सागर संबंधित संरचना : निक्षेप

सागर संबंधित संरचना : निक्षेप

प्रश्न=01. महासागरीय विज्ञान के क्रमिक विकास के कितने चरण बताए गए हैं ?
(अ) दो चरण
(ब) तीन चरण
(स) चार चरण
(द) पांच चरण
(ब)✔
व्याख्या:- पृथ्वी की ऊपरी सतह पर प्रारंभिक अपनतीयों व अभिनतीयों के निर्माण के साथ ही क्रमशः महाद्वीप और महासागर निर्मित हो जाते हैं महासागरीय विज्ञान के विषय के रूप में स्थापना आधुनिक काल में मानी जाती है परंतु इसका अध्ययन प्राचीन काल से विभिन्न विद्वानों ने प्रारंभ कर दिया था
इस प्रकार महासागरीय विज्ञान की क्रमिक विकास को तीन चरणों में बताया जाता है
1.प्राचीन काल
2. मध्यकाल और
3. आधुनिक काल

प्रश्न=02. “इलियड ओडेशी ग्रंथ” किस विद्वान द्वारा लिखा गया था जो महासागरीय विज्ञान का प्रथम ग्रंथ माना जाता है ?
(अ) मैथ्यू मरे
(ब) पोसिडोनियस
(स) होमर
(द) हिकेटियस
(स)✔
व्याख्या:- प्राचीन काल में महासागरीय यूनानी विद्वानों द्वारा सर्वाधिक कार्य किए गए 1000 ईसवी पूर्व महाकवि होमर द्वारा प्रथम रचित “इलियड ओडेसी” ग्रंथ महासागरीय विज्ञान का प्रथम ग्रंथ माना जाता है।

प्रश्न=03. महासागरीय भूगोल का पिता कहा जाता है ?
(अ) पोसिडोनियस
(ब) हेरोडोटस
(स) हिकेटियस
(द) चार्ल्स डार्विन
(अ)✔
व्याख्या:- प्रसिद्ध यूनानी दार्शनिक पोसिडोनियस को महासागरीय भूगोल का पिता कहा जाता है अरस्तु, हेरोडोटस, हैमेंटियस द्वारा ही तात्कालिक सात समुद्र की व्याख्या प्रस्तुत की गई

प्रश्न=04. महासागरीय अध्ययन से संबंधित मध्य काल से संबंधित चरण नहीं है ?
(अ) अंध युग व अरब
(ब) पुनर्जागरण व भौगोलिक अनुसंधान का काल
(स) एडवर्ड फोब्स का काल
(द) इनमें से कोई नहीं
(स)✔
व्याख्या:- मध्यकाल को सामान्यतया महासागरीय अध्ययन की दृष्टि से दो चरणों में विभक्त करते हैं

1.अंध युग और अरब:- अंधकार युग समानांतर समय में अरब विद्वानों द्वारा पूर्व के ज्ञान का संरक्षण किया जा रहा था साथ ही लंबी समुद्री यात्राओं अरबी व्यापारियों द्वारा की जा रही थी इस यात्रा वृत्तांतो का उपयोग कर बहुत सा समुद्री साहित्य रचा गया।

2. पुनर्जागरण व भौगोलिक अनुसंधान का काल:- इस काल में समुद्री यात्राओं के लिए संसार के शुद्ध मानचित्रण की प्रकृति विकसित हुई जिसके कारण समुद्री यात्राओं को प्रोत्साहन के साथ-साथ महासागर के विज्ञान का विकास हुआ

प्रश्न=05. सर्वप्रथम गल्फ स्ट्रीम धारा की पहचान किसके द्वारा की गई ?
(अ) अब्राहम ओर्टेलियस
(ब) मर्केटर
(स) प्रिंस हेनरी
(द) लियॉन
(द)✔
व्याख्या:- 1559 मर्केटर द्वारा आयताकार प्रक्षेप पर विश्व का मानचित्र बनाया
1570 में अब्राहम ओर्टेलियस द्वारा विश्व मानचित्र बनाया गया
पुर्तगाल के राजकुमार प्रिंस हेनरी को प्रिंस नेविगेटर कहा जाता था
1510 – 1513 में जे डी लियोन नामक विद्वान द्वारा गल्फ स्ट्रीम धारा की पहचान की गई और
1662 में रॉयल सोसाइटी ऑफ लंदन की स्थापना के साथ ही समुद्री अनुसंधान व्यापक हो गए।

प्रश्न=06. आधुनिक चरण के किस काल में भूमध्य सागर व अटलांटिक महासागर के सागरीय वनस्पतियों व जीवो का विस्तृत अध्ययन किया गया ?
(अ) एडवर्ड फॉबस काल
(ब) चैलेंजर अभियान – 2 द
(स) मैथ्यू मरे द्वारा
(द) उत्तर चेलेन्जर अभियान
(अ)✔
व्याख्या:- आधुनिक काल को मुख्यतः महासागरीय विज्ञान की दृष्टि से तीन चरणों में विभक्त किया जाता है
इनमें से एडवर्ड फॉब्स ने (1815 – 1854) में भूमध्य सागर व अटलांटिक महासागर की सागरी वनस्पतियों व जीवो का विस्तृत अध्ययन किया गया इस काल में चार्ल्स डार्विन द्वारा की जा रही समुद्री यात्रा के आधार पर ही स्थानीय व कालिक वनस्पतियों जीवों में परिवर्तन को स्वीकार करते हुए
“ओरिजन आफ स्पीशीज बाय मिंस नेचुरल सलेक्शन 1859” पुस्तकों में जीवो की उत्पत्ती की व्याख्या प्रस्तुत कर दी गई।

प्रश्न=07. चैलेंजर अभियान-2 का नेतृत्व किसके द्वारा किया गया ?
(अ) विविल थॉमसन
(ब) मेटियर
(स) ग्जेल
(द) ऐल्बाटर्स
(अ)✔
व्याख्या:- चैलेंजर अभियान-2 (1872 – 1876) – ब्रिटिश सरकार द्वारा 1872 – 1876 के मध्य यह अभियान शुरू किया गया इसका नेतृत्व विविल थॉमसन द्वारा किया गया

प्रश्न=8. उत्तर चैलेंजर अभियान से संबंधित सही कथन नहीं है ?
(अ) दक्षिणी अटलांटिक – मेटियर अभियान
(ब) उत्तरी अटलांटिक – गजल अभियान
(स) पूर्वी प्रशांत – विविल थॉमसन अभियान
(द) यू एन ओ – संपूर्ण प्रशांत में चैलेंजर अभियान
(स)✔
व्याख्या:- उत्तर चैलेंजर अभियान से संबंधित सभी कथन सत्य है उनमें से पूर्वी प्रशांत में एल्बा ट्रोस अभियान चलाया गया था

प्रश्न=09. आधुनिक समुद्री विज्ञान का पिता कहा जाता हैं ?
(अ) मैथ्यू मरे
(ब) पोसिडोनिया
(स) होमर
(द) हंबोल्ट
(अ)✔
व्याख्या:- मैथ्यू मरे को आधुनिक समुद्री विज्ञान का पिता कहां जाता है

प्रश्न=10. संपूर्ण महासागरीय जल का औसत तापमान है ?
(अ) 4.5 डिग्री सेंटीग्रेड
(ब) 3.9 डिग्री सेंटीग्रेड
(स) 2 .5 डिग्री सेंटीग्रेड
(द) 2 डिग्री सेंटीग्रेड
(ब)✔
व्याख्या:- उत्तरी गोलार्ध को स्थल गोलार्ध कहा जाता है क्योंकि इसमें 61% स्थल भाग में तथा 39% जल भाग
दक्षिणी गोलार्ध को जल गोलार्द्ध भी कहा जाता है क्योंकि इसमें 81% जल हैं तथा 19% स्थल भाग है
महासागरों की औसत गहराई 3800 मीटर है
महाद्वीपों की औसत ऊंचाई 840 मीटर है
पृथ्वी का औसत तापमान 15 डिग्री सेंटीग्रेड है
संपूर्ण महासागरीय जल का औसत तापमान 3.9 डिग्री सेंटीग्रेड है
महासागरों की ऊपरी सतह का औसत तापमान 17.2 डिग्री सेंटीग्रेड है

प्रश्न=11. महादीपो के उच्चावचौ तथा महासागरीय जल मग्न भाग और नित्तल के उच्चावचो कों जब किसी वक्र द्वारा दर्शाया जाता है तो इसे कहते हैं ?
(अ) उच्चतादर्शि
(ब) उच्चतामितिक
(स) तापमापी
(द) बेरोमीटर
(ब)✔
व्याख्या:- महादीपो के उच्चावचौ तथा महासागरीय जल मग्न भाग और नित्तल के उच्चावचो कों उच्चतामितिक वक्र द्वारा दर्शाया जाता है
इसके आधार पर महासागरों में दो प्रकार की उच्चावच पाए जाते हैं-
1.महासागरीय / महाद्वीपीय सीमांत
2. अगाध सागरीय क्षेत्र

प्रश्न=12. महाद्वीपों का आधार जलमग्न सागरीय भाग जहां से आरंभ माना जाता है वहां तक का क्षेत्र (किनारे से) कहा जाता है ?
(अ) महासागरीय सीमांत
(ब) अगाध सागर
(स) महाद्वीप
(द) सागरी कटक
(अ)✔
व्याख्या:- महाद्वीपों का आधार जलमग्न सागरीय भाग जहां से प्रारंभ माना जाता है वहां तक का क्षेत्र (किनारे से) महासागरीय सीमांत कहा जाता है
इसके दो प्रकार हैं –
1. निष्क्रिय सीमांत – आपसरण किनारे पर
2. सक्रिय सीमांत – अभिसरण किनारे से संबंधित सीमांत जो कि विवर्तनिकी सक्रियता के रूप में जाना जाता है

प्रश्न=13. महाद्वीपीय निमग्न तट काढाल होता है ?
(अ) 1 डिग्री से 3 डिग्री का ढाल
(ब) 2 डिग्री से 4 डिग्री का ढाल
(स) 3 डिग्री से 4 डिग्री का ढाल
(द) 4 से 5 डिग्री का ढाल
(अ)✔
व्याख्या:- महाद्वीपीय निमग्न तट –
सागर तट व जल मग्न तट के मध्य 1 डिग्री से 3 डिग्री का ढाल होता है
निमग्न तट की गहराई 20 से 550 मीटर तक होती हे।
महाद्वीपीय निमग्न तट प्रकाशित मंडल से सर्वाधिक प्रभावित रहते हैं।

प्रश्न=14. अंतः सागरीय गार्ज या केनियम किसका उदाहरण है ?
(अ) महाद्वीपीय निमग्न तट
(ब) महाद्वीपीय ढाल
(स) महाद्वीपीय उभार
(द) महासागरीय कटक
(ब)✔
व्याख्या:- महाद्वीपीय ढाल:- 70 मीटर की गहराई प्राप्त करने वाला निमग्न तट के पश्चात सीमांत का भाग महाद्वीपीय ढाल कहलाता हे
इसकी गहराई 200 – 2000 मीटर तक होती है
समस्त महासागरीय 8.5% भाग इस से संबंधित है
अटलांटिक महासागर में 12.4% प्रशांत महासागर में 7% और हिंद महासागर में 6.5% पाए जाते हैं
महाद्वीपीय ढाल की प्रमुख भू आकृति की विशेषता अंत सागरीय गार्ज या केनियम की है जो कि तट के लंबवत या समकोण पर पाई जाती है

प्रश्न=15. महाद्वीप महासागरों को पृथक करने वाला सीमांत क्षेत्र कहलाता है ?
(अ) महाद्वीपीय ढाल
(ब) महाद्वीपीय निमग्न तट
(स) महाद्वीपीय उभार
(द) महासागरीय कटक
(स)✔
व्याख्या:- महाद्वीप – महासागरों को पृथक करने वाला सीमांत क्षेत्र महाद्वीपीय उभार होता है और महाद्वीपीय उभार की अवस्थिति महाद्वीपीय ढाल व सागरी मैदान के मध्य होती है

प्रश्न=16. महासागर की तली में विस्तृत अवतलाकार मैदानी भाग क्या कहलाते हैं ?
(अ) महासागरीय बेसिन
(ब) नितल मैदान
(स) महासागरीय कटक
(द) सागरीय टीले
(अ)✔
व्याख्या: वह क्षेत्र होता है जिसमें महासागर की तली में विस्तृत अवतलाकार मैदानी भाग महासागरीय बेसिन कहलाता है
बेसिंननुमा भाग में सागर तली की ऊंच्चावच पर अवस्थित होते हैं इसका सर्वाधिक विस्तृत भाग सागरी मैदान / नितल मैदान / एबीसल प्लेन कहलाता है

प्रश्न=17. सर्वाधिक विस्तृत महासागरीय मैदान पाए जाते हैं ?
(अ) 40° उत्तरी से 70° उत्तरी अक्षांश के मध्य
(ब) 60° उत्तरी से 70° उत्तरी अक्षांश के मध्य
(स) 20° उत्तरी अक्षांश से 60° उत्तरी अक्षांश के मध्य
(द) 30° उत्तरी अक्षांश 50° उत्तरी अक्षांश के मध्य
(स)✔
व्याख्या:- अटलांटिक महासागर में कुल क्षेत्र का 55% सागरीय मैदान से संबंधित है क्योंकि महाद्वीपीय निमग्न तट व महाद्वीपीय ढाल अत्यधिक विस्तृत है
हिंद महासागर के कुल क्षेत्र का 80.1% भाग मैदानी क्षेत्र से संबंधित है 60° उत्तरी से 70° उत्तरी अक्षांश के मध्य सागरीय मैदान का नितांत अभाव है
जबकि 20° उत्तरी अक्षांश से 60° उत्तरी अक्षांश संसार में सर्वाधिक विस्तृत महासागरीय मैदान पाए जाते हैं
सागरी मैदान पृथ्वी में सर्वाधिक निक्षेपित मलबा रखते हैं परंतु इस मलबे में अवसाद के मलबे का नितांत अभाव होता है

प्रश्न=18. सागर नितल प्रसरण सिद्धांत किसने दिया था ?
(अ) हेरी हेस
(ब) होमर
(स) पैंक
(द) डेविस
(अ)✔
व्याख्या:- महासागर की तली में खड़े ढाल युक्त विस्तृत पर्वत श्रेणी कटक कह लाती है
लगभग महासागरों की मध्यवर्ती भाग में अपसरण किनारे पर मैग्मा के कटकिय जमाव द्वारा इसका निर्माण होता है इसकी व्याख्या प्रारंभ में हेरी हैस व राबर्ट डीज ने सागर नितल प्रसरण सिद्धांत के माध्यम से की है

प्रश्न=19. जलमग्न सागरीय पर्वतों के नुकीले शीर्ष लहरों व तरंगों के अपघर्शन व अपादन द्वारा घिसकर सपाट ऊपरी भाग के रूप में हो जाते हैं तो इस प्रकार के जल मग्न में पठारी संरचना कहलाती है ?
(अ) महासागरीय कटक
(ब) सागरीय टीले
(स) गुयोट
(द) फियोर्ड
(स)✔
व्याख्या:- जलमग्न सागरीय पर्वतों के नुकीले शीर्ष लहरों व तरंगों के अपघर्शन व अपादन द्वारा घिसकर सपाट ऊपरी भाग के रूप में हो जाते हैं तो इस प्रकार के जल मग्न मे पठारी संरचना गुयोट कहलाती हे।

प्रश्न=20. हिंद महासागर और प्रशांत महासागरीय पादकों व जीवो के मध्य स्पष्ट विभाजन करने वाली रेखा कहलाती है ?
(अ) वालेस रेखा
(ब) सेल्स रेखा
(स) मारक रेखा
(द) आइसोहाइट रेखा
(अ)✔
व्याख्या:- हिंद महासागर और प्रशांत महासागरीय पादकों व जीवो के मध्य स्पष्ट विभाजन करने वाली वालेस रेखा कहलाती हे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *