Accounting introduction in Hindi | लेखांकन – एक परिचय

इस पोस्ट में हमने Accounting से जुड़ी कुछ महत्वपूर्ण जानकारियों से को सम्मिलित किया है जो आपकी भविष्य में होने वाली परीक्षाएं जिनमें कंप्यूटर से रिलेटेड सिलेबस है जैसे Banking, Accountant, IBPS, SSC CGL, Railway, SBI PO, SECI, Computer teacher, etc.. के लिए बहुत ही सहायक सिद्ध होगी

History of Accounting

लेखांकन के इतिहास में दोहरा लेखांकन प्रणाली के जन्मदाता Luca Pacioli (लुकास पेसियोली) थे जो इटली के वेनिस नगर के रहने वाले थे उन्होंने अपनी पुस्तक De Compaset of Scripturis 1494  में दोहर्क़ लेखा प्रणाली का वर्णन किया। Huge old castle ने 1543 में दोहरा लेखा प्रणाली की पुस्तक का अंग्रेजी अनुवाद किया | 1795 Edward Jones ने पुस्तपालन की अंग्रेजी प्रणाली की पुस्तक लिखी। उसे अंग्रेजी प्रणाली की प्रथम पुस्तक कहा जाता है। Debit शब्द debito, Credit शब्द credito से बना है। 

Accounting introduction

ACCOUNTING ( लेखांकन ) – वित्तिय व्यवहारों को लिखने, वर्गीकृत करने और सारांश में व्यक्त करने और उनके परिणामो की व्याख्या करने की प्रक्रिया है।

BOOK-KEEPING ( पुस्तपालन )~ वित्तिय व्यवहारों का प्रारंभिक बहियों में लिखना ओर खाता बही में खतौनी करने को  

Double entry system of accounting ~ इस प्रणाली में लेन देन के 2 पक्ष होते है credit. ओर debit। अतः एक बार cr. ओर एक बार dr. पक्ष लेखा किया जाता है

Accounting Questions and Answers : लेखांकन

Branches of Accounting ( लेखांकन की शाखाएं ) –

  1. financial accounting (वित्तिय लेखांकन ) – इसमे वितीय लेनदेनों का लेखा होता है । एक वर्ष में लाभ हानि की जानकारी Trading account ( व्यापार खाता ) ओर Profit & Loss account ( लाभ हानि खाता )से प्राप्त होती है
  2. Cost accounting ( लागत लेखांकन ) – इसमे उत्पादों की लागत का निर्धारण करते है । जिससे उस वस्तु का मूल्य निर्धारित किया जा सके।
  3. Management accounting ( प्रबंध लेखांकन ) ~ इसमे प्रस्तुत सूचनाऍ प्रबंधक वर्ग को दी जाती है ताकि वे संस्था के हित मे निर्णय ले सके 

Expenditure ( व्यय )

व्यवसाय में लाभ कमाने हेतु जो लागत लगती है उसे व्यय कहते है इसके निम्न दो प्रकार होते है

  1. Capital expenditure ( पूंजीगत व्यय ) – एक वर्ष से अधिक  लाभ कमाने हेतु जो खर्च किये जाते है जैसे- Machinery, furniture, building आदि
  2. Income expenditure (आयगत व्यय)- एक वर्ष से कम अवधि में लाभ कमाने हेतु जो खर्च किये जाते है जैसे- Salary, Commission आदि

Accounting Questions : लेखांकन

Types of discount  ( छूट के प्रकार )

  1. Trade discount (व्यापारिक छूट) – विक्रेता द्वारा क्रेता को वस्तुओ के मूल्य में जो कटौती की जाती है
  2. Cash discount  (नकद छूट) – भुगतान को जल्दी प्राप्त करने के लिए फि गयी छूट 

 

ECONOMICS से जुड़ी सम्पूर्ण जानकारियों को पढ़ने के लिए Click here करे

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *