Rajasthan Geography Most Important Question

Rajasthan Geography Most Important Question

प्रश्न-1. सिंचाई परियोजना ( Irrigation project) जिससे आदिवासी कृषकों को अत्यधिक लाभ होगा ?

(अ) Bisalpur
(ब) Narmada
(स) Jakham✔
(द) पांचना

व्याख्या- आदिवासी कृषकों को सर्वाधिक लाभ जाखम सिंचाई परियोजना से होगा इसका निर्माण जनजाति विकास उप योजना के अंतर्गत किया गया इस परियोजना से चित्तौड़गढ़ धरियावद तहसील(प्रतापगढ़) लाभान्वित हो रही है 81 मीटर ऊँचा जाखम बांध राजस्थान का सर्वाधिक ऊंचा बांध है

 

प्रश्न-2. भीखाभाई सागवाड़ा नहर परियोजना से किस जिले में सिंचाई सुविधा उपलब्ध करवाई जा रही है ?

(अ) Dungarpur✔
(ब)Jaipur
(स) Udaipur
(द) Jaisalmer
व्याख्या- इस परियोजना में माही नदी पर माही साइकस का निर्माण करा कर भीखाभाई सागवाड़ा नहर से डूंगरपुर सागवाड़ा में 21000 हेक्टेयर क्षेत्र में अतिरिक्त सिंचाई सुविधा सृजित की जाएगी इस परियोजना से बांसवाड़ा व डूंगरपुर जिला लाभान्वित होंगे

प्रश्न-3. कहां पर कृषि निर्यात क्षेत्र की स्थापना नहीं की गई ?

(अ) Jodhpur
(ब) Jaisalmer✔
(स) Kota
(द) Ganganagar
व्याख्या- राजस्थान में तीन कृषि निर्यात क्षेत्र की स्थापना जोधपुर कोटा और गंगानगर में की गई है जोधपुर में ग्वार मेहंदी मोठ, मसालों हेतु कोटा में धनिया तथा औषधीय महत्व के पौधों के लिए तथा गंगानगर में रसदार फलों हेतु निर्यात क्षेत्र की स्थापना की गई है

 

प्रश्न-4. राजस्थान की कृषि के संबंध में निम्न में से असत्य कथन कौन सा है ?

1- खाद्यान्न उत्पादन में 1950 के दशक के बाद सर्वाधिक वृद्धि बाजरे के उत्पादन में हुई है
2- राजस्थान के कुल क्षेत्रफल का मात्र एक तिहाई ही सिंचित है
3- राज्य के अधिकांश क्षेत्रों में वर्ष में दो फसलें ली जाती है
4- राजस्थान में कुल कृषि क्षेत्र सर्वाधिक बाड़मेर में और न्यूनतम राजसमंद में है

असत्य कथनों का सही कूट कौन सा है
(अ) 1 एवं 2
(ब) 1 एवं 3✔
(स) 2 एवं 3
(द) 3 एवं 4
व्याख्या- खाद्यान्न उत्पादन में 1950 से अब तक सर्वाधिक वृद्धि गेहूं के उत्पादन में हुई है साथ ही राज्य के अधिकांश क्षेत्रों में वर्ष में केवल एक ही फसल भी जाती है

 

प्रश्न-5. जालौर तथा बाड़मेर जिला तक पानी पहुंचाने के लिए किस परियोजना का निर्माण किया जा रहा है ?

(अ) बीसलपुर बांध परियोजना
(ब) चंबल नहर परियोजना
(स) माही बांध परियोजना
(द) नर्मदा नहर परियोजना✔
व्याख्या- जालौर कथा बाड़मेर जिले तक पानी पहुंचाने के लिए नर्मदा नहर परियोजना का निर्माण किया गया है इस परियोजना से बाड़मेर की गुड़ामालानी तहसील तथा जालोर के सांचौर तहसील के लाभान्वित हो रहे हैं नर्मदा नहर परियोजना राजस्थान गुजरात महाराष्ट्र मध्य प्रदेश की संयुक्त परियोजना है

 

प्रश्न-6. आहड़ नदी का नाम उदय सागर के बाद हो जाता है?

(अ) बैड़च✔
(ब) माही
(स) सोम
(द) जाखम
व्याख्या- उदयपुर की गोगुंदा की पहाड़ियों से निकलने वाली नदी उदयसागर झील तक आहड़ नदी के नाम से जानी जाती है उदयसागर झील के बाद इसे बेड़च नदी कहा जाता है आहड़/ आयड़ नदी के किनारे उदयपुर की आहड़ सभ्यता विकसित हुई थी

 

प्रश्न-7. कथन(1)राजस्थान के पश्चिमी मरुस्थलीय जिलों में आजकल भरपुर खाद्यान फसले उत्पन्न होती है
कारण (2)इंदिरा गांधी नहर ने जैसलमेर और बाड़मेर जिले में सिंचाई सुविधाएं प्रदान कर दी है ?
सही विकल्प का चयन कीजिए-
(अ) कथन सही और कारण भी सही है✔
(ब) कथन गलत है और कारण भी गलत है
(स) कथन सही है परंतु कारण गलत है
(द) कथन गलत है परंतु कारण सही है
व्याख्या- राजस्थान के मरू प्रदेश को हिमाचल के जल से हरा-भरा करने की इस महत्वाकांक्षी परियोजना की रूपरेखा प्रथम बार बीकानेर रियासत के मुख्य सिंचाई अभियंता श्री कंवर सेन द्वारा अपने अध्ययन बीकानेर राज्य में पानी की आवश्यकता के रूप में 1948 में प्रस्तुत की गई थी इसका मुख्य उद्देश्य रावी व्यास नदी के जल से राजस्थान को आवंटित 8.6MAFपानी में से 7.59MAFपानी का उपयोग कर पश्चिमी राजस्थान में सिंचाई व पेयजल सुविधाओं का विस्तार मरुस्थलीकरण को रोकना पर्यावरण सुधार वृक्षारोपण रोजगार के अवसरों में वृद्धि करना पशु संपदा का संरक्षण और विकास तथा कृषि उत्पादन को बढ़ाना है, इस परियोजना से पश्चिमी राजस्थान के 9 जिले हनुमानगढ़ श्रीगंगानगर चूरू झुंझुनू नागौर बीकानेर जैसलमेर और जोधपुर के 29 कस्बों तथा 3461 गांवों को पेयजल तथा झुंझुनू के अतिरिक्त शेष 8 जिलों के 19.63 लाख हेक्टेयर सिंचाई योग्य क्षेत्र में पानी उपलब्ध हो सकेगा

 

प्रश्न-8. राज्य में संचालित किस परियोजना में स्काडा सिस्टम ( Scada system) स्थापित किया गया है ?

(अ) चंबल परियोजना
(ब) राजस्थान नहर परियोजना (इंदिरा गांधी नहर परियोजना) ✔
(स) माही बजाज सागर परियोजना
(द) गंग नहर परियोजना
व्याख्या- इंदिरा गांधी नहर परियोजना में स्काडा सिस्टम स्थापित किया गया है इस प्रणाली से इंदिरा गांधी फीडर, मुख्य नहर, ब्रांच नहर और सब ब्रांच नहरों के 53 स्टेशनों पर अल्ट्रासोनिक उपकरणों द्वारा प्रत्येक 15 मिनट के अंतराल पर नहरों में पानी के प्रभाव का आकलन किया जाता है परियोजना के अधिकारी/ कर्मचारी अपने फील्ड स्टेशनों पर एक कामगार विभाग की वेबसाइट पर उपकरण द्वारा किए गए आकलन की निरंतर जानकारी प्राप्त कर सकते हैं इस परियोजना के अधिकारियों को इंदिरा गांधी नहर प्रणाली पर प्रभावी नियंत्रण और अंतिम छोर पर स्थित काश्तकार को पानी उपलब्ध कराने में सहायता प्राप्त होती है

 

प्रश्न-9. सुदूर बीहड़ क्षेत्रों को आबाद करने और सुव्यवस्थित प्रशासन के लिए उपनिवेशन विभाग का सृजन कब किया गया था ?

(अ) अप्रैल 1954
(ब) मई 1955✔
(स) मई 1956
(द) जुलाई 1957
व्याख्या- राजस्थान राज्य में उपनिवेशन क्षेत्र में स्थित भूमियों को व्यवस्थित व सुचारू रूप से विकास कर आवंटन करने ,सुदूर बिहड़ क्षेत्रों को आबाद करने एक सुव्यवस्थित प्रशासन के लिए उपनिवेशन विभाग का मई 1955 में सर्जन किया गया था मुख्यतया यह विभाग भूमि के विकास और आवंटन की कार्यवाही करता है इस विभाग द्वारा सिंचाई व कार्यों एवं आवागमन के साधनों को आधार बनाकर विरान रेगिस्तानी भूमि को उपजाऊ भूमि तथा गैर इलाकों को आबादी में परिणीत किया जाता है

 

प्रश्न-10. भारत के परमाणु परीक्षणों (Nuclear tests) के कारण यूरोपीय आर्थिक समुदाय के अलग होने से किस नहर का निर्माण राजस्थान में नहीं हो सका ?

(अ) गुड़गांव नहर
(ब) बीसलपुर परियोजना
(स) सिद्धमुख रतनपुरा वितरिका✔
(द) राजीव गांधी सिद्धमुख परियोजना
व्याख्या- सिद्धमुख रतनपुरा वितरिकाओं का निर्माण सिद्धमुख नोहर परियोजना में प्रस्तावित था लेकिन भारत के परमाणु परीक्षणों के कारण यूरोपीय आर्थिक समुदाय के अलग हो जाने की वजह से इसका निर्माण नहीं हो सका अब नाबार्ड के ₹21.44 करोड़ के वित्तीय सहयोग से ₹27.53 करोड़ की इस योजना का प्रारंभ 30 जून 1999 को हनुमानगढ़ जिले के भादरा तहसील के भिरानी गांव में किया गया था इस परियोजना से हनुमानगढ़ चूरू जिले की 18350 हेक्टेयर अतिरिक्त भूमि में सिंचाई सुविधा उपलब्ध हो सकेगी

 

प्रश्न-11. राज्य सरकार द्वारा किस वर्ष राज्य जल नीति स्वीकृत की गई थी ?

