राजस्थान में रेलवे से संबंधित उत्क्रम

राजस्थान में रेलवे से संबंधित उत्क्रम

सिमको वेगन फैक्ट्री भरतपुर
रेलवे वेगन बनाने वाली भरतपुर स्थित सिमको बिरला लिमिटेड सहप्रवर्तन टीटागढ़ (Kolkata) ने इस दिशा में कार्य शुरू किया है पहले दौर में रेल इंजन का ढांचा तैयार किया जाएगा इसके सफल होने पर कुछ दिनों बाद ही पूरा रेल इंजन बनाया जाएगा सिमको की स्थापना राज्य में मालवा डिब्बे तैयार करने के उद्देश्य से 31 जनवरी 1957 में  कि गयी थी 13नवंबर 2000 को तालाबंदी की गई थी यह 9 अक्टूबर 2008 को टीटगढ वैगंस कंपनी द्वारा पुन: प्रारंभ कि गयी है करीब 8 साल तालाबंदी का दंश झेल चुकी सिमको वेगन फैक्ट्री को चितरंजन लोको से इलेक्ट्रिक व बनास लोको से डीजल इंजन का ढांचा तैयार करने की अनुमति मिली है उल्लेखनीय है कि रेलवे वेगन बनाने के साथ ही राज्य में रेल इंजन बनाने की सिमको बिरला एकमात्र फैक्ट्री होगी फैक्ट्री में सवारी कोचिंग बनाने की भी तैयारी चल रही है

पश्चिमी रेलवे क्षेत्रीय प्रशिक्षण केंद्र 
इसकी स्थापना 9 अक्टूबर 1965 को उदयपुर में की गई थी इस केंद्र में देश का सबसे बड़ा रेलवे मॉडल कक्ष स्थित है यहां रेलवे कर्मचारियों को प्रशिक्षण दिया जा रहा है  यह उदयपुर में सुखाडिया सर्किल के पास स्थित है

भारतीय रेलवे अनुसंधान और प्रशिक्षण केंद्र
इसका निर्माण तेज गति(180 किलोमीटर प्रति घंटा)से चलने वाली रेलों का परीक्षण करने के लिए पचपदरा(बाड़मेर) में किया जा रहा है इसके लिए बालोतरा से पचपदरा तक(27.5 किलोमीटर) लंबा आधुनिक रेल मार्ग बनाया जाना प्रस्तावित है

रेलवे विद्युत लोको शेड कोटा
रेलवे बोर्ड ( Railway board) ने कोटा में विद्युत लोको शेड के लिए औपचारिक स्वीकृति प्रदान कर दी है योजना को 2010- 11 के वित्तीय वर्ष में शामिल किया गया था विद्युत लोको शेड रेल डिब्बा मरम्मत कारखाना (सोगरिया)के पास बनाया जाएगा इसकी क्षमता एक माह में 100 इंजन दुरुस्त करने की होगी पश्चिमी मध्य रेलवे का यह चौथा लोको शेड होगा इससे पहले नई कटनी तुगलकाबाद और इटारसी में विद्युत लोको शेड की स्थापना हो चुकी है

मेन लाइन इलेक्ट्रिक मल्टीपल यूनिट(मेमो)
22 सितंबर 2013 को भीलवाड़ा जिले के हुरडा रुपाहेली गांव के पास मेमो कोच का शिलान्यास किया गया है यह भारतीय रेल राजस्थान सरकार(Rajasthan government )और भेल(BHEL) का संयुक्त उपक्रम है राजस्थान जिले के रेलमगरा में रेल का पहला ट्रांसपोर्ट हब बन रहा है

लोको कारखाना अजमेर

लोको कारखाने की स्थापना 11 अगस्त 1879अजमेर में की गई थी जिसमें प्रथम लोको इंजन 1895 में बनकर तैयार हुआ था

रेल बस सेवा

देश की प्रथम रेल बस सेवा 2 अक्टूबर 1994 को मेड़ता रोड से मेड़ता सिटी को जोड़ने के लिए प्रारंभ की गई थी राजस्थान में गोरमघाट( मावली मारवाड़ जंक्शन) पहला रेलवे स्टेशन है जहॉ विद्युत आपूर्ति सितंबर 2008 से पुर्णत:सौर ऊर्जा से की जा रही है