मध्यप्रदेश का गठन

मध्यप्रदेश का गठन

प्रदेश को मध्य प्रदेश नाम भारत के प्रधानमंत्री Pandit Jawaharlal Nehru ने दिया !
 मध्य प्रदेश देश के मध्य में स्थित है इसलिए सहृदय प्रदेश भी कहा जाता है!
 इसे हृदय प्रदेश .लघु  भारत .मध्य भारत .सोया स्टेट .टाइगर स्टेट .नदियों का मायका .हीरा राज्य .सेंट्रल प्रोविंसेस एवं बरार अन्य नाम है !
 ब्रिटिश काल मे मध्यप्रदेश नाम से कोई राज्य नही था परंतु सेंट्रल प्रोविंस एबं बरार के नाम से जाना जाता था!
 29 दिसंबर 1953 में बने फजल अली की अध्यक्षता में गठित राज्य पुनर्गठन आयोग कार्य की अनुशंसा पर 1 नवंबर 1956 को नवीन मध्य प्रदेश का गठन हुआ
 मध्यप्रदेश का 1956 से पूर्व मध्य भारत कहा जाता था!

राज्य पुनर्गठन आयोग 1953 की सिफारिशों के आधार पर नंबर 

1. बुलढाना .भंडारा. अकोला .अमरावती. वर्धा. यवतमाल .नागपुर .चांदा को तत्कालीन मुंबई में मिला दिया !

शेष भाग  मध्य प्रदेश का ही भाग था

2. मंदसौर जिले की भानपुरा तहसील के सुनेल टप्पा को छोड़कर शेष भाग को मध्यप्रदेश में मिला लिया
3. कोटा जिले की सिरोंज तहसील को मध्यप्रदेश के विदिशा जिले में मिला दिया
3. रीवा को पूरा पूरा भाग बर्तमान मध्य प्रदेश में मिलाया गया
5. आखिर मै भोपाल को राज्य की राजधानी बना दिया गया ! भोपाल  वर्तमान मध्यप्रदेश का हिस्सा है!

6. समस्त परिवर्तन सहित 1 नवंबर 1956 को मध्यप्रदेश का गठन विभाग मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल रखी गई जो सीहोर जिले की तहसील थी!

7. नवनिर्मित मध्यप्रदेश में 48 जिले एवं 9संभाग थे !
8. 26 जनवरी 1972 को भोपाल & राजनांदगांव दो नए जिले बनाए गए ! इसके बाद  जिलों की संख्या 47 हो गई
9. 1980 में चंबल एवं बस्तर संभाग का गठन किया गया बाद में होशंगाबाद को भी संभाग बनाया गया इस प्रकार 45 जिले एवं 12 संभाग  हो गये !
10. 1982 में BP दवे की अध्यक्षता में जिला पुनर्गठन आयोग का गठन किया गया

11. मध्यप्रदेश का पुनर्जन्म 1956 में भाषाई आधार पर किया गया !
12. मध्य प्रदेश में जिलों का पुर्ननिर्माण B.P.दवे अनुसंर होता रहा!
13. 1998 में 10 नए जिलों का निर्माण हुआ

14. 1998 में एम एम सिंह देव समिति की सिफारिश पर 6 जिले और जुड़ गये  इस प्रकार 61 जिले हो गए थे !

15. 31 अक्टूबर 2000 को मध्यप्रदेश से छत्तीसगढ़ के अलग होने से तीन संभागवार 16 जिले नवीन राज्य में चले गए !
16. इस प्रकार 9 सम्भाग  45 जिले शेष बचे!
17. 15 अगस्त 2003 बुरहानपुर (खंडवा ),अनूपपुर (शहडोल ),अशोकनगर (गुना) 3  जिलो  का निर्माण किया गया!
18. इस प्रकार म.प्र. मै जिलो कि संख्या 48 हो गयी
19. 2008 में 17 मई 2008 को अलीराजपुर व 24 मई 2008 को सींगरोली. व 16 अग्सत 2013 को आगर मालवा जिले के निर्माण किया!
20. इस प्रकर मध्य प्रदेश में जिलों की संख्या 51 हो गयी ! शहडोल संभाग बनाया गया !

21. होशंगाबाद संभाग का नाम नर्मदा पुरम किया गया !
22. वर्तमान में 51 जिले व 10 संभाग  है !
23. अलीराजपुर जिले के हावड़ा का नाम फरवरी 2010 में चंद्रशेखर आजाद नगर घोषित किया गया !

24. वर्तमान में मध्यप्रदेश में रियासतों की संख्या 61 है

मध्यप्रदेश के नवगठित जिलों के नाम

1. नवीन जिले:- शिवपुर
 गठन का वर्ष:- 1998
 मूल जिले का नाम :-मुरैना

2. नवीन जिला :- उमरिया
 गठन का वर्ष :- 1998
 मूल जिले का नाम:- शहडोल

3. नवीन जिला:- नीमच
 गठन का वर्ष :- 1998
 मूल जिले का नाम:- मंदसौर

4. नवीन जिला :- हरदा
 गठन का वर्ष :- 1998
 मूल जिले का नाम :- होशंगाबाद

5. नवीन जिला :- Katni
 गठन का वर्ष :- 1998
 मूल जिले का नाम :- जबलपुर

 6. नवीन जिला :- डिंडोरी
 गठन का वर्ष :- 1998
 मूल जिले का नाम:- मंडला

7. नवीन  जिला :- बड़वानी
 गठन का  बर्ष:- 1996
 मुल जिले का नाम:- पश्चिम निमाड़ (खरगोन)

8. नवीन जिला:- बुरहानपुर
 गठन बर्ष:- 2003
 मूल जिले का नाम :- खंडवा (पूर्व निमाड)

9. नवीन  जिला:- अशोकनगर
 गठन बर्ष:- 2003
 मूल जिले का नाम :- गुना

10. नवीन जिला :-अनूपपुर
 गठन वर्ष:-2003
 मुल जिले का नाम:- शहडोल

11. नवीन जिला:- अलीराजपुर
 गठन का वर्ष :-2008
 मूल जिले का नाम:- झाबुआ

12. नवीन जिला:- सिंगरोली(Singrauli)
 गठन का वर्ष :- 2008
 मूल जिले का नाम:- सिंधी

13. नवीन जिला :- आगर मालवा
 गठन का वर्ष :- 2013
 मूल जिले का नाम:- शाजापुर( Shajapur)

One thought on “मध्यप्रदेश का गठन”

Comments are closed.