(अ) वर्ष 2000
(ब) वर्ष 2010
(स) वर्ष 1995
(द) वर्ष 1999✔
व्याख्या- राज्य सरकार द्वारा वर्ष 1999 में जल नीति स्वीकृत की गई थी इस नीति के अंतर्गत लिए गए संकल्पों को जन-जन तक पहुंचाने हेतु जन जागृति अभियान के माध्यम से प्रदेश में उपलब्ध बूंद-बूंद जल के सदुपयोग बचत और संग्रह के प्रति प्रचार-प्रसार के विचारों से जागृत करना प्रस्तावित था

 

प्रश्न-12. राजस्थान के भूजल विभाग (Ground water department) का प्रधान कार्यालय स्थित है ?

(अ) बीकानेर
(ब) जयपुर
(स) जोधपुर✔
(द) जैसलमेर
व्याख्या- भूजल विभाग का प्रधान कार्यालय जोधपुर में है राज्य के पूर्वी भाग में भरतपुर जिले में सेवर नगर कुम्हेर और डीग खंडों में भूमिगत जल खारा और लवणीय है राज्य में भूमिगत जल विकास का कार्य 1950 में प्रारंभ हुआ जब भारत सरकार द्वारा राजस्थान भूमिगत जल बोर्ड की स्थापना की गई 1955 में इस बोर्ड का नियंत्रण राजस्थान सरकार को सौंप दिया गया था । सन 1971 से इस बोर्ड को भू- जल विभाग के नाम से जाना जाता है

 

प्रश्न-13. राष्ट्रीय पेयजल (National drinking water) मिशन की स्थापना कब की गई थी ?

(अ) 1975
(ब) 1980
(स) 1986✔
(द) 1992
व्याख्या- 1986 में राष्ट्रीय पेयजल मिशन स्थापित किया गया जिसमें देश में उपलब्ध जल को प्राथमिकता के आधार पर पेयजल कृषि जल विद्युत जल परिवहन उद्योग में प्रयुक्त किए जाने का निश्चय किया गया राजस्थान सरकार ने जल संरक्षण कार्यक्रम के अंतर्गत सरकारी भवनों में वर्षा जल संचय अनिवार्य किया है साथ ही भूजल भंडारों के पुनर्भरण हेतु योजनाओं को आगे बढ़ाया है

 

प्रश्न-14. सांभर लेक अपवाह क्षेत्र मैं से सांभर लेक में कितनी नदियां गिरती है ?

(अ) दो
(ब) चार✔
(स) पाँच
(द) छ:
व्याख्या- सांभर लेक अपवाह क्षेत्र में से 4 नदियां सांभर झील में आकर गिरती है जिनमें प्रमुख नदी मेंथा उत्तर पश्चिम की है जो सीकर सामोद की हर्ष की पहाड़ियों से निकल कर आती है दक्षिण पूर्व दिशा से अजमेर किशनगढ़ की रूपनगढ़ नदी आती है इसके अलावा खारी और खंडेला नदियां हैं छोटे नालों के रूप में इस में त्यौग का नाला, झपोक का नाला नलियासर नाला,बांडी का नाला और देवयानी नाला प्रमुख है सांभर लेक आंतरिक प्रवाह क्षेत्र का कुल क्षेत्रफल 5700.00 वर्ग किलोमीटर है इस जेल का पृष्ठ क्षेत्रफल 190 से 230 वर्ग किलोमीटर है इस प्रवाह क्षेत्र के अंतर्गत 4 जिले जयपुर अजमेर नागौर सीकर सम्मिलित है

 

प्रश्न-15. वर्तमान में रूण्डित नदी किसे कहा जाता है ?

(अ) मोरेन
(ब) खंडेला
(स) कांतली
(द) बाणगंगा✔

व्याख्या- जयपुर जिले के बैराठ की पहाड़ियों से निकलने वाली यह नदी आंतरिक प्रवाह प्रणाली का उदाहरण है क्योंकि वर्तमान में इसका पानी भी यमुना तक नहीं पहुंच कर भरतपुर के आसपास के मैदानों में फैल जाता है शोध कार्यों से पता चलता है कि किसी समय यह यमुना की सहायक नदी थी लेकिन कालांतर में यमुना के पूर्व में सरकने से यह पीछे रह गई अब यह सरिता के रूप में है।इस प्रकार की सरिता को रुण्डित नदी कहा जाता है यह अवसाद के बीच विलुप्त हो जाती है।

Specially thanks to Post and Quiz Creator ( With Regards )

ममता शर्मा

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *