RAJASTHAN CURRENT AFFAIRS 08-11 FEBRUARY 2018

01.राजस्थान में 11.48 करोड़ टन सोने के भंडार का पता चला Feb 10, 2018
Image result for राजस्थान में 11.48 करोड़ टन सोने के भंडार का पता चलाभारतीय भूवैज्ञानिक सर्वेक्षण विभाग ने दावा किया है कि राजस्थान के बांसवाड़ा और उदयपुर जिलों में 11.48 करोड़ टन के सोने के भंडार का पता लगाया जा चुका है। विभाग के महानिदेशक एन. कुटुंबा राव ने जयपुर में मीडिया से बातचीत में यह जानकारी दी। उदयपुर और बांसवाड़ा जिलों के भूकिया डगोचा में सोने के भंडार मिले हैं। राजस्थान में 2010 से अबतक 8.11 करोड़ टन तांबे के भंडार का पता लगाया जा चुका है। इसमें तांबे का औसत स्तर 0.38 प्रतिशत है। राजस्थान के सिरोही जिले के देवा का बेड़ा, सालियों का बेड़ा और बाड़मेर जिले के सिवाना इलाकों में अन्य खनिज की खोज की जा रही है।

राजस्थान में 35.65 करोड़ टन के सीसा-जस्ता के संसाधन राजपुरा दरीबा खनिज पट्टी में मिले हैं। इसके अलावा, भीलवाड़ा जिले के सलामपुरा और इसके आसपास के इलाके में भी सीसा-जस्ता के भंडार मिले हैं।

02. बाड़मेर: सरहदी बच्चों के अधिकारों के लिए शुरू हुई ‘भारत माला बचपन यात्रा’ FEBRUARY 11, 2018
Image result for बाड़मेर: सरहदी बच्चों के अधिकारों के लिए शुरू हुई 'भारत माला बचपन यात्रा' राज्य बाल संरक्षण आयोग अध्यक्ष मनन चतुर्वेदी इन दिनों ‘भारत माला बचपन यात्रा’ पर है. यात्रा का आगाज बाड़मेर जिले के सरहदी गांवों से हुआ. जहां मनन चतुर्वेदी ने बच्चों के अधिकारों और मूलभूत सुविधाओं को देखने के लिए सीमावर्ती गांवों का दौरा किया. 

केलनोर गांव की आंगनबाड़ी केंद्र पर बच्चों को पोषाहार सामग्री पॉलीथिन में लेता देख मनन चतुर्वेदी ने इन बच्चों की तस्वीर अपने कैमरे में कैद की और आगे से बच्चों को पोषाहार देने के लिए आंगनबाड़ी कार्यकर्ता को पाबंद किया.  पाकिस्तान से लगती भारतीय सरहद के अंतिम छोर पर बसे गांवों में बच्चों के लिए क्या सुविधाएं मुहैया कराई जा रही है, इन्हीं को जानने के उद्देश्य से ‘भारत माला बचपन यात्रा’ की शुरूआत की गई है. 

03. राजसमंद में राष्ट्रीय कराटे प्रतियोगिता का आगाज FEBRUARY 11, 2018
नेश्नल यूनिवर्सिटी ऑफ मार्शल आर्ट के तत्वाधान में आज पहली बार राजसमंद के बालकृष्ण स्टेडियम मे राष्ट्रीय कराटे प्रतियोगिता का आगाज हुआ. उद्घाटन मैच के दौरान उच्च शिक्षामंत्री किरण माहेश्वरी, नगर परिषद सभापति सुरेश पालीवाल और द्वारिकाधीश मंदिर के युवराज नेमिष कुमार के प्रतिनिधि मौजूद रहे. पहला मैच कशिश और पूना की टीमके बाच खेला गया जिसकी शुरूआत मंत्री द्वारा की गई. सोमवार को कराटे प्रतियोगिता का फाइनल मैच के खेला जाएगा जिसके साथ इस प्रतियोगिता का समापन हो जाएगा.

यह मैच बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ को आगे बढ़ाने और बेटियों को आत्मरक्षा के गुर सिखाने के लिये आयोजित किए गए है, ताकि कहीं भी कोई बेटी खुद को असहाय न महसूस करे.

04. भारत-रूस की मित्रता के प्रतीक सूरतगढ़ फार्म में बनेगा संग्रहालय
Image result for सूरतगढ़ फार्मसूरतगढ़ का केंद्रीय राज्य फार्म, 15 अगस्त 1956 में स्थापित 30 हजार एकड़ सिंचित भूमि में फैला यह यांत्रिक फार्म एशिया का सबसे बड़ा फार्म है. भारत और सोवियत गणराज्य संघ की मित्रता की मिसाल यह फार्म कई मायनों में खास है. यहां करीब चालीस प्रकार के उन्नत बीजों का प्रोडक्शन होता है, जो राजस्थान सहित देश के विभिन्न राज्यों में निर्यात किया जाता है.

आजादी के बाद जब देश में खाद्यान की भारी कमी थी और अन्य देशों से गेहूं तक आयात किया जाता था. ऐसे में 1955 में भारत यात्रा पर आये सोवियत समाजवादी गणराज्य संघ के प्रधानमन्त्री एनएस खुश्चेव जब इस क्षेत्र से गुजरे, तो हजारों एकड़ में फैले बंजर इलाके को देखकर भारत के तत्कालीन प्रधानमंत्री पण्डित जवाहर लाल नेहरू को इस इलाके में हरित क्रान्ति लाने और कृषि के क्षेत्र में आत्मनिर्भर बनाने के उद्देश्य से अपनी ओर से हर सम्भव मदद का भरोसा दिलाया है. इसी के परिणाम स्वरूप सन् 1956 में उस समय के मूल्य की करीब 70 लाख रुपए लागत की विभिन्न कृषि यन्त्र और अन्य सामान मशीनरी उपहार के तौर पर उपलब्ध कराई गई. जिसकी बदौलत यह इलाका कृषि के क्षेत्र में आत्मनिर्भर तो हुआ ही साथ ही जो गेहूं कभी आयात किया जाता था वह निर्यात होने लगा.

वर्तमान में सूरतगढ़, जैतसर और सरदारगढ़ के लंबे चौड़े भूभाग पर फैला यह फार्म अपने प्रोडक्शन, बीज की विभिन्न उन्नत किस्मों को लेकर देश विदेश में अपनी पहचान बना चुका है.

आज इतने सालों बाद इस फार्म को दिए गए यांत्रिक उपकरणों और उनके रखरखाव को देखने जब रशिया से एक 9 सदस्यीय दल इसी 14 फरवरी को फिर भारत आ रहा है. ऐसे में फार्म प्रशासन ने उनके दौरे को लेकर तैयारियां आरम्भ कर दी है.रूस से आयातित मशीनें जो अब चलन में नहीं हैं. उनका फार्म की वर्कशॉप में ही संग्रहालय बनवा कर उन्हें रूस की एक यादगार देन के तौर पर संजोया जा रहा है. जिसका उद्घाटन भी दल में शामिल रूस के उपमंत्री सर्जे बेलेट्स्की के कर कमलों द्वारा करवाया जाना प्रस्तावित है

05. राजस्थान के डेजर्ट और सेमी डेजर्ट इलाके में भी होगी कैक्टस की खेती FEBRUARY 11, 2018
Image result for कैक्टसराजस्थान के रेगिस्तानी हिस्से में जल्द ही कैक्टस की खेती देखने को मिल सकती है. इस सम्बन्ध में राज्य सरकार को इजराइल से एक प्रस्ताव प्राप्त हुआ है, जिस पर उच्च स्तर पर विचार किया जा रहा है. हाल ही में इजराइली विशेषज्ञ एमनॉन ऑफेन ने इस सम्बन्ध में मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे और कृषि मंत्री प्रभुलाल सैनी से मुलाकात की है. राजस्थान के डेजर्ट और सेमी डेजर्ट इलाके के लिए कैक्टस की खेती काफी मुफीद साबित हो सकती है, क्योंकि न तो इसे ज्यादा पानी की जरुरत होती है और न ही इस पर ज्यादा लागत आती है. 

कैक्टस को दुनिया भर में पौष्टिक फूड के तौर पर स्वीकार किया गया है. साथ ही दवा के रुप में भी इसका उपयोग किया जा सकता है. फिलहाल मोटापा कम करने और डायबिटीज रोग में कैक्टस को कारगर पाया गया है.

यह कठिन परिस्थितियों में भी पनप सकता है जिनमें दुनिया का कोई दूसरा पौधा जीवित न रह सके. भीषण सूखे की स्थिति में यह पालतु पशुओं के लिए चारा मुहैया करा सकता है.

06. ठेला संचालक भी अब कहलाऐंगे लाइसेंस धारक  FEBRUARY 10, 2018
Image result for ठेला संचालक भी अब कहलाऐंगे लाइसेंस धारकप्रदेश के गृहमंत्री गुलाबचंद कटारिया आज से दो दिन के उदयपुर प्रवास पर हैं. इस दौरान कटारिया ने आज नगर निगम द्वारा आयोजित कार्यक्रम में शिरकत की. सुखाड़िया सर्किल स्थित ठेला व्यवसाईयों को आज निगम की ओर से दीनदयाल अन्त्योदय राष्ट्रीय शहरी आजीविका मिशन के अन्तर्गत लाईसेंस प्रदान किए गए. इस मौके पर लाईसेंस प्राप्त करने वाले इन साठ से अधिक ठेला व्यवसाईयों को स्वच्छता के प्रति पाबंद भी किया. कटारिया ने साफ किया कि निगम की यह पहल ठेला व्यवसाईयों के व्यवसाय को आगे बढ़ाने के लिए कारगर साबित होगी.

07. उदयपुर में वर्ल्ड म्यूजिक फेस्टिवल का रंगारंग आगाज FEBRUARY 10, 2018
Image result for उदयपुर में वर्ल्ड म्यूजिक फेस्टिवल का रंगारंग आगाजलेकसिटी उदयुपर में तीन दिवसीय वर्ल्ड म्यूजिक फेस्टिवल का रंगारंग आगाज हो चुका है. उदयपुर में लगातार तीसरी बार आयोजित हो रहे वर्ल्ड म्यूजिक फेस्टिवल में कई नामी संगीत सितारों की यादगार तरानों की प्रस्तुतियां सुनने को मिलेंगे. फेस्टिवल में पहले दिन गांधी ग्राउण्ड में संगीत नाईट में मशहूर संगीतकार शंकर, एहसान और लॉय की तिकड़ी ने सबको झूमने पर मजबूर कर दिया. इटली के ओई डिप्लॉई और ब्राजील के फ्लेवियाकोहेलो बैंड की प्रस्तुति के साथ इस नाइट की शुरूआत हुई. 

08. बीकानेर में हुआ सृजन 2018 का शुभारम्भ
राजकीय महिला पॉलिटेक्निक महाविद्यालय में शुक्रवार से तीन दिवसीय प्रदर्शनी सृजन 2018 का शुभारम्भ हुआ. प्रदर्शनी का उद्घाटन संवित सोमगिरी ने किया. इस अवसर पर संवित् सोमगिरी ने छात्राओं से सृजनात्मकता कार्य करने के लिए प्रेरित किया. इस प्रदर्शनी का आयोजन राजकीय महिला पॉलिटेक्निक कॉलेज ने महिलाओं में कौशल व स्वरोजगार विकास के लिए चलाए जा रहे विभिन्न पाठ्यक्रमों के बारे में जागरूकता लाने के लिए किया है. प्रदर्शनी में कॉलेज की विभिन्न गतिविधियों व कोर्सेस के बारे में जानकारी प्रदान करने के लिए विशेष सत्र आयोजित किए जाएंगे साथ ही महाविद्यालय की छात्राओं द्वारा तैयार उत्पादों का प्रदर्शन किया जाएगा.

09. जस्टिस मोहम्मद रफीक ने किया राष्ट्रीय लोक अदालत का शुभारंभ 10 फ़रवरी 2018
Image result for जस्टिस मोहम्मद रफीक ने किया राष्ट्रीय लोक अदालत का शुभारंभराजस्थान राज्य विधिक सेवा प्राधिकरण की ओर से राजस्थान उच्च न्यायालय परिसर जयपुर पीठ में शनिवार को न्यायाधीश मोहम्मद रफीक ने राष्ट्रीय लोक अदालत का शुभारंभ किया। इसमें सभी प्रकृति के राजीनामा योग्य प्रकरणों व प्रि लिटिगेशन के मामलों की वर्ष 2018 की प्रथम नेशनल लोक अदालत का आयोजन किया जा रहा है। उच्च न्यायालय जयपुर में सूचीबद्ध किए जाने वाले प्रकरणों को उनकी प्रकृति के आधार पर चिन्हित किया गया है। इनमें धारा 138 एन.आई. एक्ट, किरायेदारी प्रकरण की याचिका व प्रथम व द्वितीय अपील, सिविल प्रथम अपील, सी.एम.ए. फौजदारी अपील, फौजदारी विविध पिटीशन व प्रि लिटीगेशन आदि से संबंधित प्रकरणों को शामिल किया गया है।

नेशनल लोक अदालत जोधपुर में प्रि लिटीगेशन व लंबित कुल 1920 प्ररकण रेफर किए गए, जिनमें से 90 प्रकरणों का राजीनामा से निस्तारण हुआ एवं 1,50,19,000 रुपए की अवॉर्ड राशि पारित की गई।  

10. जयपुर में तीन दिवसीय अखिल भारतीय नेत्रहीन संगीत प्रतियोगिता 10 फ़रवरी 2018

भाटिया भवन, राजापार्क जयपुर में आयोजित तीन दिवसीय अखिल भारतीय नेत्रहीन संगीत प्रतियोगिता 2018 के द्वितीय दिवस पर राजस्थान डाक परिमण्डल के डाक सेवा निदेशक दुष्यंत मुद्गल अतिथि के रूप में सम्मिलित हुए। कार्यक्रम के दौरान महाराजा सवाई मानसिंह संगीत महाविद्यालय की ओर से दुष्यंत मुद्गल को महाविद्यालय के प्रधानाध्यपक बलबीर सिंह ने स्मृति चिन्ह एवं माला पहनाकर स्वागत किया।

Source of the current affairs ( With Respect ) :- ETV Rajasthan , Rajasthan Patrika , Dainik Bhaskar, Jagran, hindi.news18, Nav Bharattimes etc….

Leave a Reply

Be the First to Comment!

avatar
150
  Subscribe  
Notify of