Correlation Questions : सहसम्बन्ध

Please support us by sharing on
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Geography : Correlation Questions

भूगोल व्याख्याता : सहसम्बन्ध

प्रश्न=01. सहसंबंध के संदर्भ में निम्न में से कौनसा कथन सत्य है?
1. इस सिद्धांत के द्वारा प्रत्येक क्षेत्र में दो या दो से अधिक घटनाओं के परस्पर संबंधों का स्पष्टीकरण होता है
2. इसे ग्राफ तथा संख्या के आधार पर ज्ञात किया जाता है

(अ) 1 सही है
(ब) 2 सही है
(स) 1 ओर 2 सही है
(द) इनमें से कोई नहीं

(स)✔
व्याख्या:- सहसंबंध के सिद्धांत के अंतर्गत दो चारों के मूल्यों में संबंधों को दर्शाया जाता है इसका उपयोग घटनाओं के तुलनात्मक अध्ययन के लिए किया जाता है

प्रश्न=02. सहसंबंध के सिद्धांत के उपयोग हैं?
(अ) दो या दो से अधिक घटनाओं का तुलनात्मक अध्ययन
(ब) दो या दो से अधिक घटनाओं के पारस्परिक संबंधों का विवेचन
(स) घटनाओं का पूर्वानुमान
(द) उपरोक्त सभी

(द)✔
व्याख्या:- सह संबंध के सिद्धांतों के उपयोग दो घटनाओं की परस्पर तुलना स्पष्टीकरण समाज विश्लेषण तथा पूर्वानुमान के लिए किया जाता है

प्रश्न=03. सहसंबंध के सिद्धांत का विकास निम्न में से किसके द्वारा किया गया था?
(अ) फ्रांसीसी गाल्टन तथा कार्ल पीयरसन
(ब) रोजर टॉम लिसन
(स) दुष्यंत डॉल्स
(द) इनमें से कोई नहीं

(अ)✔
व्याख्या:- सहसंबंध के सिद्धांत को विकसित करने का श्रेय प्राणी शास्त्रीय फ्रांसीसी गोल्टन तथा कार्ल पियर्सन को जाता है इस सिद्धांत के आधार पर प्रत्येक क्षेत्र में दो घटनाओं का विश्लेषणात्मक अध्ययन किया जाता है

प्रश्न=04. किन्ही दो चरों के बीच सहसंबंध पाए जाने का कारण है ?
(अ) कार्यात्मक
(ब) परस्पर प्रतिक्रिया
(स) बाहय कारकों का प्रभाव
(द) उपरोक्त सभी

(द)✔
व्याख्या:- A. किन्ही दो चरों के मध्य कार्यात्मक संबंध हो सकता है जैसे –
1 वर्षा तथा कृषि उत्पादन 2. तापमान तथा वायुदाब
B.दो चर एक दूसरे को प्रभावित करते हैं- जैसे
1. आय और व्यय संबंधित चर
C.चरों पर बाह्य करको का प्रभाव जैसे
1.कृषि उत्पादन तथा खाद के बीच संबंध

प्रश्न=05. सहसंबंध के कितने प्रकार होते हैं ?
(अ) 2
(ब) 3
(स) 4
(द) 5

(ब)✔
व्याख्या:- सहसंबंध के निम्नलिखित प्रकार पाए जाते हैं –
1. चरों की संख्या के आधार पर
2. चरों के मध्य परिवर्तन की दिशा के आधार पर
3. चरों के मध्य परिवर्तन के अनुपात के आधार पर

प्रश्न=06. चरों की संख्या के आधार पर सह संबंध के प्रकारों में शामिल नहीं है ?
(अ) ऋणात्मक सहसंबंध
(ब) बहुचरिय सहसंबंध
(स) आंशिक सह संबंध
(द) सरल सह संबंध

(अ)✔
व्याख्या:- चरों की संख्या के आधार पर निम्न प्रकार के सहसमबंध पाए जाते हैं-
1. सरल सह संबंध
2. आंशिक सहसंबंध
3. बहु चरिय सह संबंध।

प्रश्न=07. जब बाह्य कारकों से प्रभावित दो चरों के बीच सहसंबंध को ज्ञात करने के लिए उन पर पड़ने वाले तीसरे कारक के प्रभाव को सह संबंध में शामिल नहीं किया जाता है तो इसे कहा जाता है?
(अ) सरल सह संबंध
(ब) आंशिक सहसंबंध
(स) बहुत चरीय सहसंबंध
(द) उपरोक्त सभी

