राजस्थान निर्माण की प्रस्तावना

?जुलाई 1945 को इंग्लैंड में अनुदार दल के नेता विंस्टन चर्चिल को परास्त कर मजदूर दल की सरकारका गठन हुआ था
? इस दल के नेता मिस्टर एटली इंग्लैंड के प्रधानमंत्रीबने थे
?मजदूर दल को भारत की स्वतंत्रता के प्रति पहले से ही सहानुभूति थी
?अतः सत्ता में आते ही एटली ने 20 फरवरी 1947 को ब्रिटिश संसद में घोषणा कर दी थी
?कि जून 1948 तक भारत की राज्य सत्ता जिम्मेदार भारतीयोंको सौंप दी जाएगी
? इस घोषणा के उपरांत भारत के तत्कालीन गवर्नर जनरल लॉर्ड वेवल ने 24 मार्च 1947 को अपने पद से त्याग पत्र दे दिया
?लार्ड वेवल के स्थान पर लार्ड माउंटबेटन को गवर्नर बना दिया गया
?लॉर्ड वेवेल को इंग्लैंड वापस बुला लिया गया था
?लॉर्ड माउंटबेटन ने सांप्रदायिक उन्माद से देश को बचाने के उद्देश्य से सत्ता के हस्तांतरण का कार्य शीघ्रातिशीघ्र करने का फैसला किया
?लार्ड माउंटबेटन की नियुक्ति पर लार्ड इस्मेने कहा था कि माउंटबेटन ऐसे समय जहाज का संचालन संभाल रहे हैं जबकि जहाज समुंदर के बीच में है उसमें बारुद बढ़ा हुआ है और उसके ऊपर आग लगी हुई है
?परंतु लॉर्ड माउंटबेटन ने अपने को एक योग्य और सफल नाविक सिद्ध किया
? धीरे धीरे जहाज को उस पार तक पहुंचाने में जो दुष्कर कठिनाइयांसामने आ रही थी
?उनका हृदय से सच्चा समाधान करते हुए भारतीय जहाज को स्वतंत्रता की मंजिल पर पहुंचा दिया

?ब्रिटिश संसद ने वायसराय का तत्संबंधी प्रस्ताव 3 जून 1947 को भारत के स्वतंत्रता विधेयक को स्वीकृति प्रदान कर दी
?ब्रिटिश सरकार की पुष्टि होते ही लॉर्ड माउंटबेटन ने 4 जून 1947 को भारत के विभाजन की घोषणा की
?जिससे यह प्रावधान किया गया कि ब्रिटिश सरकार 15 अगस्त 1947 को सत्ता हस्तांतरित कर देगी
?देसी रियासतों का यह अधिकार सुरक्षित रखा गया कि वह भारत संघ में विलय हो या पाकिस्तान में मिले अथवा स्वयं को स्वतंत्र घोषित कर दे
? इसी बीच 15 अगस्त 1947 को भारत स्वतंत्र हो गया
? निसंदेह है इस महान कार्य का श्रेय राष्ट्रीय कांग्रेस को और राजस्थान के राज्य में गठित प्रजा मंडलोंको जाता है
?15 अगस्त 1947 को भारत आजाद अवश्य हो गया था
? लेकिन अखंड भारत के रूप में ना की खंडित भारत के रूप में आजाद हुआ था
? भारत के ही कुछ प्रांतों को भारत से विलग कर पाकिस्तान नाम का एक नवीन राष्ट्र गठितकर दिया गया
?इसके अलावा इस स्वतंत्रता अधिनियम के अंतर्गत केवल प्रत्यक्ष रुप से ब्रिटिश शासित प्रांतों को ही स्वतंत्रतामिली थी

?इन 9 प्रांतों के अलावा भारत में लगभग 565 देसी रियासतेऔर थी जो कि नरेशों द्वारा वंशानुगत अधिकार के आधार पर शासित होती थी
?स्वतंत्रता अधिनियम ने रियासतों पर से अंग्रेजों की सर्वोच्चता अवश्य समाप्त कर दिथी
?परंतु यह  नरेशो की इच्छा पर छोड़ दिया गया था कि वह चाहे भारत में मिले या पाकिस्तान में इसके अलावा उन्हें स्वतंत्र रहने की भी छूट दी गई थी
?अतः स्वतंत्रता अधिनियम की आठवीं धारा ने भारतीय स्वतंत्रता को संकटग्रस्तबना दिया था
?लेकिन भारत के लोह पुरुष सरदार वल्लभ भाई पटेल ने अपनी दूरदर्शिता व कूटनीति से इन रियासतों के मामले को इस प्रकार हल किया कि भारत अनेक खंडों में खंडित होने से बच गया

? सैकड़ों की संख्या में विद्यमान देसी रियासतों को मुट्ठी भर राज्यों में बदल दिया गया

    ???देसी रियासतों की आपसी गठन की कार्रवाई???

?भोपाल नवाब की पाकिस्तान समर्थित कार्यवाही?

?नरेंद्र मंडल के तत्कालीन अध्यक्ष भोपाल के नवाब हमीदुल्ला खानने राजपूताने की रियासतों को पाकिस्तान में मिलने के लिए प्रेरित किया
? ताकि उन रियासतों की सीमा पाकिस्तान से मिल जाए
? इस प्रकार से भोपाल राज्य की सीमा पाकिस्तान से जा लगेगी
? उसी की तरह इंदौर के महाराजा यशवंत राव होल्कर को भी कांग्रेसी नेताओंपर कोई भरोसा नहीं था
?राजपूताने के बीकानेर और उदयपुर आदि देशी राज्यों ने आरंभ से ही भारत संघ में मिलने का निर्णय कर लिया और भोपाल नवाब के प्रयासों को नकारदिया गया
?एक और तो कांग्रेस देशी रियासतो के प्रति अपनी कठोर नीति का प्रदर्शनकर रही थी
?दूसरी और मुस्लिम लीग ने ठीक इसके विपरीत बड़ा ही मुलायमरवैया अपनाया
?पाकिस्तान का संस्थापक और मुस्लिम लीग का अध्यक्ष मोहम्मद अली जिन्नायह प्रयास कर रहा था कि
?अधिक से अधिक संख्या में देशी रियासते अपनी स्वतंत्रता की घोषणा कर दे या फिर पाकिस्तान में शामिल हो जाए
? ताकि भारतीय संघ स्थाई रूप से दुर्बलबन सके
?भोपाल का नवाब हमीदुल्ला खां जिन्ना की योजना में शामिल हो गया
?जिसके तहत राजाओं को अधिक से अधिक संख्या में या तो पाकिस्तान में मिलने के लिए प्रोत्साहित करना था या फिर उनसे यह घोषणा करवानी थी कि वह अपने राज्य को स्वतंत्ररखेंगे

?भोपाल नवाब चाहता था कि उसे भोपाल से लेकर कराची तक के मार्ग में आने वाली रियासतों का एक समूहबन जाए और यह समूह पाकिस्तान में मिल जाए
?इसीलिए उसने जिन्ना की सहमति से एक योजना बनाई थी
?बड़ौदा, इंदौर, भोपाल, उदयपुर ,जोधपुर और जैसलमेर रियासतो द्वारा शासित प्रदेश पाकिस्तान का अंग बन जाए
? उनकी इस योजना में सबसे बड़ी बाधा उदयपुर और बड़ौदा की ओर से उपस्थित हो सकती थी
?हमीदुल्ला खा ने धोलपुर नरेश महाराज राणा उदय भान सिंह को भी इस योजना में शामिल कर लिया
?वास्तव में भोपाल के नवाब और धौलपुर के महाराज राणा देशी नरेशों के उस गुटके नेता थे
? जो किसी भी मूल्य पर अपने राज्यों को भारतीय संघ में नहीं मिलाने की घोषणा करते रहे
?भरतपुर और अलवर के राजाओं ने तो कांग्रेस की केंद्रीय सरकार का तख्ता पलट देने की भी साजिश की थी