बाल विकास ( CHILD DEVELOPMENT ) QUESTION-12

बाल विकास ( CHILD DEVELOPMENT ) QUESTION-12

01- बालक बिना सहारे से खड़ा हो ना सीख जाता है-
(A) 7 माह में
(B) 8 माह में
(C) 9 माह में (D) 10 माह में

(D) 10 माह में
व्याख्या:- “बाल-विकास की दिशा में बालक सातवाँ माह में “बिना सहारे बैठना”, आठवाँ माह में “सहारे से खड़ा होना”, जबकि दसवाँ माह में वो बिना किसी सहारे के खड़ा होना सिख जाता है”

02- मानव विकास का अध्ययन मनोविज्ञान की जिस शाखा के अन्तर्गत किया जाता है उसे कहा जाता है-
(A) मनोविज्ञान(Psychology)
(B) शिक्षा-मनोविज्ञान(Education psychology)
(C) बाल-मनोविज्ञानल( Child psychologist)

(D)विकास- मनोविज्ञान(Development psychology)

(C) बाल-मनोविज्ञान✔
व्याख्या:- मानव विकास का अध्ययन मनोविज्ञान की जिस शाखा के अन्तर्गत किया जाता है, उसे बाल मनोविज्ञान(Chil Psychology) कहते है

03- विश्व् अन्तराष्टिय बाल दिवस कब से मनाया जा रहा है-
(A) 1969   (B) 1968
(C) 1979   (D) 1989

(C) 1979✔
व्याख्या:- विश्व् में सन् 1979 से “विश्व् अन्तराष्टिय बाल दिवस” मनाया जा रहा है-

04- बाल विकास किस विषय का आधुनिक रूप है-
(A) दर्शनशास्त्र(Philosophy)
(B) बाल-मनोविज्ञान(child Psychology)
(C) मनोविज्ञान( Psychology)
(D) शिक्षा- मनोविज्ञान( Education-Psychology)

(B) बाल-मनोविज्ञान✔
व्याख्या:- बाल-मनोविज्ञान का आधुनिक रूप बाल-विकास है

05- “REPUBLIC” पुस्तक लिखी-
(A) अरस्तु    (B) वाटसन
(C) पियाजे   (D) प्लेटो

(D) प्लेटो✔
व्याख्या:- REPUBLIC” पुस्तक प्लेटो ने 427-344 ई.पू. इस की रचना की थी- इस में तथ्य को स्वीकार किया कि बाल्यावस्था के प्रशिक्षण का प्रभाव बालक के बाद की व्यवसायिक दक्षताओ पर और समायोजन पर पड़ता है I

06- भारत में बाल-विकास के अध्ययन की शुरुवात कब हुवी थी-
(A)1916    (B)1920
(C) 1925   (D) 1930

(D) 1930✔
व्याख्या:- भारत में बाल विकास के अध्ययन की शुरुवात लगभग 1930 में हुई थी जबकी भारत में पहली मोनोविज्ञान की प्रयोगशाला 1916 में कोलकाता में एस.एन. सेनगुप्ता ने की थी

07- प्रथम बाल ग्रह की स्थापना कहा की गई-
(A) रूस में  (B) अमेरिका
(C) जर्मनी   (D) इग्लैण्ड

(B) अमेरिका✔
व्याख्या:- विश्व् में प्रथम बाल ग्रह की स्थापना न्यूयॉर्क (अमेरिका) में बाल अपराधियों को सुधारने के लिए हुई I

08- बालक के अध्ययन सम्बन्धी प्रथम पत्रिका का प्रकाशन किया था-
(A) स्टेनली हॉल(Stanley hall)
(B) विलियम जेम्स( William James)
(C) जिन पियाजे(jean piaget)
(D) विलियम ब्रेकन( William Bracken)

(A) स्टेनली हॉल ✔
व्याख्या:- बालक के अध्ययन सम्बन्धी प्रथम पत्रिका का प्रकाशन स्टेनली हॉल ने “Pedagogical Seminar” का प्रकाशन प्रारम्भ करवाया I

09- रॉस के अनुसार बाल्यावस्था का समय है-
(A) 6-12 वर्ष   (B) 7-12 वर्ष
(C) 3-12 वर्ष   (D) 8-12 वर्ष

(C) 3-12 वर्ष ✔
व्याख्या:- विकास के आयाम में रॉस के अनुसार  शैशवावस्था- 1-3 वर्ष
प्राम्भिक बाल्यावस्था- 3-6 वर्ष
उत्तर बाल्यावस्था- 6-12 वर्ष
किशोरावस्था- 12-18 वर्ष

10- प्रथम बाल निर्देशन किलिनिक खोला था-
(A) स्टेनली हॉल
(B) विलियम जेम्स
(C) जिन पियाजे
(D) विलियम हिली

(D) विलियम हिली✔
व्याख्या:- प्रथम बाल निर्देशन किलिनिक विलियम हिली ने खोला था जो की 1909 में शिकागो में बनाया गया था, “इसी की याद के रुप में कैरियर-डे मनाया जाता है”

 

11- बालक की त्वचा, बाल आदि बाहरी अंगो के निर्माण करने में सहायक है-
(A) एक्टोडर्म(Ectoderm)
(B) मीसोडर्म(Mesoderm)
(C) एण्डोडर्म( Endoderm)
(D) सभी गलत है

(A) एक्टोडर्म ✔
व्याख्या:- एक्टोडर्म- इसे बाहरी परत भी कहते है एंव इसके द्वारा त्वचा, बाल इत्यादि अंगो का निर्माण होता है,
मीसोडर्म- इस से मांसपेशियो का निर्माण होता है
एण्डोडर्म- इस से मस्तिष्क, ह्रदय का निर्माण होता है

12- गर्भावस्था ( Pregnancy) का समय कम से कम और ज्यदा से ज्यदा हो सकता है-
(A) कम- 120 ज्यदा-320 दिन
(B) कम- 160 ज्यदा-340 दिन
(C) कम- 180 ज्यदा-330 दिन
(D) कम- 140 ज्यदा-350 दिन

(C) कम- 180 ज्यदा-330 दिन
व्याख्या:- “गर्भावस्था की अवधि सामान्यतया 270-280 दिन या 9 माह या चन्द्रमास होती है I”

13- शेशवावस्था में बालक में कौन-सा सवेग सर्वाधिक सक्रिय होता है-
(A) क्रोध     (B) भय
(C) प्यार     (D) जलन

(B) भय✔
व्याख्या:- शेशवावस्था में बालक में “भय” नामक सवेग सर्वाधिक सक्रिय होता है

14-बालक का मूल प्रव्रत्यात्मक व्यवहार किस अवस्था में होता है-
(A) बाल्यावस्था
(B) किशोरावस्था
(C) शेशवावस्था
(D) उत्तर बाल्यावस्था

(C) शेशवावस्था✔
व्याख्या:-

शेशवावस्था की विशेषताए
(1) शारीरिक व मानसिक विकास में तीव्रता
(2) सीखने की प्रक्रिया में तीव्रता
(3) कल्पना जगत में विचरण
(4) मूल प्रव्रत्यात्मक व्यवहार
(5) दोहराने की प्रवर्ति
(6) अनुकरण द्वारा सीखने की प्रवति
(7) सवेगो का प्रदर्शन
(8) नैतिक भावना का आभाव
(9) स्वंय-केन्दित बालक
(10) काम-प्रवति (फ़्रायड के अनुसार)
(11) दुसरो पर निर्भरता
(12) आत्म-प्रेम की भावना (आत्म केन्दित)
(13) दूसरे शिशुओ के प्रति रूचि
(14) जिज्ञासा की प्रवति
(15) अपनी सवेदनाओ व शारीरिक क्रियाओ के माध्यम से सीखना
(16) सामाजिक भावना का आभाव

15- अधिगम की कठिनाई का काल कहा गया है-
(A) बाल्यावस्था
(B) किशोरावस्था
(C) शेशवावस्था
(D) उत्तर बाल्यावस्था

(C) शेशवावस्था✔
व्याख्या:- माता-पिता के गर्भ से बाहर आने पर शिशु बाहरी वातावरण के अनुकूल न होने से बीमार हो सकता है इसलिए इसे “अधिगम कठिनाई काल” कहा जाता है I