास का उचित दाम मिलेगा और उनके जीवन में खुशहाली आएगी| उन्होंने कहा कि पिछले 25 वर्षों में झालावाड़ की कायापलट हो गई है| पहले यहाँ एक मात्र राजस्थान टेक्सटाइल मिल थी लेकिन अब पित्ती ग्रुप की वजह से ज़िले को एक और बड़े उद्योग की सौगात मिली है| इससे यहाँ के करीब 2 हज़ार युवाओं को रोज़गार मिला है|

9. भामाशाह योजना ने राजस्थान में इतिहास रचने का काम किया

करीब एक दशक पहले जब देश में किसी ने वित्तीय समावेशन और डायरेक्ट बेनेफिट ट्रान्सफर के बारे में सोचा भी नहीं था तब राजस्थान में हम भामाशाह योजना लेकर आए थे। इस योजना में जो काम हुआ है उसने राज्य में नया इतिहास रचने का काम किया है।
श्रीमती राजे बुधवार को झालावाड़ ज़िले के झालरापाटन में पंजाब नेशनल बैंक के कृषक प्रशिक्षण केन्द्र और ग्रामीण स्वरोज़गार प्रशिक्षण संस्थान (आरसेटी) का शुभारम्भ करने के बाद समारोह को सम्बोधित कर रही थीं। अपनी तरह के राज्य के पहले इस प्रशिक्षण केन्द्र में किसानों और युवाओं को एक साथ कृषि एवं एग्रो प्रोसेसिंग तथा अन्य क्षेत्रों में कौशल विकास का प्रशिक्षण दिया जाएगा।

10. किसान अब सहकारी गोदामों में फसल रखकर ले सकेंगे 75 प्रतिशत तक का ऋण
बेमौसम बारिश हो या बाज़ार में मंदी, ऐसी परिस्थिति में किसान अपनी उपज को औने-पौने दामों पर बेचने को मजबूर हो जाता है। लेकिन अब भूमि पुत्रों के लिए राहत की खबर है। ऐसे किसान जिनकी फसल पक चुकी है, लेकिन बाज़ार में फसल का उचित मूल्य नहीं मिल पा रहा है तथा उसके पास फसल रखने के लिए उचित जगह भी नहीं है, वे अब प्रति बोरी 2 रुपये प्रति माह के मामूली किराए के साथ ग्राम सेवा सहकारी समिति के गोदाम में एक वर्ष तक अपनी फसल रख सकते हैं। ग्राम सेवा सहकारी समिति फसल की पूरी सुरक्षा करेगी।
ऐसी पहल अजमेर ज़िले के हिंगोनिया स्थित श्रीराम ग्राम सेवा सहकारी समिति ने की है। समिति अपने सदस्यों की फसल को रखने के लिए जहाँ एक ओर स्थान उपलब्ध करवाती है, वहीं दूसरी ओर सदस्यों को पैसों की आवश्यकता है तो वह फसल के बाज़ार भाव के आधार पर 75 प्रतिशत ऋण, 12 प्रतिशत ब्याज दर पर उपलब्ध कराता है। समिति ने अपने सदस्यों को फायदा पहुंचाने के लिए एक अप्रेल से यह प्रावधान भी किया है कि यदि किसान तय समय में अपने ऋण का चुकारा कर देता है तो उसे 2 प्रतिशत ब्याज अनुदान भी देय होगा।
समिति के पास 100 एवं 250 मैट्रिक टन के एक-एक गोदाम हैं। समिति सदस्य किसानों को फसल के बाज़ार भाव के 75 प्रतिशत राशि पर पॉलिसी जारी करती है, जो संबंधित किसान को दे दी जाती है। किसान को यदि ऋण की आवश्यकता है, तो समिति द्वारा अपने पास पॉलिसी रखकर 12 प्रतिशत ब्याज दर पर मात्र 15 मिनट में संबंधित किसान के खाते में ऋण ट्रांस्फर कर दिया जाता है।


11. राजस्थान की बिजली से रोशन होंगे यूपी के घर

बिजली की समस्या से जूझ रहे उत्तर प्रदेश की राज्य सरकार ने अब अपने प्रदेश के घरों को रोशन करने के लिए राजस्थान की मदद ली है। राजस्थान के जोधपुर शहर से 200 किलोमीटर दूर बाप क्षेत्र में बसे छोटे से गांव भड़ला में 750 मेगावाट के सोलर प्लांट लगाने की तैयारियां चल रही हैं।
यहाँ 500 व 250 मेगावाट सोलर एनर्जी का उत्पादन करने वाली इन यूनिट से उत्तर प्रदेश सरकार बिजली खरीदेगी, यूपी सरकार शीघ्र ही इसका पीपीओ करेगी। यहाँ लग रहे इन दो प्लांट के कार्य की प्रक्रिया शीघ्र शुरू होगी। इन प्लांट पर करीब 3 हज़ार करोड़ रुपए का खर्चा आएगा। इसके लिए प्लांट लगाने वाली कम्पनियां यहाँ निवेश करेंगी। इन सोलर प्लांट को लेकर भड़ला एक बार फिर देश में सौर ऊर्जा के क्षेत्र में सुर्खियों में हैं।

12. परकोटे में बनेंगे अंडरग्राउंड पैदल रास्ते
परकोटे में अंडरग्राउंड पैदल मार्ग बनाने के लिए केंद्र ‘काउंटर मैग्नेट सिटी योजना’ से फंड देगा। केंद्रीय शहरी विकास मंत्री एम वैंकेया नायडू ने राज्य सरकार को डीपीआर तैयार कर केंद्र को भेजने को कहा है। श्री नायडू मंगलवार को शहरी विकास मिशन योजनाओं की समीक्षा करने जयपुर आए थे। वैसे जयपुर रेल मेट्रो कॉरपोरेशन एक डीपीआर बना चुका है, जिसमें रामनिवास बाग से जोरावर सिंह गेट तक अंडरग्राउंड वॉक-वे का प्रस्ताव है। अब रिवाइज़ डीपीआर बनाई जाएगी। दूसरी ओर, श्री नायडू ने सीएमओ में मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे के साथ स्वच्छ भारत मिशन, हृदय योजना, प्रधानमंत्री आवास योजना तथा दीनदयाल उपाध्याय आजीविका मिशन, अमृत योजना और स्मार्ट सिटी योजना की समीक्षा की।

13. छह शहरों को ओडीएफ प्रमाण पत्र
केंद्रीय शहरी विकास मंत्री एम वैंकेया नायडू ने मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे को स्वच्छ भारत मिशन के तहत विभिन्न परियोजनाओं के लिए 184 करोड़ तथा दीनदयाल उपाध्याय शहरी आजीविका मिशन के लिए 19 करोड़ की राशि के चैक दिए। उन्होंने प्रदेश के 6 शहरी क्षेत्रों, मुंडवा, डूंगरपुर, विजयनगर, अनूपगढ़, परबतसर तथा रामगढ़ को खुले में शौच से मुक्त घोषित होने पर संबंधित नगरपालिका अध्यक्षों और कार्यकारी अधिकारियों को प्रमाण पत्र भी वितरित किए

14. महाराणा प्रताप की याद में राजस्थान के 33 जिलों में हुआ 110 रक्तवीरों का सम्मान
राजस्थान की धरती पर जन्मे सबसे महान व न्यायप्रिय योद्धा महाराणा प्रताप जयंती पर पूरे प्रदेश में हर्षाेल्लास मनाया गया। ेस्टूडेंट्स हेल्प सोसायटी, राजस्थान की ओर से महाराणा प्रताप जयंति पर प्रदेश के रक्तवीरों का सम्मान समारोह आयोजित किया।
81 बार रक्तदान कर चुके भीलवाड़ा निवासी विक्रम दाधीच राजधानी में समारोह सोडाला स्थित गढ़वाल सेवा भवन में हुआ। समारोह में प्रदेश के 33 जिलों के 110 रक्तवीरों का सम्मान किया गया। सोसायटी के प्रदेशाध्यक्ष सुरेन्द्र अग्रवाल किरवाड़ा ने बताया कि 81 बार रक्तदान कर चुके भीलवाड़ा निवासी विक्रम दाधीच व रक्तसेवा में राष्ट्रपति से सम्मानित राजेन्द्र माहेश्वरी को विशेष सम्मान प्रदान किया गया।


