Capital Structure ( पूंजी संरचना )

Capital Structure

पूंजी संरचना

 

किसी उपक्रम की कुल दीर्घकालीन पूंजी में विभिन्न पूंजी प्राप्ति के स्रोतों के अनुपात को निश्चित करना ही पूंजी संरचना कहलाता है।

एक श्रेष्ठ पूंजी संरचना वह है जो किसी समता अंशों के मूल्य को अधिकतम पर ले आती है।

“पूंजी संरचना से तात्पर्य किसी व्यवसायिक संस्था में विनियोजित दीर्घकालीन कोषों को दर्शाने से हैं।” – वेजल आर. एस.

Optimum capital structure ( अनुकूलतम पूंजी संरचना )

एक व्यावसायिक उपक्रम द्वारा निर्गमित किए जाने वाले उन अंशों एवं ऋण पत्रों के मिश्रण को, तब अनुकूलतम पूंजी संरचना कहा जाता है जबकि उससे न्यूनतम पूंजी लागत आती हो और अंशों के मूल्य को अधिकतम बनाए रखा जा सकता हो।

ऐसी संरचना को निर्धारित करते समय निम्न बातों का ध्यान रखना चाहिए-

  1. अधिकतम आय की प्राप्ति
  2. लोच शीलता का होना
  3. न्यूनतम लागत आना
  4. न्यूनतम जोखिम का होना
  5. अधिकतम नियंत्रण
  6. शासकीय कानूनों के अनुरूप होना
  7. तरलता का होना
  8. विनियोजक या निवेशकों के लिए उपयोगी
  9. क्षमता का होना
  10. समता अंश धारियों का अधिकतम ध्यान

पूंजी संरचना को को प्रभावित करने वाले तत्व ( Elements influencing capital structure )

1. भावी योजनाएं ( Future plans ) –  वित्त विश्लेषकों का यह मानना है कि यदि संस्था का भविष्य में और इकाईयां विभाग स्थापित करके विस्तार किया जाना या नवीनतम तकनीकी अपनाकर विकास का मार्ग प्रशस्त किया जाना हो तो प्रारंभ में समता पूंजी के निर्गमन द्वारा ही पूंजी एकत्रित की जानी चाहिए।

2. पुरानी संस्था बनाम नवीन संस्था ( Old institution v/s new organization ) – जो उपक्रम दीर्घ काल से स्थापित होते हैं उनमें पूंजी की जोखिम नए स्थापित उपक्रमों की अपेक्षा कम होती है। पुरानी संस्थाओं को ऋण आसानी से मिल जाता है किंतु नई संस्थाओं को ऋण पूंजी आसानी से नहीं मिल पाती है।

3. प्रबंधकों की क्षमताएं ( Capabilities of managers ) – एक कंपनी के प्रबंधक गण जितने अधिक योग्य एवं अनुभवी होंगे उतनी ही श्रेष्ठ पूंजी संरचना की जा सकेगी।

4. समता पर व्यापार की नीति ( Trade policy on equity ) – एक कंपनी के स्वामियों अर्थात समता अंश धारियों की नीति रहती है कि व्यवसाय में केवल अपनी ही समता पूंजी रखें और भावी अंशो के निर्गमन से बचते हुए ऋण की मात्रा बढ़ाकर अधिकाधिक लाभ कमाएं। ऐसी नीति से पुंजीगत ढांचा प्रभावित हुए बिना नहीं रहता है।

5. व्यवसाय पर नियंत्रण की इच्छा ( Business willingness to control )- कई व्यवसाय ऐसी प्रकृति के होते हैं कि अंशधारी ही प्रबंधक का कार्य भी करने लगते हैं और उनकी केंद्रीय करण की प्रवृत्ति बनने लगती है तो वे संपूर्ण समता अंशों के स्वामी बने रहकर अल्पकालीन और मध्यकालीन पूंजी प्राप्त करने के लिए पूर्व अधिकार अंशों और ऋण पत्रों का सहयोग प्राप्त करने लगते हैं जो संस्था को बाजार की परिस्थितियों के अनुरूप अच्छी या बुरी स्थिति में भी ला सकते हैं।

6. परिचालन अनुपात की स्थिति ( Status of operating ratio )कंपनी के परिचालन खर्चों का विक्रय किए गये माल की शुद्ध विक्रय की राशि से अनुपात पूंजी संरचना को प्रभावित किए बिना नहीं रहता है।

7. पूंजी दन्ति अनुपात ( Capital gem ratios )- दंति अनुपात के तात्पर्य एक कंपनी की कुल पूंजी में से समता पूंजी तथा स्थिर लागत वाली पूंजी के मध्य के अनुपात को ज्ञात करने से हैं। स्थिर लागत वाली से अभिप्राय ऋण पूंजी एवं पूर्व अधिकार अशों से है जिन पर स्थिर ब्याज एवं लाभांश देय होता है।

8. अन्य तत्व ( Other elements )

  1. पूंजी बाजार का उच्च क्रय शक्ति वाला तथा मंदी काल का वातावरण कैसा है?
  2. बाजार में विभिन्न कंपनियों के मध्य प्रतिस्पर्धा की स्थिति कैसी है?
  3. प्रचलित राज नियमों में दिए गए नियमों में दिशा निर्देशन कितना प्रबल है?
  4. देश में सरकार द्वारा उद्घोषित आयकर, विक्रीकर, वेट आदि की दरें कैसी है?
  5. कंपनी द्वारा किए जाने वाले पूंजी निर्गमन पर कमीशन, दलाली, अभिगोपन, भट्टा, प्रीमियम आदि की लागत कितनी आती है?
  6. विनियोजकों का कंपनी के पूंजी विनियोग के प्रति आकर्षण किस रूप में है?
  7. अन्य विशिष्ट वित्तीय संस्थाओं की स्थिति तथा नीति कैसी है और कंपनी के विकास और विस्तार की संभावना क्या है?

 

Specially thanks to Post and Quiz makers ( With Regards )

P K Nagauri