साबरमती नदी

साबरमती नदी

 साबरमती नदी का उद्गम स्थल- कोटड़ी ( Udaipur)
 साबरमती नदी का प्रवाह क्षेत्र- उदयपुर {राज.} – Gujarat
 साबरमती का विलय- Gulf of Khambhat (गुजरात)

 साबरमती नदी की सहायक नदियां
 वाकल
 सेई
 हथमति
 मेश्वा
 माजम

 साबरमती नदी पश्चिमी भारत की प्रमुख नदी है, जो पश्चिम भारत के गुजरात राज्य से होते हुए मेवाड़ की पहाड़ियों से निकलकर 200 मील बहने के उपरांत दक्षिण पश्चिम की ओर खंबात की खाड़ी में गिरती है। इसके द्वारा लगभग 9,500 वर्ग मील क्षेत्र का जल निकास होता है।
 साबरमती नदी का उद्गम उदयपुर जिलें के कोटडा तहसील में स्थित अरावली की पहाडीयों (Aravali hills) से होता है। 45 कि.मी. राजस्थान में बहने के पश्चात् संभात की खाडी में जाकर समाप्त हो जाती है।, इस नदी की कुल लम्बााई 416 कि.मी है। गुजरात में इसकी लम्बाई 371 कि.मी. है। बाकल, हथमती, बेतरक, माजम, सेई इसकी सहायक नदीयां है।
 उदयपुर जिले में झीलों को जलापूर्ति के लिए साबरमती नदी में उदयपुर के देवास नामक स्थान पर 11.5 किमी. लम्बी सुरंग निकाली गई है जो राज्य की सबसे लम्बी सुरंग है।
 गुजरात की राजधानी Gandhinagar साबरमती के तट पर स्थित है। 1915 में गांधाी जी ने अहम्दाबाद में साबरमती के तट पर Sabarmati Ashram की स्थापना की।

साबरमती नदी का नामकरण
इस नदी का नाम ‘साबर’ और ‘हाथमती’ नामक नदियों की धाराओं के मिलने के कारण ‘साबरमती’ पड़ा।

साबरमती नदी तीर्थस्थल 
 अहमदाबाद नगर के बीच से बहने वाली ‘साबरमती’ और इसके आसपास नदी के किनारे कई तीर्थस्थल हैं। साबरमती नदी के पश्चिमी तट पर स्थित गुजरात की राजधानी गांधीनगर का नाम राष्ट्रपिता Mahatma Gandhi ने नाम पर रखा गया है। 649 वर्ग किमी. में फैले गांधीनगर को चंडीगढ़ के बाद भारत का दूसरा नियोजित शहर माना जाता है।
 अहमदाबाद के पास साबरमती ने रेलवे-पुल से लेकर सरदार-पुल तक और उससे भी अधिक दक्षिण की ओर कई तीर्थ हैं। उनमें भी जहां चंद्रभागा नदी साबरमती से मिलती है वहां दधीचि ने तप किया था, इसलिए वह स्थान अधिक पवित्र माना जाता है। और आस-पास के लोगों ने इहलोक को छोड़कर परलोक जानेवाले वाले यात्रियों को अग्निदाह देकर विदा करने की जगह वही पसंद की है। इससे वह श्मशान घाट भी है। श्मशान के अधिपति दूधेश्वर महादेव वहां विराजमान हैं और इस महायात्रा की निगरानी करते हैं।

 साबरमती का स्वरूप 
 सरस्वती नदी भारत की वर्तमान नदियों सतलज और साबरमती का संयुक्त रूप थी। सतलज तिब्बत से निकलती है और साबरमती गुजरात के बाद खम्भात की खाड़ी में गिरती है। इस नदी की धारा को पंजाब के लुधियाना नगर से उत्तर-पश्चिम में लगभग 6 किलोमीटर दूर स्थित ‘सिधवान’ नामक स्थान पर मोड़ देकर ‘बिआस नदी’ में मिला दिया गया जिससे आगे की धारा सूख गयी है। यह धारा आगे चलकर चम्बल नदी की शाखा नदी बनास से पुष्ट होती है और वहीं अरावली पहाड़ियों से अब साबरमती नदी का आरम्भ माना जाता है।

साबरमती नदी पर विकास
 गुजरात की जीवन-रेखा साबरमती नदी के किनारे Ahmedabad city का योजनाबद्ध विकास और नदी को स्वच्छ बनाए रखने के लिए निगम द्वारा प्रयास किये जा रहे हैं। नदी सौन्दर्यकरण योजना (Beauty planning) अन्तर्गत जहाँ साबरमती नदी की जलमार्ग सेवा को अमली जामा पहनाने की दिशा में प्रयास शुरू कर दिए गए हैं, नदी में स्टीमर चलते दिखेंगे। वहीं आगामी मानसून के बाद साबरमती नदी में फ्लोटिंग रेस्टोरेन्ट (तैरता होटल) सहित कई पार्क, बगीचे, खानपान बाज़ार जैसी अन्य मनोरंजन सुविधाएं मुहैय्या कराए जाने का लक्ष्य है।

 साबरमती का महत्व 
 साबरमती गुजरात की विशेष लोकमाता है। आबू के परिसर से जिन नदियों का उद्गम होता है, उनमें यह ज्येष्ठ और श्रेष्ठ है। ‘साबरमती प्रवाह सनातन है-इसीलिए नित्य-नूतन है।’ गुजरात की नदियों में तीन-चार बड़ी नदियां आंतरप्रांतीय है। नर्मदा, तापी, माही – तीनों दूर-दूर से निकलकर पूर्व की ओर से आकर गुजरात में घुसती हैं और समुद्र में विलीन हो जाती हैं। साबरमती इनसे अलग है। अरावली पहाड़ में जन्म पाकर तथा अनेक नदियों को साथ में लेकर दक्षिण की ओर बहती हुई अंत में वह सागर से जा मिलती है। साबरमती के जैसी कुटुंब-वत्सल नदियां हमारे देश में भी अधिक नहीं है। साबरमती को विशेष रूप से ‘गुर्जरी माता’ कह सकते हैं। उसके किनारे गुजरात के आदिम निवासी सनातन काल से बसते आये हैं। उसके किनारे ब्राह्मणों ने तप किया है। राजपूतों ने कभी धर्म के लिए, तो बहुत बार अपनी बेवकूफी से भरी हुई ज़िद के लिए, वीर पुरषार्थ कर दिखाया है। वैश्यों ने इसके किनारे गांव और और शहर बसाकर गुजरात की समृद्धि बढ़ायी है और अब आधुनिक युग का अनुकरण करके शूद्रों ने भी साबरमती के किनारे मिलें चलाई हैं।

 साबरमती आश्रम 
 साबरमती आश्रम भारत के गुजरात राज्य अहमदाबाद ज़िले के प्रशासनिक केंद्र (Administrative center) अहमदाबाद के समीप साबरमती नदी के किनारे स्थित है। महात्मा गांधी जब अपने 25 साथियों के साथ Southern Africa से भारत लौटे तो 25 मई, 1915 को अहमदाबाद में कोचरब स्थान पर “सत्याग्रह आश्रम” की स्थापना की गई। दो वर्ष के पश्चात जुलाई 1917 में आश्रम साबरमती नदी के किनारे पर बनाया गया जो बाद में साबरमती आश्रम के नाम से प्रसिद्ध हुआ। आश्रम के वर्तमान स्थान के संबंध में इतिहासकारों का मत है कि पौराणिक दधीचि ऋषि का आश्रम भी यहीं पर था।

 कृषि 
 {1} इसके द्वारा निक्षेपित गाद में फसलें अच्छी होती हैं।

 विकाश 
 {1} Dharoi dam योजना साबरमती नदी के उपर बनाई गई है।

 साबरमती परियोजना
 साबरमती नदी
 गुजरात

 साबरमती परियोजना गुजरात में साबरमती नदी पर स्थित है

 साबरमती नदी पर बना बांध 
Dharoi dam

Specially thanks to Post and Quiz Creator ( With Regards )

राजुराम सैन