17-20 MAY 2017 RAJASTHAN CURRENT AFFAIRS

1.  ‘पृथ्वीराज चौहान के शौर्य से गूंजेगा अजमेर संग्रहालय’   

शिक्षा एवं पंचायतीराज राज्यमंत्री प्रो. वासुदेव देवनानी ने कहा कि अजमेर किला स्थित राजकीय संग्रहालय में सम्राट पृथ्वीराज चौहान, स्वामी दयानंद सरस्वती और अन्य स्थानीय योद्धाओं एवं महापुरुषों की शौर्य गाथाओं एवं जीवनियों की गूंज सुनाई देगी। संग्रहालय में करीब एक करोड़ रुपए की लागत से विकास कार्य कराए जा रहे है। नई बनाई जा रही दीर्घाओं में राष्ट्रीय गौरव से जुड़े योद्धाओं और महापुरुषों को यथोचित स्थान दिया जाएगा। उदयपुर से पृथ्वीराज रासो की प्रतिलिपि मंगवाकर संग्रहालय में रखाई जाएगी। अन्य ऐतिहासिक संसाधनों, मूर्तियों, तोप हथियारों को भी सही स्थान पर प्रदर्शित किया जाएगा।
गुरुवार को विश्व संग्रहालय दिवस पर अजमेर का किला स्थित राजकीय संग्रहालय में एक करोड़ रुपए की लागत से कराए जा रहे विकास कार्यों का निरीक्षण किया। संग्रहालय में नई बनने वाली दीर्घाओं में अजमेर के सम्राट पृथ्वीराज चौहान की जीवनी, पृथ्वीराज रासो और उनसे जुड़ी यादों को विशिष्ट स्थान देकर प्रदर्शित किया जाएगा। । इसी तरह स्वामी दयानंद सरस्वती से जुड़ी वस्तुओं के लिए भी एक दीर्घा रखी जाएगी। अजमेर से जुड़े तमाम ऐतिहासिक व्यक्तियों की झांकी संग्रहालय में दिखाई देगी। इसके लिए शीघ्र ही अजमेर के इतिहासकारों से चर्चा कर योजना को अंतिम रूप दिया जाएगा।


02. ग्रीष्मकालीन कथक नृत्य प्रशिक्षण शिविर एक से
अजमेर | भारतीयशास्त्रीय नृत्य के अंतर्गत पंद्रह दिवसीय 11वां ग्रीष्मकालीन कत्थक नृत्य प्रशिक्षण शिविर 1 जून से 15 जून तक लगाया जाएगा। शिविर संचालक एवं अजमेर कथक कला केंद्र अध्यक्ष दृष्टि रॉय के अनुसार वैशाली नगर स्थित फूड क्राफ्ट इंस्टीट्यूट में आयोजित इस शिविर में 5 से 50 वर्ष तक की आयु की बालिकाएं एवं महिलाओं को कथक नृत्य का प्रशिक्षण दिया जाएगा। शिविर में कथक से जुड़े लय, ताल, गीत, संगीत आदि के बारे में भी बताया जाएगा। संस्था सचिव कृष्ण गोपाल पाराशर के अनुसार प्रशिक्षण अवधि में कथक से जुड़े राष्ट्रीय स्तर के विशेषज्ञ भी नृत्य की बारीकियों की जानकारी देंगे। 


03. इंडियन राउंड छात्रा वर्ग में विशाखा बोहरा को स्वर्ण पदक मिला
अजमेर | सम्राट पृथ्वीराज चौहान मेमोरियल तीरंदाजी नेशनल चैम्पियनशिप 2017 का शुभारंभ गुरुवार को करणी शूटिंग एकेडमी पर हुआ। इंडियन राउंड छात्रा वर्ग में विशाखा बोहरा को स्वर्ण पदक मिला। छात्र वर्ग में अर्णव को स्वर्ण पदक, 10 वर्ष आयु वर्ग में दीपांशी वत्स को स्वर्ण, छात्रा वर्ग में माही योगी को रजत, 10 से 15 मीटर स्पर्धा में कशिश राठौड़ को स्वर्ण, वर्षा को रजत एवं रक्षिता राठौड़ को कांस्य पदक प्राप्त हुआ। इसी तरह छात्र वर्ग में आर्य प्रताप सिंह ने स्वर्ण पदक जीता। इसी प्रकार 12 वर्ष की छात्रा वर्ग में कशिश राठौड़ ने स्वर्ण और प्रियांशी योगी ने रजत पदक जीता। इसी तरह छात्र वर्ग में पृथ्वीराज सिंह ने स्वर्ण पदक एवं जतिन भटनागर ने रजत पदक जीता। 16 वर्ष की आयु वर्ग में इंडियन राउंड में वासुदेव चौधरी को स्वर्ण, पुशावत को रजत एवं विशाल शर्मा को कांस्य पदक प्राप्त हुए। छात्रा वर्ग में त्रिशा भटनागर ने स्वर्ण एवं प्रीति योगी ने रजत पदक जीता। राइफल शूटिंग के सीनियर वर्ग में जयदीप सिंह ने 400 में से 379 अंक प्राप्त किए। जूनियर वर्ग में उत्तरप्रदेश के अपूल मलिक ने 370, यूथ महिला वर्ग में यूपी की अरूसा मिर्जा ने 200 में से 148 अंक अर्जित किए। ओपन साइड में काजल मलिक ने 400 में से 164 अंक, पिस्टल स्पर्धा में कुलदीप सिंह ने जूनियर वर्ग में 300 अंक हासिल किए। जसप्रीत सिंह ने 356 अंक एवं शेरसिंह ने 370 अंक प्राप्त किए।

04.  ‘भीनमाल के कावतरा गांव में खुदाई में मिला खजाना’
जालोर . भीनमाल के कावतरा गांव में खुदाई में मिला खजाना मजदूरों को खजाना मिला . गाँव के एक प्लोट में निर्माण कार्य चल रहा था, जिसके लिए मजदूर खुदाई कर रहे थे. खुदाई के दौरान मजदूरों को 19वी सदी के चांदी के सिक्को का खजाना मिला. मजदूरों को खुदाई के दौरान लगभग 300 चांदी के सिक्के मिले. जो की वर्ष 1860 और 1906 के हैं. खुदाई में खजाना मिलने की जब पुलिस को सूचना मिली तब घटनास्थल पर पहुच कर पुलिस ने चांदी के 200 सिक्के बरामद किए. शेष सिक्के मजदूर व अन्य लोग ले गए. 


05 . ‘बाड़मेर में लगेंगे 610 आईपी फोन, ग्राम पंचायत स्तर पर सीधी होगी बातचीत’
बाड़मेर: जिले में विभागीय कार्य प्रणाली में जवाबदेही एवं पारदर्शिता सुनिश्चित करने के लिए सूचना एवं प्रौद्योगिकी एवं संचार विभाग जिला एवं ब्लाक स्तर के कार्यालयो के साथ ग्राम पंचायतो को सीधा आईपी फोन सुविधा से जोड़ेगा.बाड़मेर जिले के विभिन्न कार्यालयों में इसके तहत 610 आईपी फोन स्थापित होंगे. अब तक 325 विभिन्न कार्यालयो में आईपी फोन लगाए जा चुके हैं.
फोन उन सभी कार्यालयों में लगाए जा रहे है, जहां राज-स्वान (राजस्थान स्टेट वाइड एरिया नेटवर्क) अथवा राजनेट से जुड़े हुए हैं. उनके मुताबिक ग्राम पंचायतों एवं ब्लॉक स्तरीय सरकारी दफ्तरों तक आईपी फोन तकनीक पहुंचाने की मुख्यमंत्री ने गत वर्ष बजट में घोषणा की थी. इन दिनों सूचना प्रौद्योगिकी एवं संचार विभाग की ओर से कार्य किया जा रहा है.


