Bhaktikal Question 05

Bhaktikal Question 05

प्रश्न=1-गुरुमुखी लिपि में “रामायण” किस कवि ने रचना की?
अ)प्राणचंद चौहान
ब)ह्र्दयराम
स)कपूरचंद त्रिखा☔
द)माधवदास

प्रश्न=2-मध्ययुगीन रामकाव्य परम्परा का अंतिम कवि है?
अ)नाभादास
ब)अग्रदास
स)कृपाराम☔
द)ह्र्दयराम

प्रश्न=3-“जग सुहाग मिथ्यारी सजनी हावां हो मिट जासी”उक्त पंक्तिया किस उपासिका की है?
अ)सहजोबाई
ब)आण्डाल
स)मीरा☔
द)राबिया

प्रश्न=4-साहित्य लहरी का सबसे विवादित विषय था?
अ)विषय वस्तु☔
ब)काव्यरुप
स)भाषाशैली
द)प्रमाणिकता

प्रश्न=5-“दृष्टकूट पद” से तात्पर्य है?
अ)दृष्टिगोचर नही होने वाले पद
ब)शब्दार्थ चमत्कार से युक्त शब्द☔
स)दृष्टांत प्रस्तुत करने वाले पद
द)कूटनीति से सम्बंधित

प्रश्न=6-जानकवि की रचना नही है?
अ)कथारूप मंजरी
ब)कथा कनकावती
स)कथा मोहिनी
द)कथा कलन्दर☔

प्रश्न=7-“कहि री नलिनी तु कुम्हिलानी”यह पंक्ति किसकी है?
अ)गुरुनानक
ब)कबीर☔
स)हरिदासनिरंजनी
द)दादूदयाल

प्रश्न=8-असादीबार,सोहिला,रहिदास,जपुजी किस कवि की रचना है?
अ)गुरुनानक☔
ब)गुरुअंगद
स)गुरुअर्जुनदेव
द)दादूदयाल

प्रश्न=9श्रंगार रस के घोरविरोधी कोनसे संत थे?
अ)मलूकदास
ब)कबीरदास
स)सुंदरदास☔
द)रैदास

प्रश्न=10-भक्तिकाल को किसने सबसे पहले स्वर्णकाल कहा?
अ)आचर्य शुक्ल
ब)हजारी प्रसाद द्विवेदी
स)ग्रियसर्रन☔
द)मिश्रबन्धु

प्रश्न=11-ब्रह्म सूत्रों के रचनाकार थे?
अ)बादरायण☔
ब)भवभूति
स)शंकराचार्य
द)रामानुचार्य

प्रश्न=12-“कबीर एवं अन्य निर्गुण पंथी सन्तों के द्वारा अंतस्तसाधना में रागात्मिका भक्ति और ज्ञान का योग तो हुआ पर कर्म की वाही दशा रही जो नाथपंथियों के समय थी”यह कथन है-
अ)हजारी प्रसाद द्विवेदी
ब)पीताम्बर बड़थ्वाल
स)सीताराम चथुर्वेदी
द)आचर्य शुक्ल☔

प्रश्न=13″सगुणोपासक भक्त भगवान के सगुण और निर्गुण दोनों रूप को मानता है पर भक्ति के लिए सगुण रूप ही स्वीकार करता है,निर्गुण रूप ज्ञान मार्गो के लिए छोड़ देता है।”यह कथन है-
अ)हजारी प्रसाद द्विवेदी
ब)आचर्य शुक्ल☔
स)पीताम्बर बड़थ्वाल
द)डॉ. गणपति चंद्र गुप्त

प्रश्न=14-सम्प्रदाय परंपरा का सबसे प्राचीन सम्प्रदाय है? 
अ)शैव सम्प्रदाय
ब)रूद्र सम्प्रदाय
स)ब्रह्म सम्प्रदाय☔
द)शिव-रूद्र सम्प्रदाय

प्रश्न=15-भक्ति काल के दो प्रचलित धर्म थे?
अ)बौद्ध और शैव
ब)हिंदु और जैन
स)पारसी और ईसाई
द)हिन्दू मुस्लिम☔

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *