Buddhist Ethics(बौद्ध नीतिशास्त्र)

Buddhist Ethics(बौद्ध नीतिशास्त्र)

प्रश्न 1 किसने कहाँ की, “तुम अपने दीपक स्वयं बनो ” ?
अ- महावीर स्वामी ने
ब-  महात्मा बुद्ध ने
स- भगवत गीता
द-  महर्षि वेदव्यास ने

ब✔
प्रश्न 2 प्रतीत्यसमुत्पाद का संबंध किससे है ?
अ- प्रथम आर्य सत्यसे
ब- द्वितीय आर्य सत्य से
स- तृतीय आर्य सत्य से
द- चतुर्थ आर्य सत्य से

ब✔
प्रश्न 3 हीनयान मत में निर्वाण का अर्थ क्या  है ?
अ- दीपक का बुझना
ब- आत्म-ज्ञान
स- सभी दुःखो का अंत
द- नित्य अस्तित्व की प्राप्ति

अ✔
प्रश्न 4 माध्यमिक शून्यवाद के मतानुसार प्रतीत्यसमुत्पाद है –
अ- विज्ञान
ब- शून्यता
स- निरपेक्षता
द- एकांतिक

ब✔
प्रश्न 5 द्वादश निदान को कहते है ?
अ- भाव चक्र
ब- द्रव्य चक्र
स- ज्ञान चक्र
द- विज्ञान चक्र

अ✔
प्रश्न 6 प्रतीत्यसमुत्पाद किस भाषा का शब्द है ?
अ- हिन्दी
ब- प्राकृत
स- पाली
द- संस्कृत

स✔
प्रश्न 7 शून्यवाद सम्प्रदाय के प्रवर्तक कौन है ?
अ- अंसग
ब- नागसेन
स- वसुबन्धु
द- नागार्जुन

द✔
प्रश्न 8 वैभाषिक सम्प्रदाय का दूसरा नाम क्या है ?
अ- शून्यवाद
ब- विज्ञानवाद
स- माध्यमिक
द- सर्वास्तित्ववादी

द✔
व्याख्या- वैभाषिक सम्प्रदाय का दूसरा नाम ‘सर्वास्तित्ववादी’ है , जो सभी वस्तुएएं के अस्तित्व को स्वीकार करता है।

प्रश्न 9 महात्मा बुद्ध के अनुसार निर्वाण प्राप्ति का साधन है –
अ- अष्टांग योग
ब- अष्टांग मार्ग
स- द्वितीय आर्य सत्य
द- पंच स्कन्ध

ब✔
प्रश्न 10 बौद दर्शन के त्रिकाय मे शामिल नहीँ है –
अ- अस्तिकाय
ब- सम्भोगकाय
स- निर्माणकाय
द-  धर्मकाय

अ✔
प्रश्न 11 विज्ञानवाद के प्रवर्तक कौन है ?
अ- नागसेन एवं नागार्जुन
ब- चन्द्रकीर्ति एवं धर्मकीर्ति
स- असंग एवं नागार्जुन
द- अंसग एवं वसुबन्धु

द✔

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.