Indian Monsoon Quiz : भारत का मानसून तंत्र

Indian Monsoon Quiz

भारत का मानसून तंत्र

प्रश्न=1- भारत की जलवायु को प्रभावित करने वाले कारक  
【अ】 अक्षांश
【ब】 समुद्र से दूरी
【स】 हिमालय पर्वत
【द】 उपर्युक्त सभी ✔
 
प्रश्न=2- दक्षिण-पश्चिम मानसून निम्नलिखित में से किस प्रदेश में सर्वप्रथम प्रवेश करता है
【अ】 तमिलनाडु
【ब】 गोवा
【स】 कर्नाटक
【द】 केरल ✔
 
प्रश्न=3- दक्षिण पश्चिम मानसून से पूरे भारत में कितने प्रतिशत वर्षा प्राप्त होती है
【अ】90% ✔
【ब】75%
【स】45%
【द】10%
 
प्रश्न=4- मानसून किस भाषा का शब्द है  
【अ】 जर्मनी
【ब】 अरबी ✔
【स】 यूनानी
【द】 ग्रीक
 
प्रश्न=5- ग्रीष्म ऋतु में उत्तरी भारत में बहने वाली गर्म हवाओं को क्या कहते हैं  
【अ】 काल बैसाखी
【ब】 नॉर्वेस्टर
【स】 बारदोली छेड़ा
【द】 लु ✔
 
प्रश्न=6- उत्तरी पूर्वी मानसून से सबसे अधिक वर्षा प्राप्त करने वाला राज्य है  
【अ】 केरल
【ब】 तमिलनाडु ✔
【स】 उत्तर प्रदेश
【द】 कर्नाटक
 
प्रश्न=7- मानसून का निर वर्तन इंगित होता है  
1 साफ आकाश से
2 बंगाल की खाड़ी में अधिक दाब परिस्थिति से
3 स्थल पर तापमान के बढ़ने से
सही है
【अ】1
【ब】1 व् 2
【स】1, 2व् 3 ✔
【द】3
 
प्रश्न=8- निम्न राज्यों में से किस राज्य में औसत वार्षिक वर्षा अधिक प्राप्त होती है  
【अ】 सिक्किम
【ब】 अरुणाचल प्रदेश
【स】 केरल ✔
【द】 जम्मू कश्मीर
 
प्रश्न=9- भारत में ग्रीष्म कालीन मानसून की सामान्यतः दिशा है  
【अ】 दक्षिण पश्चिम से दक्षिण पूर्व
【ब】 उत्तर से दक्षिण
【स】 उत्तर पश्चिम से दक्षिण पूर्व
【द】 दक्षिण पश्चिम से उत्तर पूर्व ✔
 
प्रश्न=10- आम्र वर्षा है  
【अ】 आम का टपकना
【ब】 आम की बारिश होना
【स】 बिहार और बंगाल में मार्च-अप्रैल में होने वाली वर्षा ✔
【द】 असम में होने वाली वर्षा

प्रश्न=11. मानसून शब्द अरबी भाषा के किस शब्द से बना ?
(अ) मानसूनी
(ब) मौसिम ✔
(स) मौसम
(द) मौसमी
 
व्याख्या:- मानसून शब्द अरबी भाषा के मौसिम शब्द से बना है जिसका अर्थ है मौसम या ऋतु मानसूनी पवनें वस्तुतः मौसमी हवाई ही है यह वर्ष के छह माह स्थल की ओर से तथा शेष छह में जल की ओर से चलती है

प्रश्न=12. हमारे देश की कृषि, कृषि आधारित उद्योग एवं अन्य संबंधित आर्थिक पहलू किस पर निर्भर रहते हैं ?
(अ) जलवायु पर ✔
(ब) मानसून पर
(स) ऋतु पर
(द) जनसंख्या पर
 
व्याख्या:- हमारा देश भर मानसूनी हवाओं के प्रभाव में रहता है अतः यहां की जलवायु इन हवाओं द्वारा निर्धारित होती है जलवायु पर ही हमारे देश की कृषि, कृषि आधारित उद्योग एवं अन्य संबंधित आर्थिक पहलू निर्भर करते हैं इसलिए भारतीय अर्थव्यवस्था को मानसून का जुआ कहा जाता है

प्रश्न=13. ग्रीष्म ऋतु में पवनें चलती है ?
(अ) स्थल से जल की और
(ब) जल से स्थल की ओर ✔
(स) स्थल से ध्रुवों की ओर
(द) ध्रुवों से स्थल की ओर
 
व्याख्या:- ग्रीष्म ऋतु में स्थल के शीघ्र गर्म हो जाने से निम्न वायुदाब बन जाता है जबकि जल शीघ्र ताप ग्रहण न कर पाने के कारण ठंडा रहता है तथा वहां उच्च ताप बन जाता है अतः इस ऋतु में जल से स्थल की ओर पवने चलने लगती है जलीय क्षेत्र से उद्गम होने के कारण यह पवने आद्र होती है इसलिए इन पवनो से व्यापक वर्षा होती है

प्रश्न=14. शीत ऋतु में पवनों का उदगम कहां से होता है ?
(अ) स्थल से ✔
(ब) जल से
(स) ध्रुवों से
(द) मकर रेखा से
 
व्याख्या:- शीत ऋतु में ग्रीष्म ऋतु की प्रक्रिया से विपरीत होता है शीत ऋतु में पवन की दिशा भी विपरीत हो जाती है शीत ऋतु में स्थली भागों के शीघ्र ठंडे हो जाने उच्च दाब तथा जलीय क्षेत्र की अपेक्षाकृत गर्म रहने से वहां निम्न वायुदाब बन जाता है अतः पवने स्थल से जल की ओर चलने लगती है इन पवनों का उद्गम स्थल से होने के कारण यह शुष्क होती है अतः सामान्यतः इन पवनों से वर्षा नहीं होती

प्रश्न=15. अंतःउष्णकटिबन्धीय अभिसरण परिकल्पना किसने दी थी ?
(अ) स्पेट
(ब) कोटेश्वरम
(स) हैमिल्टन
(द) फ्लोन ✔
 
व्याख्या:- जर्मन मौसम विज्ञान शास्त्री फ्लोन ने बताया कि भूमध्य रेखीय निम्न दाब की ओर चलने वाली दोनों व्यापारिक पवनों के मिलने से वाताग्र उत्पन्न हो जाता है यही वाताग्र मानसून की जननी है उन्होंने अंतः उष्णकटिबंधीय अभिसरण परिकल्पना दी थी

प्रश्न=16. फ्लोन के अनुसार मानसून की जननी है ?
(अ) जलवायु
(ब) मौसम
(स) वाताग्र ✔
(द) जेट स्ट्रीम
 
व्याख्या:- वाताग्र मानसून की जननी है ग्रीष्म ऋतु में यह वाताग्र उत्तर की ओर खिसक जाता है अतः इनसे उत्पन्न चक्रवात भारत में ग्रीष्मकालीन मानसून के रूप में वर्षा करते हैं शीत ऋतु में न केवल यह वाताग्र दक्षिण की ओर खिसक जाता है बल्कि वायुदाब पेटीओं के दक्षिण की ओर खिसक जाने से भारत में इस समय उपोष्ण उच्च दाब का प्रभाव भी बढ़ जाता है

प्रश्न=17. यह किसने कहा था कि “मानसूनी पवनों की दिशा मैं मौसमी परिवर्तन तापीय कारणों से न होकर ग्रहीय वायुक्रम में व्यापारिक पवनों के पुनर्स्थापन का प्रतीक है” ?
(अ) फ्लोन ✔
(ब) स्टेट
(स) पंत
(द) रामास्वामी
 
व्याख्या:- प्रतिचक्रवातीय दशा उत्पन्न होने से उत्तर पूर्वी मानसून चलते हैं इस प्रकार फ्लोन के अनुसार मानसूनी पवनों की दिशा में मौसमी परिवर्तन तापीय कारणों से न होकर गृहिय वायुक्रम में व्यापारिक पवनों पुनर्स्थापन का प्रतीक है मानसून की उत्पत्ति के विषय में यह अवधारणा फ्लोन की परिकल्पना के नाम से भी जानी जाती है

प्रश्न=18. स्पेट किस देश का भूगोलवेत्ता था ?
(अ) जर्मनी
(ब) अमेरिका
(स) ऑस्ट्रेलिया ✔
(द) ब्रिटेन

प्रश्न=19. चक्रवात विभिन्न वायुपुंजो के मिलने पर बने वाताग्रो के कारण उत्पन्न होते हैं यह किस भूगोलवेत्ता ने माना ?

(अ) फ्लोन
(ब) स्पैट ✔
(स) हैमिल्टन
(द) कोटेश्वर
 
व्याख्या:- ऑस्ट्रेलियाई भूगोलवेत्ता स्पेट का मानना है कि मानसून पवने चक्रवातो की उत्पत्ति का परिणाम है यह चक्रवात विभिन्न वायुपुंजो के मिलने पर बने वाताग्रो के कारण उत्पन्न होते हैं उनकी मान्यता है कि ग्रीष्म ऋतु में वाताग्र बनने की प्रक्रिया अत्यंत शक्तिशाली होती है अब ये वाताग्र महासागर से वर्षाभरी पवनों को आकर्षित करते हैं इसके विपरीत शीत ऋतु में स्पेट के अनुसार यह वाताग्र अत्यंत दुर्बल व छिछले होते हैं

प्रश्न=20. उच्च स्तरीय वायु संचरण होता है ?
(अ) जेट स्ट्रीम में ✔
(ब) चक्रवातो में
(स) उष्णकटिबंधीय अभिसरण तंत्र में
(द) प्रतिचक्रवातों में
 
व्याख्या:- मानसून की उत्पत्ति के लिए केवल धरातलीय जलवायु दशाओं को ही उत्तरदाई नहीं मानकर क्षोभमंडल में वायु प्रवाह को भी महत्वपूर्ण माना गया है इसे उच्च स्तरीय वायु संचरण कहां जाता है इस संचरण में वायु की एक तीव्र प्रवाह वाली धारा चलती रहती है जिसे जेट स्ट्रीम के नाम से जाना जाता है

प्रश्न=21 जेट स्ट्रीम से संबंधित नहीं है ?
(अ) कोटेश्वर
(ब) फ्लोन
(स) रामास्वामी
(द) स्पैट ✔
 
व्याख्या:- जेट स्ट्रीम हिमालय पर्वत क्षेत्र में उच्चस्तरीय वायु संचरण का प्रमुख अंग है कोटेश्वरम, पंत, रामामूर्ति, रामास्वामी, फ्लोन, हेमिल्टन आदि वैज्ञानिकों ने क्षोभ मंडल में चलने वाली जेट स्ट्रीम का मानसून से घनिष्ठ संबंध माना है हैमिल्टन ने मानसून का सहसंबंध पूरे क्षोभमंडल की परिस्थितियों से स्थापित करते हैं जबकि अन्य विद्वान क्षोभमंडल के निम्न भाग को ही संबंधित मानते हे।

प्रश्न=22. जेट स्ट्रीम चलती है ?
(अ) पूर्व से पश्चिम
(ब) पश्चिम से पूर्व ✔
(स) उत्तर से दक्षिण
(द) दक्षिण से उत्तर
 
व्याख्या:- उच्चस्तरीय वायु संचरण के अंग के रूप में जेट स्ट्रीम पश्चिम से पूर्व की ओर प्रवाहित होती रहती हैं इसका मार्ग में मौसम के अनुसार थोड़ा परिवर्तन होता रहता है हमारी ग्रीष्म ऋतु में इसका संपूर्ण प्रवाह तिब्बत के पठार के उत्तर में सीमित रहता है हमारी शीत ऋतु में वायुदाब व पवनों की पेटियो के दक्षिण की ओर खिसक जाने के कारण जेट स्ट्रीम का प्रभाव दक्षिण की ओर खिसक जाता है

प्रश्न=23. जेट स्ट्रीम किसके कारण दो शाखाओं में विभक्त हो जाती है?
(अ) हिमालय पर्वत के कारण
(ब) तिब्बत के पठार के कारण ✔
(स) विंध्याचल पर्वत के कारण
(द) दक्षिण के पठार के कारण
 
व्याख्या:- जेट स्ट्रीम तिब्बत के पठार की उपस्थिति के कारण यह दो शाखाओं में विभक्त हो जाती है एक शाखा तिब्बत के पठार के उत्तर में तथा दूसरी शाखा उसके दक्षिण में प्रवाहित होने लगती हैं

प्रश्न=24. ला नीना की परिस्थितियां विकसित होने पर भारत के मानसून में क्या परिवर्तन होता है?
(अ) भारत में मानसून कमजोर होगा
(ब) भारत में मानसून प्रबल होगा ✔
(स) ला नीना का भारत की मानसून पर कोई प्रभाव नहीं पड़ता
(द) उपरोक्त सभी कारण प्रभावी होते हैं
 
व्याख्या:- ऐसा माना गया है कि अल नीनो की परिस्थितियां विकसित होने पर भारत में मानसून की प्रक्रिया कमजोर हो जाती है इसके विपरीत ला निना की परिस्थितियां विकसित होने पर भारत में मानसून की सक्रियता बढ़ जाती है

प्रश्न=25. दक्षिणी प्रशांत महासागर में पेरू तट के निकट औसत से अधिक तापमान हो जाने को कहते हैं ?
(अ) अल नीनो  ✔
(ब) ला नीनो
(स) जेट स्ट्रीम
(द) वाताग्र
 
