लोक प्रशासन के विभिन्न दृष्टिकोण

🌿💢लोक प्रशासन क्षेत्र के दृष्टिकोण💢🌿
🔹लोक प्रशासन के क्षेत्र के संबंध में चार दृष्टिकोण प्रमुख हैं
1. व्यापक दृष्टिकोण
2. संकुचित दृष्टिकोण
3. पोस्टकाँर्ब दृष्टिकोण
4. आधुनिक दृष्टिकोण.

🔅व्यापक दृष्टिकोण➖ व्यापक दृष्टिकोण के अनुसार लोक प्रशासन के क्षेत्र के अंतर्गत सरकार के तीनों अंगों कार्यपालिका व्यवस्थापिका और न्यायपालिका द्वारा संपादित कार्योंका अध्ययन किया जाता है
🔅संकुचित दृष्टिकोण➖ संकुचित दृष्टिकोण के अनुसार सरकार की कार्यपालिका शाखा द्वारा संपादित कार्यों का अध्ययन लोक प्रशासन के क्षेत्र के तहत माना जाता है

🔅पोस्डकाँर्ब दृष्टिकोण➖

यह दृष्टिकोण लोक प्रशासन के क्षेत्र की सात गतिविधियोंको संचालित करता है
❗P-Planning➖ योजना बनाना
❗O-Organising➖संगठन बनाना
❗S-Staffing➖ कार्मिक व्यवस्था
❗D-Directing निर्देशन देना
❗Co-Coordination➖.समन्वय करना
❗R-Reporting➖ प्रतिवेदन देना और
❗B-Budgeting➖ बजट बनाना आदि कार्य इस दृष्टिकोण के तहत होते हैं

🔅आधुनिक दृष्टिकोण➖
❗आधुनिक दृष्टिकोण में जैसे-जैसे राज्य के कार्यक्षेत्र बढ़ते जाते हैं लोक प्रशासन का क्षेत्र भी बढ़ता जाता है
❗इसके अंतर्गत सामान्य प्रशासन, संगठन सेवी वर्ग,बजट और वित्त ,पद्धति तथा प्रक्रिया, साधन-सामग्री और पूर्ति, प्रशासकीय उत्तरदायित्व ,मानकीय तत्व ,उद्देश्य, नीति, नियोजन, निर्णय, समन्वय ,पर्यवेक्षण, नियंत्रण, गृह नीति ,वैदेशिक नीति, सामाजिक सुरक्षा ,कल्याणकारी योजनाएं,और उनका क्रियान्वयन आदि आता है

🌿💢लोक प्रशासन की प्रकृति के दृष्टिकोण💢🌿  

1⃣एकीकृत दृष्टिकोण- Integral view
2⃣प्रबंधात्मक दृष्टिकोण- Managerial view
3⃣आधुनिक दृष्टिकोण- Modern view 🔅एकीकृत दृष्टिकोण➖
❗ह्वाइट पिफनर ओर एफ.एम.मार्क लोक प्रशासन के एकीकृत दृष्टिकोण के समर्थक हैं
❗उनके अनुसार लोक प्रशासन का संबंध उन सभी कार्योंसे हैं जिनका प्रयोजन लोक नीति के उद्देश्य को पूरा करना होता है 


🔅प्रबंधकीय दृष्टिकोण➖ 
❗साइमन स्मिथबर्ग और थाम्पसन* इस दृष्टिकोण  के समर्थक हैं
❗इस दृष्टिकोण में उन सभी व्यक्तियों को सम्मिलित किया जाता है जिनका संबंध योजना नीति  निर्माण प्रक्रिया और प्रबंधकीय कार्यसे होता है

🔅आधुनिक दृष्टिकोण➖ 
❗आधुनिक दृष्टिकोण के अंतर्गत प्रशासन को गतिशील प्रक्रिया के रूप में देखा जाता है
❗प्रशासन को बदलती हुई परिस्थितियों के अनुसार आधुनिक संदर्भ में देखा जाता है
❗लोक प्रशासन के अंतर्गत  सरकारी प्रयासों का प्रत्येक पहलूसम्मिलित है

🌿💢लोक प्रशासन के अध्ययन के दृष्टिकोण💢🌿 
🔹लोक प्रशासन के अध्ययन को दो दृष्टिकोण मे बॉटा गया है
1.  पहला दृष्टिकोण- परंपरागत दृष्टिकोण
2. दूसरा दृष्टिकोण-  आधुनिक दृष्टिकोण

🔅परंपरागत दृष्टिकोण➖ इस दृष्टिकोण में वैधानिक पद्धति, ऐतिहासिक पद्धति, विषय वस्तु पद्धति ,और वैज्ञानिक पद्धति सम्मिलित है
🔅आधुनिक दृष्टिकोण➖इस दृष्टिकोण के अंतर्गत व्यवहारवादी दृष्टिकोण, व्यवस्थावादी दृष्टिकोण, संरचनात्मक, कार्यात्मक दृष्टिकोण, घटना अध्ययन दृष्टिकोण, पारिस्थितिकी दृष्टिकोण सम्मिलित है

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.