06. ए-1 श्रेणी के टॉप 75 स्टेशनों पर किए गए सर्वे में जयपुर को 8वां स्थान
हाल ही देश भर के स्टेशनों पर की गई सफाई सर्वे में जैसलमेर रेलवे स्टेशन को 47वां स्थान मिला है। इस सर्वे में जयपुर रेलवे स्टेशन सफाई सुधार में देशभर के रेलवे स्टेशनों में से 8वें नंबर पर आया है। शहर की सफाई में देशभर में दूसरे नंबर पर रहने वाला भाेपाल 75 रेलवे स्टेशनों की सूची में 74वें पायदान पर आया। भारतीय रेल के 407 रेलवे स्टेशनों पर किए गए स्वच्छता सर्वे का परिणाम बुधवार को जारी किया गया। पिछले साल जयपुर रेलवे स्टेशन 51वें नंबर पर था। स्वच्छ भारत सर्वेक्षण में ए-1 श्रेणी के टॉप 75 स्टेशनों पर किए गए सर्वे में जयपुर को 8वां स्थान मिला है। साथ ही जैसलमेर रेलवे स्टेशन को 47वां स्थान मिला है।

07. ई-वॉल्ट ऐप :
•अपने इलैक्ट्रॉनिक सेल्फ अटेस्टेड दस्तावेज़ ऑनलाइन सुरक्षित रखें
•अपने स्मार्टफोन या टैब से डॉक्यूमेंट अपलोड करें
•विभाग द्वारा ऑटोमैटिक वैरिफिकेशन
•सरकार द्वारा जारी नया डॉक्यूमेंट सीधा अपने ई-वॉल्ट में पाएं

08. मुख्यमंत्री जल स्वावलंबन अभियान के सकारात्मक प्रभाव
पिछले वर्ष मुख्यमंत्री जल स्वावलम्बन अभियान के प्रथम चरण में 3421 गांव में 93801 कार्य हुए थे और अब इन कार्यों के सुखद परिणाम दिखाई देने लग गए हैं। पिछले वर्ष जहाँ मई माह में 1551 टैंकर ट्रिप प्रतिदिन हो रही थी अब वह घटकर मात्र 674 टैंकर ट्रिप प्रति दिन हो गयी हैं।          

              

09. लघु वन उपज मण्डी ने किया वनवासियों के जीवन को खुशहाल बनाने का मार्ग प्रशस्त
मुख्य मंत्री वसुन्धरा राजे ने वनवासी बहुल इन इलाकों के निवासियों के दौरों के दौरान व्यक्तिशः वार्तालाप करने के पश्चात् उनके आर्थिक-सामाजिक उत्थान के मर्म को गहराई से समझा व वन विभाग के अधिकारियों से परामर्श कर इन वनवासियों जिनका वनों से चोली-दामन का रिश्ता रहा है, की आय में इजाफा लाने हेतु ‘सरकार आपके द्वार’ कार्यक्रम 2014 के दौरान लघु वन उपज विशिष्ट मंडी यार्ड बनाने की घोषणा की। घोषणा के अनुरूप कृषि उपज मण्डी समिति अनाज उदयपुर में लघु वन उपज का व्यापार अनवरत शुरु हो चुका है व इसके सुखद परिणाम वनवासियों की आमदनी में इजाफे के साथ-साथ उनके परिवारों में आर्थिक खुशहाली के रूप में सामने आ रहे हैं।