15. राजस्थान में IVF और फर्टिलिटी सेंटर की योजना के तहत अब बनेगा टेस्ट ट्यूब बेबी सेंटर, 
देश के सबसे बड़े राज्य राजस्थान में आईवीएफ और फर्टिलिटी सेंटर की योजना के तहत जयपुर के शास्त्री नगर स्थित कांवटिया चिकित्सालय में निजी जनसहभागिता के तहत टेस्ट ट्यूब सेंटर के लिए एमओयू हुआ है।अस्पताल के चिकित्सा अधीक्षक डॉ. मोहनलाल मीणा व प्रताप आईवीएफ एंड फर्टिलिटी सेंटर की डॉ. सुमन कंवर तंवर ने एमओयू पर साइन किए। इसके तहत दस वर्षों का अनुबंध होगा। राजधानी में एसएमएस के बाद यह दूसरा सरकारी सेंटर होगा। अ
देश का पहला किफायती टेस्ट ट्यूब बेबी सेंटर (आईवीएफ) करीब चार महीनों में तैयार हो जाएगा। इसमें कृत्रिम गर्भाधान की फीस दवाइयों व सोनोग्राफी से  ओवूलेशन स्टडी सहित दस हजार रुपए की दर तय की है। इसके लिए कांवटिया में शुक्राणु बैंक भी बनाया जाएगा।


16. राजस्थान में देश का पहला ऑलिव लीफ टी प्लांट तैयार

सरकार की नौ साल की मेहनत अब रंग लाई है। देश का पहला ऑलिव लीफ टी प्लांट तैयार है। इसमें अगले महीने से उत्पादन शुरू कर दिया जाएगा। देश का यह पहला प्लांट सरकार की मदद से बस्सी में तैयार कर लिया गया है। इस प्लांट का उद्घाटन करने के लिए सीएम को न्यौता भेजा गया है। प्लांट में जो ग्रीन टी तैयार होगी, उसके लिए विदेशी बाजारों की तलाश जारी है। अमरीका, जापान, दुबई, लंदन समेत अन्य कई देशों से इस बारे में बातचीत शुरू कर दी गई है।
साल 2008 में बीजेपी सरकार के समय इस प्लान को तैयार किया गया था। उस समय सैकड़ों ऑलिव के पौधों को राजस्थान मंगाया गया था। यहां लाकर जालोर, जयपुर और बीकानेर समेत अन्य कुछ जिलों में इनकी पैदावार शुरू कर दी गई थी। पैदावर शुरू होने के साथ अब यह पौधे, पेड़ का रुपए ले चुके हैं। अब इनकी पत्तियों को तोडऩे का काम शुरू हो गया है। प्रदेश भर से ये पत्तियां अब जयपुर के पास बस्सी में बने प्लांट में भेजी जा रही हैं।

17. कोटाः दुनिया का सातवां सबसे ज्यादा भीड़ भरा शहर
प्रतियोगी परीक्षाओं का केंद्र और चूना पत्थर के लिए प्रसिद्ध कोटा दुनिया के सबसे घनी आबादी वाले शहरों की सूची में सातवें नंबर पर है। वर्ल्ड इकोनॉमिक फोरम की जारी सूची में मुंबई को दूसरा स्थान मिला है।  कोटा में प्रति वर्ग किमी में 12100 की आबादी रहती है।
कोटा जंगलों से घिरा है, इसलिए आवासीय उद्देश्यों के लिए उपलब्ध भूमि सीमित है और इसलिए जनसंख्या घनत्व अधिक दिखाई देता है। कोचिंग हब होने की वजह से यहां 1.25 लाख छात्र अपने माता-पिता के बिना अकेले रहते हैं। विस्कॉन्सिन-मेडिसिन यूनिवर्सिटी में चीनी शोधकर्ता यी फुक्सियान ने दावा किया है भारत दुनिया का सबसे अधिक आबादी वाला देश है न कि चीन। कहा-चीन की आबादी अभी 1.38 अरब है, जो गलत है, जबकि वास्तविक आंकड़ा 1.29 अरब है और भारत की आबादी 1.32 अरब है।  


18. हाड़ौती में खुलेगी हर्बल-मसाला मंडी
कोटा. तीन दिवसीय ग्लोबल राजस्थान एग्रीटेक मीट (ग्राम) का आगाज बुधवार सुबह आरएसी मैदान में हुआ। केन्द्रीय शहरी विकास मंत्री एम. वेंकैया नायडू व मुख्यमंत्री ने उद्घाटन किया। खेती-किसानी के इस हाईटेक मेले में दिनभर किसानों ने कृषि नवाचारों की जानकारी ली।
ग्राम के दौरान हाड़ौती में बड़े निवेश के द्वार खुलने की संभावना है। गुरुवार को करीब एक हजार करोड़ के निवेश के 20 करार (एमओयू) होने के आसार हैं। इसमें कोटा और बारां में हर्बल और मसाला मंडी यार्ड की स्थापना का एमओयू भी होगा। कृषि मंत्री प्रभुलाल सैनी ने बताया कि शाम 4 बजे सीएम की मौजूदगी में एमओयू किए जाएंगे।

19.  RBSE 12 ARTS RESULTS: राजस्थान में अव्वल रहा भीलवाड़ा, 

माध्यमिक शिक्षा बोर्ड अजमेर की ओर से 12वीं कला का परिणाम शनिवार को घोषित कर दिया गया। इस परिणाम में प्रदेश भर में जिले का परिणाम सबसे अव्वल रहा और प्रदेश भर में जिले को पहला स्थान मिला है। भीलवाड़ा जिले का 92.91 प्रतिशत रहा है। जो प्रदेश में सर्वाधिक है। जिले में विज्ञान एवं वाणिज्य विषय के परिणाम की तरह कला वर्ग में भी बेटियों ने बाजी मारी है।


20. प्रदेश में 28वें से पहले स्थान पर पहुंचा बीकानेर आगार

प्रदेश में रोडवेज भले ही घाटे से उबरने में नाकाम रहा हो, लेकिन बीकानेर डिपो ने अपनी स्थिति में तेजी से सुधार किया है। प्रदेश के 52 रोडवेज डिपो में बीकानेर डिपो इस बार मई में राजस्व जुटाने में पहले स्थान पर आ गया है।
गत वर्ष यह 28वें स्थान पर था।  बीकानेर डिपो ने गत वर्ष एक से 20 मई तक दो करोड़ 82 लाख रुपए का राजस्व जुटाया था। वहीं इस बार डिपो ने इस अवधि में तीन करोड़ 36 लाख रुपए जुटाकर 54 लाख रुपए की भारी बढ़ोतरी दर्ज की है। 


21. विश्व के सबसे भारी सिक्कों में शुमार हुआ महाराणा प्रताप का  सिक्का
अपनी वीरता और स्वाभिमान के लिए प्रसिद्ध महाराणा प्रताप मेवाड़ और हिन्दुस्तान के ही गौरव नहीं रहे, अपितु दुनिया के अन्य राष्ट्रों में अपनी अनुपम छवि और ख्याति से जन-जन में लोकप्रिय बने। देश में इस अद्वितीय योद्धा की स्मृति में वर्ष 11 जून 1967 को पहली बार 15 पैसे मूल्य का डाक टिकट जारी किया गया। जिसमें प्रताप अरावली की पहाडि़यों पर भाला लिए खड़े चित्रित हैं।
इसी तरह, 19  जनवरी 1998 को प्रताप की 400 वीं जयंती पर दूसरा डाक टिकट दो रुपए मूल्य का जारी हुआ इसमें उन्हें सैन्य वेशभूषा में सुसज्जित दिखाया गया। हालांकि, वर्तमान में ये टिकट प्रचार-प्रसार के अभाव में केवल संग्रहकर्ताओं की एलबम की शोभा बने हुए हैं। इनके बाद साल 2003 में भारत सरकार की ओर से स्मारक सिक्कों की श्रंृखला में एक, दस और सौ रुपए के तीन चांदी के सिक्कों का सेट जारी किया गया। ये भी इतनी कम मात्रा में जारी हुए कि आमजन तक नहीं पहुंच सके।
यह एक सुखद संयोग ही कहा जाएगा कि वर्ष2003 में ही यूरोप महाद्वीप के एक छोटे किंतु विकसित द्वीप देश माल्टा ने भारतीय इतिहास पुरुष प्रताप की स्मृति में एक किलोग्राम भार वाले चांदी के कुल सौ सिक्के जारी किए। जिस पर एक ओर महाराणा प्रताप का चित्र तथा 1540 -1597 अंकित है तो दूसरी ओर माल्टा देश का नाम व मुद्रा मूल्य मुद्रित किया गया है। संभवतया ये विश्व का सबसे भारी वजन वाला सिक्का है। गौरतलब है कि ये तमाम टिकट और सिक्के लेकसिटी के संग्रहकर्ता विनय भानावत के पास सुरक्षित हैं। वे चाहते हैं कि भारत सरकार इस महान वीर के स्मृति को चिरस्थाई बनाए रखने के लिए किसी