मध्यप्रदेश सामान्य ज्ञान PART 02(Madhya Pradesh General knowledge PART 02)

मध्यप्रदेश सामान्य ज्ञान PART 02

(Madhya Pradesh General knowledge PART 02)

मध्यप्रदेश का एकमात्र हिल स्टेशन जिसे सतपुड़ा की रानी कहा जाता है – पचमढ़ी
मध्य प्रदेश में सड़कों की कुल लंबाई – 73,311 किमी.
मध्य प्रदेश का सबसे बड़ा रेलवे जंक्शन – इटारसी
मध्य प्रदेश में रेल सेवा विभाग का मुख्यालय – भोपाल

मध्य प्रदेश में कुल हवाई अड्डे – 5 (खजुराहो, ग्वालियर, भोपाल, इन्दौर एवं जबलपुर)
1 नवंबर, 2000 को मध्य प्रदेश में अलग होकर बनने वाला राज्य – छत्तीसगढ़
मध्य प्रदेश के प्रमुख लोकगीत – आल्हा, कलगी, तुर्रा, नागपन्थी, गायन, भरथरी इत्यादि
मध्य प्रदेश के प्रमुख लोकनृत्य – गणगौर, काटी, फेफारिया, आड़ा-खाड़ा नाच, डंडा नाच, मटकी नाच, रजवाड़ी, राई नृत्य, खैरा नृत्य, कानड़ा नृत्य इत्यादि

मध्य प्रदेश में सर्वाधिक बोली जाने वाली बोली – बुन्देलखंडी
मध्य प्रदेश की प्रमुख नदियां – नर्मदा, चम्बल, सोन, ताप्ती व बेतवा
मध्य प्रदेश की सबसे बड़ी नदी – नर्मदा
भारत की 5वीं सबसे बड़ी नदी – नर्मदा

राज्य की प्रमुख जनजातियां – गोण्ड भील, बैगा, कोरकू, भारिया, कोल, हल्बा, सहारिया, सउर, खैखार, पनिका, केवार इत्यादि

प्रदेश की प्रमुख फसलें – चावल, गेहूं, ज्वार, चना, सोयाबीन, गन्ना व कपास
राज्य की प्रमुख व्यापारिक फसल – सोयाबीन
राज्य के प्रमुख टाइगर रिजर्व – कान्हा, पन्ना, बाधवगढ़ पेंच, सतपुड़ा

मध्य प्रदेश के प्रमुख राष्ट्रीय उद्यान – कान्हा किसली, माधव, बांधवगढ़, पन्ना, सतपुड़ा, वन विहार, सोन, नरसिंह गढ़ इत्यादि

मध्य प्रदेश का पहला राष्ट्रीय उद्यान – कान्हा किसली
राज्य में पाए जाने वाले प्रमुख खनिज – ग्रेफाइट, अभ्रक, शीशा, बॉक्साइट, तांबा, संगमरमर, चूना पत्थर, कोयला, घीया पत्थर, स्लेट इत्यादि

राज्य का उच्च न्यायालय – जबलपुर
किस जिले मे साक्षरता का दर सर्वाधिक है – नरसिंहपुर
भोपाल गैस त्रासदी के दोरान जो गैस निकली थी,वह कौन सी है – मिथाइल आइसोसाईनाइट
2007 वर्ष गुवाहाटी मे 33वे रास्टीय खेलो मे मध्य प्रदेश ने किस खेल मे सर्वाधिक स्वणृ पदक जीते थे – कराटे
कौन सा पुरुस्कार मध्य प्रदेश सरकार द्वारा खिलाडीयों को दिया जाता है – विक्रम पुरुस्कार
2008 वर्ष मे मध्य प्रदेश मे कौन.से दो नय जिले गठित हुए – सिन्गरोली व अलीराजपुर
कौन सा शहर भारतीय मानक समय देदास के निकटतम है – रीवा
नर्मदा बचाओ आन्दोलन किस बाँध की ऊचाई बढ़ाने के निर्णय का विरोध कर रहा है – इंदिरा सागर

चम्बल नदी पर कौन सा बाँध निर्मित है – गांधी सागर
मध्य प्रदेश का एक मात्र एस्बेसतास उत्पादक जिला कौनसा है – झाबुआ
मध्य प्रदेश के किस संभाग मे सबसे अधिक जिले है – जबलपुर

सर्वाधिक शिशु जनसंख्या वाले दो जिले हैं – इंदौर एवं धार
न्यूनतम शिशु जनसंख्या वाले दो जिले हैं – हरदा एवं अनूपपुर
सर्वाधिक तथा न्यूनतम दशकीय वृद्धि दर वाले दो-दो जिले क्रमश: – इंदौर व झाबुआ और अनुपपुर व बैतूल
सर्वाधिक तथा न्यूनतम अनुसूचित जाति की जनंसख्या क्रमश: – इंदौर और झाबुआ
भारत में जनसंख्या के आधार पर मध्य प्रदेश का स्थान – छठा
साक्षरता दर के मामले में राज्य का देश में स्थान – 28वां
महिला साक्षरता में राज्य का स्थान – 28वां

राज्य में औसत लिंगानुपात – 931 (महिला प्रति हजार पुरुष)
मध्य प्रदेश में शिशु लिंगानुपात – 918
मध्य प्रदेश के उस जिले का नाम जिसका लिंगानुपात राज्य के लिंगानुपात के बराबर है – रीवा जिला (930)
निम्नतम शिशु लिंग अनुपात जिला – मुरैना
उच्चतम शिशु लिंग अनुपात वाला जिला – अलीराजपुर
क्षेत्रफल – 3,08,252 वर्ग किमी.-
क्षेत्रफल की दृष्टि से मध्य प्रदेश का स्थान – दूसरा
क्षेत्रफल की दृष्टि से सबसे बड़ा जिला – छिन्दवाड़ा
क्षेत्रफल की दृष्टि से सबसे छोटा जिला – दतिया

प्रदेश का सबसे बड़ा शहर – इंदौर
सीमावर्ती राज्य – पूर्व में छत्तीसगढ़ पश्चिम में राजस्थान और गुजरात, उत्तर में उत्तर प्रदेश तथा दक्षिण में महाराष्ट्र
प्रदेश की अधिकतम सीमा से जुड़ने वाला राज्य – उत्तर प्रदेश (10 जिलों में)
न्यूनतम सीमा से जुड़ने वाला राज्य – गुजरात
मध्य प्रदेश की दक्षिणी सीमा से जुड़ने वाली नदी – ताप्ती
मध्य प्रदेश की उत्तरी सीमा से जुड़ने वाली नदी – चम्बल
मध्य प्रदेश के मध्य से गुजरने वाली रेखा – कर्क रेखा
मध्य प्रदेश के प्रथम मुख्ममंत्री – श्री रविशंकर शुल्क
राज्य के प्रथम राज्यपाल – पट्टाभि सीतारमैया

प्रथम विश्वविद्यालय – डॉ. हरिसिंह गौर (सागर)
प्रथम बायोस्फीयर रिजर्व – पचमढ़ी
प्रथम जीवाश्म राष्ट्रीय उद्यान – मण्डला
राज्य का प्रथम अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डा – भोपाल
‘झीलों का शहर’ उपनाम से जाना जाने वाला शहर – भोपाल

308,000 किमी तक फैला मध्यप्रदेश भारत का दूसरा सबसे बड़ा राज्य है।
प्राकृतिक संसाधनों से भरे-पूरे मध्यप्रदेश में खनिज, ईंधन, जैविक संपदा की कोई कमी नहीं है।
मध्यप्रदेश की 31 फ़ीसदी ज़मीन ऐसी बेशकीमती और दुर्लभ जड़ी-बूटी संबंधी औषधियां वनपस्तियों से लैस हैं, जिनका अभी तक पूरी तरह से दोहन नहीं हुआ है।

बड़ी मात्रा में सोयाबीन, अरहर, चना, लहसून की पैदावार।
भारत में सीमेंट का तीसरा सबसे बड़ा उत्पादक राज्य।
इस राज्य में कोयला बेड मेथेन के 144 बीसीएम से ज़्यादा का रिज़र्व है।
निवेशकों के लिए उत्तम और शांत माहौल।
अच्छी व्यावसायिक शिक्षा का केन्द्र।
कुशल और तकनीकी व्यावसायिक मानव-शक्ति उपलब्ध।
देश का प्राकृतिक लॉजिस्टिक केन्द्र।
कृषि जलवायु संबंधी 11 ज़ोन।
ज़मीन की कम लागत।
सैलानियों की पसंदीदा जगह।
उत्साहजनक औद्योगिक आधार।
समृद्ध संस्कृति।

खास शहर, खास बातें
इंदौर : फार्मास्यूटिकल टेक्स्टाइल, फूड प्रोसेसिंग, आईटी, ऑटो कम्पोनेंट
भोपाल : इंजीनियरिंग, टेक्स्टाइल, बायोटेक, हर्बल, फूड प्रोसेसिंग, आईटी
जबलपुर : कपड़ा, खनिज, पत्थर, जंगल, हर्बल, फूड प्रोसेसिंग-
ग्वालियर : इलेक्ट्रॉनिक्स, आईटी, एफएमसीजी, पत्थर, फूड प्रोसेसिंग, इंजीनियरिंग
रीवा : खनिज, सीमेंट, जंगल
सागर : मिनरल प्रोसेसिंग, पत्थर”

मध्यप्रदेश की ताकत
मध्यप्रदेश दूसरा सबसे बड़ा भारतीय राज्य है, जो देश के 9.5 फ़ीसदी हिस्से तक फैला हुआ है। भौगोलिक दृष्टि से यह देश में केन्द्रीय स्थान रखता है। कुदरती संसाधनों से भरपूर इस राज्य में खेती के लिए उपजाऊ ज़मीन और अनुकूल मौसम है।

हाल के वर्षों में भारतीय अर्थव्यवस्था में काफी बदलाव आए हैं। औद्योगिक क्षेत्र में निवेश की दिशा और दशा अब सरकार के अलावा खुले बाज़ार तय करने लगे हैं। मध्यप्रदेश में निवेशकों के पास प्रोजेक्ट लोकेशन, इंफ्रास्ट्रक्चर, इंसेंटिव और अन्य सुविधाओं के रूप में बेहतर विकल्प मौजूद हैं। राज्य के औद्योगीकरण के लिए राज्य सरकार ने कारोबार को प्रोत्साहित करने वाली नीतियों को अपनाया है।

मध्यप्रदेश में उद्योग को प्राकृतिक संसाधनों से बल मिलता है। चूना पत्थर, सोया, सूत, कच्चा लोहा आदि के रूप में इस राज्य को भारी मात्रा में प्रकृति का वरदान मिला है। कपड़ा, सीमेंट, स्टील, सोया प्रोसेसिंग, ऑप्टिकल फाइबर के क्षेत्रों में यहां उद्योगों को मजबूत आधार मिला हुआ है। भेल, नेशनल फर्टिलाइजर लि., सिक्युरिटी पेपर मिल, होशंगाबाद, करेंसी प्रिटिंग प्रेस, देवास, अल्कालॉयड, ऑर्डनेंस फैक्ट्री, गन कैरिज फैक्ट्री जबलपुर, नेपा मिल्स जैसी कई बड़ी सरकारी कंपनियां इसी राज्य में हैं।

किसी भी राज्य के विकास में कनेक्टीविटी की अहम भूमिका होती है और कनेक्टीविटी इस राज्य की ताकत है। देश के कई बड़े शहरों और बाज़ारों से मध्यप्रदेश जुड़ा हुआ है। प्राकृतिक संसाधनों के साथ-साथ समृद्ध सांस्कृतिक विरासत, शानदार जीवनशैली, मजबूत औद्योगिक आधार, शांति प्रिय जनता और निवेशकों को अपनी ओर खींचती सरकार मध्यप्रदेश की खासियत है।

उपयुक्त स्थान
जंगलों और खनिजों से भरे-पूरे मध्यप्रदेश में कई किस्म के जानवर और बहुत-सी नदियां हैं। यही खास बात पर्यटन के लिए भी इसे एक शानदार जगह बनाती है।

रोजाना 425 ट्रेनें मध्यप्रदेश से होकर चलती हैं, जिनमें से राज्य की राजधानी भोपाल से ही 220 ट्रेनें गुअरती हैं।

4885 किमी का नेशनल हाईवे।

6 नेशनल हाईवे, साथ में दिल्ली-मुंबई, दिल्ली-चेन्नई, दिल्ली-बैंगलोर, दिल्ली-हैदराबाद के ट्रक रूट्स भी इस राज्य से होकर गुज़रते हैं।

9885 किमी तक फैले स्टेट हाईवे, जो शहर और पर्यटन केन्द्रों को जोड़ते हैं।

भोपाल और इंदौर से दिल्ली, मुंबई, अहमदाबाद, हैदराबाद, रायपुर जैसे प्रमुख शहर हवाई मार्गों के ज़रिए जुड़े हुए हैं।

भोपाल, इंदौर, खजुराहो और ग्वालियर जैसे शहरों से हवाई मार्ग के ज़रिए जुड़ा है।

कान्दला पोर्ट, जवाहर नेहरू पोर्ट ट्रस्ट आदि के लिए आसान, सुलभ रास्ते से मध्यप्रदेश जुड़ा हुआ है।

उज्जेन महाजनपद युग मे किसकी राजधानी थी – अवन्ती की
सास बहु मंदिर कहाँ निर्मित हुआ – ग्वालियर
भरहुत स्तूप की खोज किसने की – कनिंघम

मंदसोर प्रशस्ति से किस नगर की प्रसिद्धि की सुचना मिलती है – दशपुर
मध्य प्रदेश राज्य की स्थापना कहाँ हुई – नवंबर,1956
छत्तीसगढ़ के गठन के बाद मध्य प्रदेश की जनसंख्या कितनी है – 7,25,97,565
मध्य प्रदेश मे राज्यसभा के लिये कितने सदस्य निर्वाचित होते है – 11
मध्य प्रदेश मे लोकसभा के लिये कितने सदस्य निर्वाचित होते है – 29
मध्य प्रदेश मे वर्तमान समय मे कुल कितने जिले है – 50
मध्य प्रदेश मे विधानसभा के लिये कितने सदस्य निर्वाचित होते है – 230

मध्य प्रदेश राज्य को कितने संभागो मे विभाजित किया गया है – 10
मध्य प्रदेश मे उच्चन्यायालय की खण्डपीठे कहाँ पर है – ग्वालियर व इंदोर
क्षेत्रफल की दृष्टि से 28 राज्य मे मध्य प्रदेश का स्थान है – द्वितीय
राज्य सरकार का कानूनी सलाहकार है – एडवोकेट जनरल
सर्वाधिक पुरुष साक्षरता दर वाला जिला – जबलपुर/इंदौर
न्यूनतम पुरुष साक्षरता दर वाला जिला – अलीराजपुर

सर्वाधिक महिला साक्षरता दर वाला जिला – भोपाल
न्यूनतम महिला साक्षरता दर वाला जिला – अलीराजपुर

सर्वाधिक नगरीय जनसंख्या प्रतिशत वाला जिला – भोपाल
न्यूनतम नगरीय जनसंख्या प्रतिशत वाला जिला – डिंडोरी
सर्वाधिक अनुसूचित जाति (SC) प्रतिशतता वाला जिला – उज्जैन
न्यूनतम अनुसूचित जाति प्रतिशतता वाला जिला – झाबुआ
सर्वाधिक अनुसूचित जनजाति प्रतिशतता वाला जिला – अलीराजपुर
न्यूनतम अनुसूचित जनजाति वाला जिला – भिंड

प्राकृतिक रूप से समृद्ध राज्य
भारत की वन-भूमि का 12.4 प्रतिशत हिस्सा मध्यप्रदेश में है। यह जैविक विविधताओं से भरा-पूरा राज्य है। राज्य का क्षेत्रफल 308,252 किमी है, जो कि देश की ज़मीन का 9.38 हिस्सा है। राज्य की वन-भूमि का क्षेत्रफल 95221 किमी है, जो कि राज्य के क्षेत्रफल का 31 फ़ीसदी है।

राज्य का 31 फ़ीसदी भाग जंगलों से ढंका है।
25 ग्लोबल एग्रो-क्लाइमेटिक जोन में से 11 मध्यप्रदेश में।
भारी मात्रा में दुर्लभ, बेशकीमती औषधीय-हर्बल वनपस्तियां।

खेती के लिए खास है मध्यप्रदेश
भारत में तिलहन और दालों का सबसे बड़ा उत्पादक केंद्र मध्यप्रदेश है।
देश में दालों की कुल पैदावार का 25.3 फ़ीसदी, चने का 36 फ़ीसदी हिस्सा मध्यप्रदेश से आता है।
गेहूं, आलू की कई उम्दा किस्में।
लहसून, हरा धनिया का सबसे बड़ा उत्पादक राज्य मध्यप्रदेश है।
निवेश के लिए 50 से 3000 एकड़ ज़मीन उपलब्ध।

निवेशकों के लिए मध्यप्रदेश सरकार ने नॉन फॉरेस्ट वेस्ट लैंड के आवंटन की नीति तैयार की है।
यहां कॉण्ट्रेक्ट फार्मिंग की इजाज़त है। APMC एक्ट में बदलाव लाए गए हैं।
प्राकृतिक संसाधनों से भरपूर
मध्यप्रदेश में 11 अलग-अलग कृषि-जलवायु ज़ोन हैं।

भारी मात्रा में कच्चा लोहा, हीरे, कच्चा तांबा, कच्चा मैग्नेशियम, चूना पत्थर, कोयला, संगमरमर, ग्रेनाइट जैसे खनिज।

भारत की वन-भूमि का 12.4 प्रतिशत हिस्सा मध्यप्रदेश में है।
कोयला, कोल-बेड मेथेन जैसे दुर्लभ ईंधन भी यहां उपलब्ध हैं।
भारत के कोल-रिजर्व का 7.7 प्रतिशत हिस्सा मध्यप्रदेश में है।
सीधी जिले में कोयले की घनी परत है, जो एशिया में सबसे घनी है।

भारत में हीरे की इकलौती सक्रिय खदान मध्यप्रदेश में है।
144 बीसीएम के कोल-बेड मेथेन के भंडार खोजे जा चुके हैं।
यहां ऊर्जा, सीमेंट, लोहे और स्टील यूनिटों के खदानों के ब्लॉक मौजूद होने की भी उम्मीदें नजर आई हैं।
निर्माण के लिए ज़रूरी चूना पत्थर के बड़े भंडार।
लोहे और स्टील के अहम घटक मैंगनीज़, डोलोमाइट यहां मिलते हैं।
संगमरमर, ग्रेनाइट, फ्लैग्स्टोन जैसे बेशकीमती पत्थरों की यहां कई किस्में उपलब्ध हैं।​