भारतीय राजनीति विचारक-(विनायक दामोदर सावरकर)

प्रश्न =1 विनायक दामोदर सावरकर किस वर्ष में उन्हॊंने ‘अभिनव भारत’ नामक एक क्रान्तिकारी संगठन की स्थापना की।
(अ) 1901
(ब) 1908
(स)1904✔
(द) 1906

प्रश्न =2 विनायक दामोदर सावरकर :-(सत्य छाटिएॅ )
(अ) भारतीय इतिहास के प्रथम कोटी के क्रान्तिकारी कारी थे
(ब)  न्याय के लिए अहिंसा को भी उचित मानते थे
(स) शक्तिशाली हिन्दू-राष्ट्र का निमार्ण करना चाहते थे
(द) उपरोक्त सभी ✔

प्रश्न =3 विनायक दामोदर सावरकर ने कब ‘इंडिया हाऊस’ में 1857 की क्रांति की अर्द्धशताब्दी मनाने का निश्चय किया ?
(अ) 8 मई 1907
(ब) 9 मई 1907
(स)10 मई 1907✔
(द) 11 मई 1907

प्रश्न =4 विनायक दामोदर सावरकर ने 1857 की क्रांति पर किस में एक पुस्तक प्रकाशित की और इसे आजादी की पहली लड़ाई बताया ?
(अ) संस्कृत
(ब) हिन्दी
(स) गुजराती
(द) मराठी ✔

प्रश्न =5 विनायक दामोदर सावरकर ——ऐसे व्यक्ति थे जिन्होंने 1857 के ‘गदर’ को ‘गदर’ ना कहकर ‘भारत के प्रथम स्वतंत्रता संग्राम’ की संज्ञा दी?
(अ) प्रथम✔
(ब) द्वितीय
(स) तृतीय
(द) चतुर्थ

प्रश्न =6 विनायक दामोदर सावरकर ऐसे क्रान्तिकारी लेखक थे जिनकी पुस्तक ‘———-‘  प्रकाशन से पूर्व ही ब्रिटिश सरकार द्वारा जब्त कर ली गई थी
(अ) हिन्दू पद पादशाही (1925)
(ब) माई ट्रान्सपोर्टेशन फाॅर लाइफ (1984)
(स) द वार ऑफ इण्डियन इण्डिपेण्डेन्ट 1857 (1909)✔
(द) हिन्दुत्व (1923)

?व्याख्यान =द इंडियन वॉर ऑफ इंडिपेंडेंस – 1857 प्रसिद्ध स्वतंत्रता सेनानी वीर सावरकर द्वारा लिखित एक पुस्तक है, जिसमें उन्होंने सनसनीखेज व खोजपूर्ण इतिहास लिख कर ब्रिटिश शासन को हिला डाला था। अधिकांश इतिहासकारों ने 1857 के प्रथम भारतीय स्वतंत्रता संग्राम को एक सिपाही विद्रोह या अधिकतम भारतीय विद्रोह कहा था। दूसरी ओर भारतीय विश्लेषकों ने भी इसे तब तक एक योजनाबद्ध राजनीतिक एवं सैन्य आक्रमण कहा था, जो भारत में ब्रिटिष साम्राज्य के ऊपर किया गया था।

प्रश्न =7 विनायक दामोदर सावरकर की पुस्तक “द वार ऑफ इण्डियन इण्डिपेण्डेन्ट 1857” (1909) भारत पहुचने के संबंध में असत्य क्या है ?
(अ) ‘पीक वीस पेपर्स’ नाम से भारत पहुची
(ब) ‘स्काट्स पेपर्स’ नाम से भारत पहुची
(स) इसे भारतवासियो ने पवित्र ग्रंथ के रूप में पढा
(द) इसकी कई रूपों में आलोचना का सामना मना करना पड़ा✔

? व्याख्यान =  द इण्डियन वार ऑफ इंडिपेन्डेंस – 1857 इसपर स्तक का द्वितीय संस्करण लाला हरदयाल द्वारा गदर पार्टी की ओर से अमरीका में निकला और तृतीय संस्करण सरदार भगत सिंह द्वारा निकाला गया। इसका चतुर्थ संस्करण नेताजी सुभाष चंद्र बोस द्वारा सुदूर-पूर्व में निकाला गया। फिर इस पुस्तक का अनुवाद उर्दु, हिंदी, पंजाबी व तमिल में किया गया।ये पुस्तक (वीरसावरकर द्वारा रचित ) विभिन्न शीर्षकों के द्वारा ‘पीक वीस पेपर्स’ नाम से
और ‘स्काट्स पेपर्स’ नाम से भारत पहुची
इसे सभी भारतवासियो ने पवित्र ग्रंथ के रूप में पढा ।

प्रश्न =8  किस पुस्तक ने इंग्लैंड में सावरकर को युवा क्रान्तिकारियो का हृदय सम्राट बना दिया ?
(अ)हिन्दू पद पादशाही (1925)
(ब) माई ट्रान्सपोर्टेशन फाॅर लाइफ (1984)
(स) द वार ऑफ इण्डियन इण्डिपेण्डेन्ट 1857 (1909)✔
(द) हिन्दुत्व (1923)

? व्याख्यान = इस पुस्तक में सावरकर ने 1857 के सिपाही विद्रोह को ब्रिटिश सरकार के खिलाफ स्वतन्त्रता की पहली लड़ाई बताया। मई 1909 में इन्होंने लन्दन से बार एट ला (वकालत) की परीक्षा उत्तीर्ण की, परन्तु उन्हें वहाँ वकालत करने की अनुमति नहीं मिली।

प्रश्न =9 हिन्दू राष्ट्र की राजनीतिक विचारधारा (हिन्दुत्व) को विकसित करने का बहुत बडा श्रेय सावरकर को जाता है। विनायक सावरकर ने ‘हिन्दूत्व’ की अवधारणा का प्रतिपादन किया ?
(अ) 1902
(ब) 1915
(स) 1923✔
(द) 1932

प्रश्न =10 विनायक दामोदर सावरकर ने भारत छोड़ो आंदोलन का विरोध किया और नाम क्या दिया?
(अ) भारत छोड़ो
(ब) अंग्रेजों भारत छोड़ो
(स) भारत छोड़ो स्वतंत्र रहो
(द) भारत छोड़ो सेना रखो✔

?व्याख्यान =विनायक दामोदर सावरकर सैनिकीकरण पर बल देते थे।1962 में चीनी आक्रमण उन्होंने स्पष्ट किया कि “काश अहिन्सा, पंचशील व विश्व शान्ति में फंसे ये शासनाधिकारी मेरे सुझाव को मानकर अगर राष्ट्र का सैनिकीकरण करदेते तो वे आज हमारी सेना चीन को खदेड़कर उनका मद चूर चूर कर डालती ,किन्तु अंहिसा और विश्व शान्ति की काल्पनिक उड़ान भरने वाले ये ‘महापुरूष’ न जाने कब तक देश के सम्मान को अहिंसा की कसोटी पर कसते रहेगे ।”

प्रश्न =11 विनायक दामोदर सावरकर किस राजनीतिक पार्टी से सम्बन्धित थे
(अ) भारतीय जनता पार्टी
(ब) भारतीय काग्रेस पार्टी
(स) अखिल भारतीय हिन्दू महासभा ✔
(द) इनमें से कोई नहीं

?व्याख्यान = इन्होंने ‘रत्नागिरी हिन्दू सभा’ की स्थापना की इसका विल्य ‘हिन्दू महासभा’ में करदिया गया । 1973 में हिन्दू महासभा के अध्यक्ष निर्वाचन हुए ।

प्रश्न =12 विनायक दामोदर सावरकर ने किनको अपना राजनीतिक गुरू माना ?
(अ) सुभाष चन्द्र बोस को
(ब) बाल गंगाधर तिलक को✔
(स) अरविन्द घोष को
(द) महात्मा गांधी को

प्रश्न =13 विनायक दामोदर सावरकर ने “Live India Society” की स्थापना कहा पर की थी?
(अ) बम्बई
(ब) लन्दन ✔
(स) पुर्णे
(द) इंग्लैंड

प्रश्न =14 वीर सावरकर अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डा , (ICAO कोड:VOPB और IATA कोड:IXZ) जिसे सामान्यतः पोर्ट ब्लेयर विमान क्षेत्र कहते हैं,
इसका नाम प्रसिद्ध स्वतंत्रता सेनानी वीर सावरकर के नाम पर रखा गया है। उन्होंने यहाँ की सेल्यूलर जेल में 4 जुलाई 1911 से 21 मई 1921 तक का समय कारावास में बिताया था।
इनपर काल्पनिक फिल्म (कालापानी) बनाई गई कब ?
(अ) 1958✔
(ब) 1923
(स) 1950
(द) 1935

प्रश्न =15 विनायक दामोदर सावरकर के अनुसार हिन्दुत्व के 3 लक्षण (तत्व) बताऐ गये हैं जिनमें कौनसा शामिल है ?
(अ) राष्ट्र या प्रादेशिक एकता
(ब) जाति या रक्त सम्बन्ध
(स) संस्कृति
(द) उपरोक्त सभी ✔

नोट  >>>>●●नासिक जिले के कलेक्टर जैकसन की हत्या के लिए नासिक षडयंत्र काण्ड के अंतर्गत इन्हें 7 अप्रैल, 1911 को काला पानी की सजा पर सेलुलर जेल भेजा गया।

●●●25 फ़रवरी 1931 को सावरकर ने बम्बई प्रेसीडेंसी में हुए अस्पृश्यता उन्मूलन सम्मेलन की अध्यक्षता की

●●1937 में वे अखिल भारतीय हिन्दू महासभा के कर्णावती (अहमदाबाद) में हुए १९वें सत्र के अध्यक्ष चुने गये, जिसके बाद वे पुनः सात वर्षों के लिये अध्यक्ष चुने गये। 25अप्रैल 1937 को उन्हें मराठी साहित्य सम्मेलन का अध्यक्ष चुना गया।

●●”मातृभूमि! तेरे चरणों में पहले ही मैं अपना मन अर्पित कर चुका हूँ। देश-सेवा ही ईश्वर-सेवा है, यह मानकर मैंने तेरी सेवा के माध्यम से भगवान की सेवा की।”—–विनायक दामोदर सावरकर 

Leave a Comment

Your email address will not be published.

Scroll to Top