Electric Current ( विद्युत धारा )

Electric Current

विद्युत धारा 

 

विद्युत धारा की इकाई  – एंपियर
विद्युत प्रतिरोधकता की इकाई  – ओम मीटर
विद्युत प्रतिरोध की इकाई  – ओम
विद्युत विभव और विभवांतर की इकाई  – वोल्ट
विद्युत शक्ति की इकाई  – वाट तथा अश्वशक्ति  (एक अश्व शक्ति बराबर 746 वाट)

घरों में से मीटर में ली जाने वाली रीडिंग या ली जाने वाली यूनिट की कोई इकाई नहीं होती है उसे Kwh ही कहते हैं

कुछ मुख्य बातें ( Some key things )

आवेश प्रवाह की दर को विद्युत धारा कहते हैं किसी आवेश पर किया गया कार्य विभव के बराबर होता है  धारा और विभव का गुणनफल विद्युत शक्ति कहलाता है

यदि परिपथ के समांतर क्रम में 100 व्हाट का बल्ब तथा 60 वाट का बल्ब लगाया जाए तो 100 वाट का बल्ब ज्यादा प्रकाशित होगा और 60 वाट का कम

परंतु यदि परिपथ में श्रेणी क्रम में दोनों को लगा दिया जाए तो 60 वाट का बल्ब ज्यादा प्रकाशमान होगाmसमांतर क्रम में विभव तथा श्रेणी क्रम में धारा कभी नहीं बदलती हमेशा नियत रहती हैं

किसी भी प्रतिरोध को समांतर क्रम में लगाने से तुल्य प्रतिरोध घट जाता है और घटक की दक्षता बढ़ जाती है इस कारण घरों में समांतर क्रम का प्रयोग किया जाता है

परिपथ में वोल्टमीटर बैटरी घरों का संयोजन सदैव समांतर क्रम में किया जाता है जबकि एमिटर स्विच धारा नियंत्रक इत्यादि को सदैव श्रेणी क्रम में लगाया जाता है

परिपथ में चालक तार किसी भी क्रम में लगाया जा सकता है यह परिपथ की प्रकृति पर निर्भर करता हैmजो कंप्यूटर और मोबाइल तथा इलेक्ट्रॉनिक से संबंधित उपकरण है अर्थात जिसमें चार्जर इत्यादि का प्रयोग होता है वह सब उपकरण डीसी कहलाते हैं जैसे कंप्यूटर मोबाइल फोन चार्जर घड़ी केलकुलेटर लैपटॉप तथा आजकल के LED बल्ब

जबकि जो हैवी वर्क करने वाले उपकरण होते हैं वह AC पर कार्य करते हैं घरों में काम आने वाला पंखा कूलर जूसर मिक्सर पानी चढ़ाने वाली मोटर आटे की चक्की तथा रेलगाड़ी का इंजन सब AC पर कार्य करते हैं
सभी सदस्य ध्यान रखिएगा

AC को उत्पन्न करना आसान है परंतु स्टोर करना असंभव है डीसी को स्टोर करना बहुत आसान है परंतु उत्पन्न करना अत्यंत कठिन होता है और महंगा होता है इस कारण AC का प्रयोग अधिक है परंतु स्टोर करने वाले इनवर्टर में इसे डीसी में बदलकर स्टोर किया जाता है

एसी को डीसी में बदलने की क्रिया डिस्टिकर्ण कहलाती है और डीसी को एसी में बदलने की क्रिया दोलित्रकरण कहलाती है और डीसी को एसी में बदलने वाले उपकरण को इनवर्टर तथा एसी को डीसी में बदलने वाले उपकरण को एंपलीफायर कहा जाता है

समान मान की AC से समान मान की DC ज्यादा खतरनाक होती है क्योंकि एसी का मान एक चक्र में दो बार शून्य होता है

इसे ऐसे याद रखें ( Remember it )

DC d डायरेक्ट c चिपका देती है जबकि ऐसी A एक बार C छोड़ देती है अब बताइए कौन ज्यादा खतरनाक है

डीसी उपकरणों के लिए वोल्टमीटर तथा अमीटर आदि अलग होते हैं जबकि इसी के लिए यह अलग होते हैं

 

Specially thanks to Post and Quiz makers ( With Regards )

चित्रकूट त्रिपाठी श्रीगंगानगर

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.