व्याख्या:- दक्षिणी प्रशांत महासागर में पेरू तट के निकट औसत से अधिक तापमान हो जाने को अल नीनो तथा कम हो जाने को ला नैनो कहा जाता है क्योंकि यह परिस्थितियां क्रिसमस के आस-पास होती है अतः इन्हें क्राइस्ट शिशु कहा जाता है

प्रश्न=26- भारतीय अर्थव्यवस्था को मानसून का जुआ क्यों कहते हैं 
【अ】भारत में मानसून पर जुआ खेला जाता है
【ब】भारत की कृषि एवं कृषि आधारित उद्योग मानसून पर निर्भर करते हैं ✔
【स】भारत में जुआ को सरकारी मान्यता प्रदान की हुई है
【द】इनमें से कोई नहीं

व्याख्या:- भारत की जलवायु पर ही हमारी कृषि, कृषि आधारित उद्योग एवं अन्य संबंधित आर्थिक पहलू निर्भर करते हैं। इसलिए भारतीय अर्थव्यवस्था को मानसून का जुआ कहा जाता है

प्रश्न=27- फ्लोन के अनुसार मानसून की उत्पत्ति कैसे होती है 
【अ】वाताग्र के मिलने से ✔
【ब】जेट स्ट्रीम के कारण
【स】अल नीनो की उत्पत्ति के कारण
【द】ला नीना की उत्पत्ति के कारण

व्याख्या:- फ्लोन ने भूमध्य रेखा निम्न दाब की ओर चलने वाली दोनों व्यापारिक पवनों के मिलने से वातावरण उत्पन्न होने से मानसून की उत्पत्ति मानी है।

प्रश्न=28- अंतः उष्णकटिबंधीय अभिसरण परिकल्पना किसके द्वारा दी गई है 
【अ】फ्लोन ✔
【ब】बर्गरान
【स】कोपेन
【द】उपरोक्त सभी

व्याख्या:- अंतः उष्णकटिबंधीय अभिसरण परिकल्पना जर्मन मौसम विज्ञान शास्त्री फ्लोन के द्वारा दिया गया है

प्रश्न=29- अल नीनो की परिस्थितियां विकसित होने पर भारतीय मानसून पर क्या प्रभाव पड़ता है 
【अ】मानसून कमजोर होता है ✔
【ब】मानसून के बलवती होने की संभावना होती है
【स】अ एवं स दोनों
【द】इनमें से कोई नहीं

व्याख्या:- अल नीनो की परिस्थितियां विकसित होने पर भारत में मानसून की प्रक्रिया कमजोर हो जाती है

प्रश्न=30- ला नीना प्रभाव का भारतीय मानसून पर क्या प्रभाव पड़ता है 
【अ】मानसून कमजोर होता है
【ब】मानसून के बलवती होने की संभावना होती है ✔
【स】अ एवं स दोनों
【द】इनमें से कोई नहीं

व्याख्या:- ला नीना की परिस्थितियां विकसित होने पर भारत में मानसून की सक्रियता बढ़ जाती है

प्रश्न=31- मानसून की उत्पत्ति के विषय में पारंपरिक अवधारणा है 
【अ】अल नीनो- ला नीनो प्रभाव
【ब】संस्थापित परिकल्पना ✔
【स】अंतर उष्णकटिबंधीय अभिसरण परिकल्पना
【द】जेट स्ट्रीम परिकल्पना
 
प्रश्न=32-जेट स्ट्रीम जिसका अंग है वह है 
【अ】वाताग्र
【ब】चक्रवात
【स】विभिन्न वायु पुंज
【द】उच्च स्तरीय वायु संचरण ✔
 
प्रश्न=33- विभिन्न वायु पंजों के मिलने से बने वाताग्र के कारण मानसून की उत्पत्ति किस विद्वान ने मानी है वह है 
【अ】फ्लोन
【ब】हैमिल्टन
【स】स्पेट ✔
【द】कोटेश्वरम
 
प्रश्न=34- क्राइस्ट शिशु किसे कहते हैं 
【अ】अलनीनो को
【ब】ला नीनो प्रभाव को
【स】भारतीय मानसून को
【द】अ और ब दोनों ✔

व्याख्या:- सामान्य से कम तापमान हो जाने की परिस्थिति को ला नीना प्रभाव कहा जाता है। क्योंकि यह असामान्य परिस्थितियां क्रिसमिस के आसपास उत्पन्न होती है, अतः मौसम वैज्ञानिकों ने इसे क्राइस्ट शिशु की संज्ञा दी है।

 

Specially thanks to Post and Quiz makers ( With Regards )

Vijay Pal, लालशंकर पटेल डूंगरपुर, संदीप शर्मा बासवाड़ा, धर्मवीर शर्मा अलवर