लधु वन उपज के संर्वधन व विपणन के बहुआयामी प्रयास :
1.लघु वन उपज विशिष्ठ मंडी यार्डः 
लघु वन उपज विशिष्ठ मंडी यार्ड कृषि उपज मंडी समिति अनाज उदयपुर में लघु वन उपज के व्यापार हेतु एक प्रमुख केन्द्र का रूप ले रहा है व संभाग के वनवासियों की लघु वन उपजों का उचित दाम दिलाने के साथ-साथ भण्डारण व संवर्धन हेतु तकनीकी प्रशिक्षण उपलब्ध करवा रहा है।
इसके साथ ही राजस्थान वन वहन नियम 1957 अन्तर्गत धारा 41 एवं 42 के अन्तर्गत 26 लघु वन उपजो के परिवहन पार पत्र/टी.पी. के हटाये जाने से वनवासी वन उचित कीमत हेतु लघु वन उपज के परिवहन हेतु स्वतंत्र हुआ है। इसके तहत लघु वन उपज के विपणन को प्रोत्साहन देने हेतु विशिष्ठ मंडी प्रागंण में 20 प्रतिशत भू-खण्ड आदिवासियों को आवंटन में भागीदारी सुनिश्चित की गई है।
2. ग्वारपाठा ज्यूस, तेल व शेम्पू निर्माण :
उदयपुर व प्रतापगढ़ द्वारा वृहद् स्तर पर ग्वारपाठा पौधारोपण तथा इससे ग्वारपाठा ज्यूस, तेल तथा शेम्पू निर्माण का कार्य ग्रामीण वन सुरक्षा एवं प्रबन्धकीय समितियों के अन्तर्गत गठित स्वयं सहायता समूहों के माध्यम से किया जाता है। जिससे लगभग 500 वनवासियों को रोजगार तथा उत्पाद के विक्रय से प्रतिवर्ष लगभग 20 लाख रुपये का रोजगार प्राप्त हो रहा है। 

3. अगरबत्ती एवं हर्बल गुलाल निर्माण :
उदयपुर व प्रतापगढ़ की लगभग 10 ग्रामीण वन सुरक्षा एवं प्रबन्धकीय समितियों की 300 जनजाति महिलाओं के माध्यम से अगरबत्ती स्टिक्स का निर्माण करवाया जा रहा है और इस हेतु प्रति वर्ष लगभग 8 लाख रुपये का भुगतान इन ग्रामीण वन सुरक्षा समितियों के सदस्यों को किया जा रहा है। इसी प्रकार हर्बल गुलाल निर्माण कार्य हेतु 6 ग्रामीण वन सुरक्षा एवं प्रबन्धकीय समितियों के अन्तर्गत गठित स्वयं सहायता विशेषकर महिला समूहों के लगभग 300 वनवासियों के माध्यम से करवाया जा रहा है जिसमें प्रति वर्ष 4 लाख रुपये के रोजगार उपलब्ध करवाये जा रहे हैं। यह कार्य मौसमी प्रकृति का है जो कि जनवरी-फरवरी माह में किया जा रहा है। यह आय मनरेगा ओर खेती के अतिरिक्त आय है।
4. सीताफल पल्प निष्कषर्ण :
वनवासियों को सीताफल का ग्रेडिंग कर बेचने का प्रशिक्षण व जानकारी दी जाने से अब 12 रुपए प्रति किलोग्राम की दर से बेचे जाने लगे हैं। गत वर्ष वनवासियों द्वारा एक करोड़ 25 लाख रुपये के सीताफल का बेचान  किया गया है। प्रदेश के कई शहरों/कस्बों में विक्रय हेतु जनजाति क्षेत्रीय विकास विभाग द्वारा परिवहन की राशिवहन कर नि:शुल्क परिवहन की व्यवस्था की गई है। सीताफल के पल्प निर्माण में लगभग 300 महिलाओं को परोक्ष रूप से व 1500 जनजातियों को अपरोक्ष रूप से रोजगार मिल रहा है तथा प्रति वर्ष लगभग 30 लाख रुपये की राशि प्राप्त हो रही है। यह कार्य अक्टूबर/नवम्बर माह में किया जा रहा है।
5. शहद:
वनवासी परम्परागत रूप से प्राकृतिक रूप से शहद व मोम एकत्रित कर विक्रय करते रहे हैं लेकिन जो शहद दो वर्ष पूर्व 70 से 80 रुपए प्रति किलोग्राम की दर से बेचा जा रहा था वह अब 200 रुपए की दर से बेचा जा रहा है जिसका सीधा लाभ वनवासी को प्राप्त होने लगा है।

10. डीओआईटीसी ने मॉन्यूमेंट्स पर बनाए हिस्टोरिकल गेमिंग एप्लीकेशन
हिस्टोरिकल मॉन्यूमेंट्स की खूबसूरती बरकरार रखने के लिए प्रदेश के हिस्टोरिकल मॉन्यूमेंट्स का डिजिटल प्रिज़र्वेशन हो रहा है। इसी कड़ी में खेल-खेल में स्टूडेंट्स को मोबाइल गेमिंग के ज़रिए हिस्टोरिकल मॉन्यूमेंट्स से जोड़ेंगे। डिपार्टमेंट ऑफ इंफॉर्मेशन टेक्नोलॉजी एंड कम्यूनिकेशन ने अल्बर्ट हॉल का पज़ल गेमिंग एप तैयार किया। इसे संभवत: जून तक राज गेम सेंटर पर अपलोड किया जाएगा। गौरतलब है कि हवामहल और जंतर मंतर गेम्स पहले से उपलब्ध है। एंड्रायड और आईओएस वज़र्न पर ये गेम्स अवेलेबल हैं। जल्द ही यूनेस्को वर्ल्ड हेरिटेज साइट्स में शुमार आमेर कुंभलगढ़ फोर्ट के गेम लॉन्च होंगे जो ट्रेज़र हंट और सब-वे सर्फर की तर्ज पर तैयार होगा। होंगे। प्लेयर को 6 मिनट के अंदर किसी एक लेवल को पूरा करना होगा। अगले लेवल पर जाने के लिए कम से कम 2 स्टार रेटिंग ज़रूरी होगी।


11. स्मार्ट विलेज के नौ काम नरेगा के हवाले
राज्य सरकार की स्मार्ट विलेज योजना के तहत चयनित ग्राम पंचायतों में कराए जाने वाले विकास कार्यों के लिए सहयोगी विभागों के कार्यों का बंटवारा भी कर दिया है। राज्य नरेगा विभाग को नौ श्रेणी के कार्यों की ज़िम्मेदारी सौंपते हुए मंज़ूरी जारी करने की शक्ति प्रदान की गई है।
ग्रामीण विकास एवं पंचायती राज विभाग की तैयारियों के तहत नरेगा को जो कार्य सौंपे गए हैं, वे सभी कार्य कन्वर्जेंस के तहत मंज़ूर किए जाएंगे। कार्यों को लेकर बनी सहमति के बाद राज्य नरेगा विभाग ने भी ज़िलों को कार्य श्रेणी जारी करते हुए मंज़ूरी के प्रावधानों से अवगत करा दिया है। ज़िला परिषदों के माध्यम से जल्दी ही चयनित ग्राम पंचायतों में नरेगा विभाग अपने कार्यों को शुरू कराने में जुट जाएगा।
ये होंगे कार्य :
गौरव पथ के दोनों तरफ पक्की नाली और जल निकासी कार्य, गाँव की आतंरिक सड़कों और गलियों में इण्टरलॉकिंग,  सीसी रोड व खरंजा निर्माण, सार्वजनिक पार्क में भूमि समतलीकरण व पौधरोपण, गाँव के खेल मैदान के विकास कार्य, चरागाह भूमि में चारदीवारी निर्माण, गाँव में व्यक्तिगत शौचालय निर्माण, पात्र लाभार्थियों के खेतों पर व्यक्तिगत लाभ कार्य, खाद्य गोदाम निर्माण तथा आदर्श तालाब या नदी के किनारे पर सामुदायिक महिला स्नानागार निर्माण कार्य।

12. ग्राम कोटा में लाइव डेमोंस्ट्रेशन एवं लाइव प्लांटेशन का होगा प्रदर्शन
कोटा के शिवपुरा स्थित आरएसी मैदान में 24 से 26 मई तक आयोजित होने वाले सम्भाग स्तर के ग्राम कोटा के मुख्य आकर्षणों में स्मार्ट फार्म भी शामिल होगा। 1800 वर्ग मीटर के क्षेत्र में फैले स्मार्ट फार्म में किसानों के लिए बेहतरीन कृषि प्रौद्योगिकियों को प्रदर्शित किया जाएगा।
स्मार्ट फार्म में सिंचाई की विभिन्न तकनीकों का लाइव डेमोंस्ट्रेशन दिया जाएगा, जिनमें मिनी स्प्रिंक्लर, स्प्रिंक्लर इरीगेशन, ड्रिप इरीगेशन तथा सोलर पम्पों का उपयोग शामिल होगा। यहाँ धनिया, मशरूम, जैतून, सिट्रस फलों, ड्रेगन फ्रूट सहित विभिन्न फसलों का लाइव प्लांटेशन देखने को मिलेंगे। ये डेमोंस्ट्रेशन किसानों को बेहतरीन कृषि प्रौद्योगिकियों को अपनाने के लिए प्रेरित करेंगे।

13. ओलम्पिक पदक विजेता, एशियाड एवं कॉमनवैल्थ के स्वर्ण पदक विजेताओं को राज्य सेवा में मिलेगी सीधी नियुक्ति

मुख्यमंत्री वसुन्धरा राजे की अध्यक्षता में बुधवार को मुख्यमंत्री कार्यालय में हुई मंत्रिमण्डल की बैठक में ओलम्पिक, कॉमनवैल्थ, एशियाड़, पैरालिम्पिक, विश्व चैम्पियनशिप एवं राष्ट्रीय स्तर की प्रतियोगिताओं में पदक जीतने पर सीधे सरकारी नौकरी में नियुक्ति देने सहित कई महत्त्वपूर्ण निर्णय लिए गए।
मुख्यमंत्री की वर्ष 2016-17 की बजट घोषणा के अनुरूप ‘राजस्थान आउट ऑफ टर्न अपॉइन्टमेंट टू स्पोट्र्स मेडल विनर्स रूल्स-2017‘ का अनुमोदन किया है। अब राज्य सरकार ओलम्पिक के पदक विजेताओं, एशियाड एवं कॉमनवैल्थ खेलों के स्वर्ण पदक विजेताओं को राज्य सरकार आरएएस, आरपीएस सहित राज्य सेवा में सीधी नियुक्ति देगी। एशियाड एवं कॉमनवैल्थ खेलों में रजत एवं कांस्य पदक विजेता, राजस्थान खेल अधिनियम से मान्यता प्राप्त अथवा ओलम्पिक एवं एशियाड में शामिल खेलों के विश्वकप अथवा विश्व चैम्पियनशिप में विजेता एवं उपविजेता, एशियाई एथलेटिक्स चैम्पियनशिप एवं कॉमनवैल्थ खेलों में पदक विजेता, विजेता एवं उपविजेताओं, ओलम्पिक खेलों में क्वालिफाई कर हिस्सा लेने वाले खिलाड़ियों एवं पैरालिम्पिक्स के पदक विजेता खिलाड़ियों को अधीनस्थ सेवाओं में सीधे नियुक्ति मिलेगी। राष्ट्रीय खेलों में सीनियर वर्ग में पदक विजेता, राष्ट्रीय चैम्पियनशिप में पदक विजेता, विजेता एवं उपविजेता खिलाड़ियों एवं पैरालिम्पिक्स में क्वालिफाई कर हिस्सा लेने वाले खिलाड़ियों को मंत्रालयिक सेवाओं में नियुक्ति दी जाएगी।  

14. ग्राम 2017 : कृषकों को जानकारी देने के लिए विशेष ग्राम सभा 22 मई को
ग्लोबल राजस्थान एग्रीटेक मीट (ग्राम 2017) के सम्बन्ध में कृषकों व आमजन को जानकारी देने के उद्देश्य से बांरा ज़िले के प्रत्येक ग्राम पंचायत मुख्यालय पर विशेष ग्राम सभा का आयोजन 22 मई 2017 को किया जाएगा।
उपनिदेशक कृषि विस्तार अतीश कुमार शर्मा के अनुसार उक्त ग्राम सभाओं में सहायक कृषि अधिकारी व कृषि पर्यवेक्षक संबंधित क्षेत्रों में भाग लेकर कृषकों व आमजन को ग्राम-2017 के बारे में जानकारी देंगे तथा प्रचार सहित्य का वितरण भी करेंगे। विशेष ग्राम सभा के संबंध में एसीईओ ज़िला परिषद अशोक पुरसवानी द्वारा समस्त विकास अधिकारियों को निर्देशित किया गया है।

15. ‘द्रव्यवती रिवर प्रोजेक्ट’ को हर हाल में अगस्त 2018 तक पूरा किया जाए: मुख्यमंत्री
मुख्यमंत्री वसुन्धरा राजे ने कहा कि ‘द्रव्यवती रिवर प्रोजेक्ट’ राज्य सरकार का एक लैंडमार्क प्रोजेक्ट है। गंदे नाले का रूप ले चुकी द्रव्यवती नदी को पुनर्जीवित करने के इस महत्वाकांक्षी प्रोजेक्ट को हर हाल में 15 अगस्त 2018 तक पूरा किया जाए।
यह परियोजना देश में एक मॉडल प्रोजेक्ट के रूप में सामने आएगी। टाटा प्रोजेक्ट्स के निर्देशन में विश्वस्तरीय विशेषज्ञों के सहयोग से इस परियोजना में गंदे पानी को साफ करने के लिए 170 एमएलडी के सीवरेज ट्रीटमेंट प्लांट, वॉक-वे, जॉगिंग पार्क, ईको पार्क, सिटिंग एरिया, चैक डेम आदि बनाए जाएंगे जिससे कि नदी का खोया हुआ वैभव लौटेगा। इस प्रोजेक्ट के अंतर्गत विकसित होने वाले उद्यानों को सिंगापुर के बॉटेनिकल गार्डन जैसे विश्वप्रसिद्ध उद्यानों की तर्ज पर विकसित किया जाए। साथ ही स्थानीय पारिस्थितिकी का भी ध्यान रखते हुए स्थानीय जलवायु के अनुरूप पौधे लगाए जाएं। इसके लिए लैंडस्केपिंग के विश्वस्तरीय विशेषज्ञों की सलाह ली जाए।

16. जयपुर में JLN मार्ग पर देखें ‘बाप रे बाप’, ये है पद्मश्री से सम्मानित स्वर्गीय केपी सक्सेना द्वारा रचित ड्रामा
कलानेरी अकादमी ऑफ फाइन आर्ट की ओर से बहुचर्चित नाटक बाप रे बाप का शनिवार शाम 7 बजे से मंचन किया जाएगा। हास्य और व्यंग्य से भरपूर इस नाटक को जयपुर के जेएलएन मार्ग पर स्थित कलानेरी आर्ट गैलरी में शाम 7 बजे से मंचित किया जाएगा।  इस नाटक के लेखक पद्मश्री से सम्मानित स्वर्गीय केपी सक्सेना हैं, जिन्होंने लगान, स्वदेश, जोधा-अकबर और  हलचल जैसी मशहूर फिल्में लिखीं। नाटक का निर्देशन दिनेश प्रधान ने किया है।भगवान और विज्ञान की गुत्थियों को सुलझाने की कोशिश है ‘कन्फेशन ऑफ ए डाइंग माइंड’ सौम्या विजय शर्मा ने बताया हास्य और व्यंग्य से भरपूर नाटक में बताया कि घर के आधुनिक माहौल में पुरानी परंपरागत मान्यताओं वाले बाप का दर्जा घर के किसी पुराने बर्तन से ज्यादा नहीं है।

17. ‘गुर्जर और अन्य चार जातियां फिर अन्य पिछड़ा वर्ग (OBC) में शामिल’
जयपुर . राज्य सरकार ने आज अधिसूचना कर गुर्जर और अन्य चार जातियों को फिर से अन्य पिछड़ा वर्ग (OBC) में शामिल कर लिया. राजस्थान सरकार द्वारा जारी इस अधिसूचना के अनुसार गुर्जर समेत पांच जातियां रैबारी, बंजारा, गड़रिया और गाड़िया लोहार को 9 दिसम्बर 2016 से अन्य पिछड़ा वर्ग में मानी जाएगी.
राज्य सरकार ने विभिन्न परिपत्र निकालकर गुर्जर और अन्य चार जातियों को विशेष पिछड़ा वर्ग को क्रमश: 5 प्रतिशत आरक्षण दिया था। लेकिन यह कोटा सुप्रीम कोर्ट के तय किए गए कुल 50 प्रतिशत से अधिक होने के कारण इसे चुनौती दी गई। पांच प्रतिशत आरक्षण देने पर आरक्षण का कुल कोटा 54 प्रतिशत हो गया था। बाद में एक प्रतिशत अनुसार प्रक्रिया आगे बढ़ाई। लेकिन असंतुष्ट पक्षकार ने फिर अदालत की शरण ले ली।

18.  गिल्ली-डंडा खेलने वाला वेटर बेटा यूं बना क्रिकेटर
मुंबई इंडियंस की टीम में विश्व भर के दिग्गज खिलाडी मौजूद हैं। मुंबई, इंडियन प्रीमियर लीग के दो खिताब जीत चुकी है और विश्व की सबसे लोकप्रिय टी 20 लीग की सफलतम टीमों में से एक है। मास्टर ब्लास्टर सचिन तेंदुलकर मुंबई के मेंटर की भूमिका अदा करते हैं। टीम के मुख्य कोच श्रीलंका के महान बल्लेबाज महेला जयवर्धने हैं तो गेंदबाजी कोच न्यूजीलैंड के दिग्गज तेज गेंदबाज शेन बांड। ऐसा ही एक नाम है कुलवंत खेजरोलिया का, जिनकी असाधारण कहानी लाखों युवाओं के लिए प्रेरणा का स्त्रोत बन सकती है।
– झुंझुनूं के गांव चूड़ी अजीतगढ़ के कुलवंत सिंह खेजरोलिया को मुम्बई इंडियंस ने दस लाख रुपए में खरीदा था।
-गांव के जोहड़ में क्रिकेट खेलने वाले कुलवंत का आईपीएल तक का सफर काफी संघर्ष भरा है। कुलवंत के पिता शंकर सिंह की गांव में किराना की छोटी सी दुकान है। मां सरोज कंवर हाउसवाइफ हैं।
– बीकॉम की पढ़ाई के बाद कुलवंत ने पेरेंट्स के सामने दिल्ली की क्रिकेट एकेडमी में एडमिशन लेने की इच्छा जताई तो आर्थिक तंगी आड़े आ गई। फिर पेरेंट्स ने रिश्तेदारों की मदद से रुपयों का जुगाड़ करके बेटे को दिल्ली पहुंचाया। जहां दो साल से वहां ट्रेंनिक ले रहे कुलवंत का आईपीएल के बाद टीम इंडिया में जगह बनाना लक्ष्य है।

19. झुंझुनू सांसद करेंगी एशियाई संसदीय सभा में भारत का प्रतिनिधित्व
झुंझुनू सांसद संतोष अहलावत ने न केवल झुंझुनू वरन पूरे प्रदेश का नाम एक बार फिर से रोशन किया है। श्रीमति अहलावत एशियाई संसदीय सभा की अबू धाबी (संयुक्त अरब अमीरात) में 21 से 24 मई तक होने वाली बैठक में भारत का प्रतिनिधित्व करेंगी।  पिछले 10 महीनों में यह तीसरा मौका है जब सांसद संतोष अहलावत भारत का प्रतिनिधत्व कर रही हैं। पूर्व में सांसद संतोष अहलावत ने जयपुर में संपन्न हुई ब्रिक्स देशों की महिला सांसदों की बैठक में भारत का प्रतिनिधित्व किया तथा उसके उपरांत कोरिया में भारत का प्रतिनिधित्व किया है।
सांसद संतोष अहलावत एशियाई संसदीय सभा में होने वाली बैठक के लिए रविवार 21 मई को दिल्ली से जाएंगी तथा 24 मई को वापिस दिल्ली पहुचेंगी।