(ब)✔
व्याख्या:- आंशिक सह संबंध के अंतर्गत बाह्य कारकों से प्रभावित चरों के बीच सहसंबंध ज्ञात करने के लिए इन दोनों को प्रभावित करने वाले तीसरे कारक के प्रभाव को सीमित किया छाता है जैसे- r 123 में 1 और 2 में सहसंबंध ज्ञात करने के लिए 3 के प्रभाव को निकाल लिया जाता है

प्रश्न=8. चरों के मध्य परिवर्तन की दिशा के आधार पर सहसंबंध है ?
(अ) ऋणात्मक सहसंबंध
(ब) धनात्मक सहसंबंध
(स) उपरोक्त दोनों
(द) इनमें से कोई नहीं

(स)✔
व्याख्या:- चरों के मध्य परिवर्तन की दिशा के आधार पर दो प्रकार के सह संबंध हैं-
1. धनात्मक सहसंबंध – जब दो चरों के बीच एक साथ बढ़ने की प्रवृत्ति पाई जाती हो
2. ऋणात्मक से संबंध – जब दो चरों में से एक में बढ़ने की वह दूसरे में घटने की प्रवृत्ति पाई जाती हो

प्रश्न=09. निम्न में से कौनसा सह संबंध चरों के मध्य परिवर्तन के अनुपात पर आधारित है ?
(अ) सरल रेखीय सहसंबंध
(ब) आंशिक स्वागत संबंध
(स) ऋणात्मक सहसंबंध
(द) धनात्मक सहसंबंध

(अ)✔
व्याख्या:- चरों के मध्य परिवर्तन के अनुपात के आधार पर चरों के दो प्रकार होते हैं-
1. सरल रेखीय सहसंबंध
2. वक्र रेखीय सहसंबंध

प्रश्न=10. सहसंबंध की मात्रा को अभिव्यक्त करने वाले अंक को कहते हैं?
(अ) सहसंबंध संख्या
(ब) सहसंबंध गुणांक
(स) सहसंबंध भार
(द) सहसंबंध मात्रा

(ब)✔
व्याख्या:- सहसंबंध की मात्रा को अभिव्यक्त करने वाले अंक को सहसंबंध गुणांक कहा जाता है और इस का मान + 1 तथा – 1 के बीच कोई भी गुणांक हो सकता है।

प्रश्न=11. सहसंबंध के गुणांक के संबंध में निम्न में से कौनसा कथन सत्य है?
1. यदि सहसंबंध गुणांक के मध्य का मान शुन्य होता है तो दोनों के मध्य सहसंबंध नहीं पाया जाता है
2. यदि सहसंबंध गुणांक + 1 अथवा – 1 हो तो सहसंबंध क्रमशः पूर्णता ऋणात्मक तथा धनात्मक होता है

(अ) केवल एक सही है
(ब) केवल दो सही है
(स) एक और दो सही है
(द) इनमें से कोई नहीं

(अ)✔
व्याख्या:- यदि सहसंबंध गुणांक +1 या – 1 होता है तो सहसंबंध क्रमशः पूर्णतः धनात्मक तथा पूर्णतः ऋणात्मक होता है

प्रश्न=12. सहसंबंध ज्ञात करने की प्रमुख विधियों में शामिल हैं?
(अ) विक्षेप चित्र
(ब) कार्ल पियर्सन का सहसंबंध गुणांक
(स) उपरोक्त दोनों
(द) इनमें से कोई नहीं

(स)✔
व्याख्या:- सहसंबंध ज्ञात करने की प्रमुख विधियां –
1. विक्षेप या बिंदु चित्र विधि 2. कार्ल पियर्सन का सहसंबंध गुणांक

प्रश्न=13. जब दो चर मूल्यों में इस प्रकार का संबंध हो कि एक में कमी अथवा वृद्धि होने के दूसरे में भी उसी दशा अथवा विपरीत दिशा में परिवर्तन होते हो तो वे दोनों कहलाते हैं?
(अ) सह संबंधित
(ब) सहसंबंध गुणांक
(स) मानक विचलन
(द) इनमें से कोई नहीं

(अ)✔
व्याख्या:- जब दो चरों मूल्यों में इस प्रकार का संबंध हो कि एक में कमी अथवा वृद्धि होने के दूसरे में भी उसी दशा अथवा विपरीत दिशा में परिवर्तन होते हो तो वे दोनों सह संबंधित कहलाते हैं दो संबंध समंक श्रेणियों में साथ साथ परिवर्तन होने की प्रवृत्ति को ही सहसंबंध या सह विचार कहते हैं।

प्रश्न=14. सहसंबंध को किस आधार पर ज्ञात किया जाता है?
(अ) ग्राफ अथवा संख्या के आधार पर
(ब) गुणांक के आधार पर
(स) समांतर माध्य के आधार पर
(द) बहुलक के आधार पर

(अ)✔
व्याख्या:- सहसंबंध को ग्राफ अथवा संख्या के आधार पर ज्ञात किया जाता है संख्या के रूप में इसका मान – 1 से +1 के बीच आता है

प्रश्न=15. जब संख्यात्मक रूप से सह संबंध का मान ज्ञात किया जाता है तो उसे कहते हैं?
(अ) सहसंबंध
(ब) सहसंबंध गुणांक
(स) बहुचर य सहसंबंध संबंध
(द) सरल सह संबंध

(ब)✔
व्याख्या:- जब संख्यात्मक रूप से सह संबंध का मान ज्ञात किया जाता है तो उसे सहसंबंध गुणांक कहते हैं इसे r द्वारा प्रदर्शित करते हैं।

प्रश्न=16. निम्न में से स्वतंत्र चर हैं?
(अ) कृषि
(ब) वायु भार
(स) कृषि उत्पादन
(द) तापमान

(द)✔
व्याख्या:– दो चरों के बीच कार्यात्मक संबंध हो सकता है जैसे- वर्षा तथा कृषि उत्पादन, तापमान तथा वायु भार आदि इस में वर्षा स्वतंत्र चर है तथा कृषि उत्पादन आश्रित चर इसी प्रकार तापमान तथा वायु भार तापमान स्वतंत्र चर है तथा वायु भार आश्रित चर हे। स्वतंत्र चर के परिवर्तन से आश्रित चर प्रभावित होता है

प्रश्न=17. मात्र दो चरों के बीच पाए जाने वाले सह संबंध को कहते हैं?
(अ) सरल सह संबंध
(ब) आंशिक सहसंबंध
(स) बहुचरिय सह संबंध
(द) इनमें से कोई नहीं

(अ)✔
व्याख्या:- मात्र दो चरों के बीच पाए जाने वाले सह संबंध को सरल सहसंबंध कहते हैं

प्रश्न=18. जब दो अथवा दो से अधिक स्वतंत्र चरों एवं एक आश्रित चर के बीच सहसंबंध ज्ञात किया जाता है तो उसे कहते हैं ?
(अ) सरल सहसंबंध
(ब) आंशिक सहसंबंध
(स) बहुचरिय सह संबंध
(द) इनमें से कोई नहीं

(स)✔
व्याख्या:- जब दो अथवा दो से अधिक स्वतंत्र चरों एवं एक आश्रित चर के बीच सहसंबंध ज्ञात किया जाता है तो बहुचरिय सहसंबंध कहते हैं इसमें यह देखा जाता है कि आश्रित चर ऊपर स्वतंत्र चरों का क्या प्रभाव पड़ता है

प्रश्न=19. चरों के मध्य परिवर्तन की दिशा के आधार पर सहसंबंध कितने प्रकार के होते हैं ?
(अ) दो प्रकार की
(ब) तीन प्रकार के
(स) चार प्रकार के
(द) पांच प्रकार के

(अ)✔
व्याख्या:- चरों के मध्य परिवर्तन की दिशा के आधार पर सहसंबंध दो प्रकार के होते हैं –
1. धनात्मक सहसंबंध
2. ऋणात्मक सह संबंध

प्रश्न=20. जब दोनों चरों में परिवर्तन का अनुपात एक समान होता है तो उसे कहते हैं?
(अ) सरल रेखीय सहसंबंध
(ब) रेखीय सह संबंध
(स) धनात्मक सहसंबंध
(द) सहसंबंध गुणांक

(अ)✔
व्याख्या:- जब दोनों चरों में परिवर्तन का अनुपात एक समान होता है तो उसे सरल रेखीय सहसंबंध कहते हैं यह धनात्मक अथवा ऋणात्मक होता है।
रेखीय सहसंबंध – जब दो चरों के बीच परिवर्तन का अनुपात एक सा नहीं हो तो उसे वक्र रेखीय सहसंबंध कहते हैं यह भी धनात्मक एवं ऋणात्मक होता है।

 

Specially thanks to Post and Quiz Creator ( With Regards )

लालशंकर पटेल डूंगरपुर

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *