21-25 JUNE 2017 RAJASTHAN CURRENT AFFAIRS

01.राजस्थान को शहरी क्षेत्रों में सुधार कार्यों के लिए रु 38 करोड़ की विशेष प्रोत्साहन राशि का पुरस्कार
राजस्थान को शहरी क्षेत्रों में सुधार कार्यो के लिए देशभर में सातवें स्थान पर रहने के लिए भारत सरकार ने 37.94 करोड़ रुपए की विशेष प्रोत्साहन राशि का पुरस्कार प्रदान किया है । केंद्रीय शहरी विकास मंत्री वेंकैया नायडू ने राजस्थान के स्थानीय निकाय विभाग के प्रमुख शासन सचिव डा मनजीत सिंह को नई दिल्ली के विज्ञान भवन में शुक्रवार को आयोजित नेशनल वर्कशाप इन अर्बन ट्रांसफार्मेशन समारोह में प्रदान किया। इस वर्कशाप में राजस्थान 29 मिशन सिटीज के कमिश्नर ने भाग लिया । वर्कशाप में स्मार्ट सिटी उदयपुर के कमिश्नर और हृदय योजना अजमेर के आयुक्त ने पावर पाइंट प्रस्तुतीकरण से संभागियों को प्रभावित किया।         


02. मुख्यमंत्री ने ट्री-एंबुलेंस को हरी झंडी दिखाकर किया रवाना
शहर में पहली बार पौधों की सुरक्षा के लिए ट्री-एंबुलेंस निकली है। मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे ने विद्याधर नगर विधानसभा के वॉर्ड 10 की पार्षद समता महेंद्र चौधरी द्वारा तैयार कराई गई ट्री-एंबुलेंस रवाना की। साथ ही पौधों की हिफाज़त का बीड़ा उठाने वाली टीम-10 की प्रशंसा की।  टीम संयोजक महेंद्र चौधरी ने बताया कि टीम मानसून पूर्व वॉर्ड के मुख्य मार्गों पर 5000 नए पौधे लगाएगी। साथ ही वॉर्ड की जनता को भी पौधे बांटे जाएंगे।

03. मुख्यमंत्री ने किया ‘जीएसटी-लॉ प्रैक्टिस एंड प्रोसिजर’ किताब का विमोचन
गुड्स एंड सर्विसिस टैक्स को लेकर अब भी कोई उलझन है तो गुरुवार को लॉन्च हुई ‘जीएसटी-लॉ, प्रैक्टिस एंड प्रोसिजर’ किताब मददगार साबित हो सकती है। राजस्थान की मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे ने मुख्यमंत्री निवास पर इस किताब का विमोचन किया है। इसे वाणिज्य कर विभाग के अधिकारी आशीष कूलवाल ने लिखा है। श्री कूलवाल अपनी पहली पुस्तक की प्रति मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे को भेंट करने पहुंचे तो श्रीमती राजे ने इसे सराहनीय और जीएसटी को लेकर लोगों की उलझन को दूर करने वाला प्रयास बताया।
श्री कूलवाल विभाग में सबसे कम उम्र में ‘जीएसटी-लॉ प्रैक्टिस एंड प्रोसिजर’ पुस्तक लिखने वाले बताए जा रहे हैं।
04. डूंगरपुर ज़िले में दस ब्लॉक के 184 गांवों में हो रहे हैं जल संरक्षण के प्रयास
डूंगरपुर ज़िले में ‘मुख्यमंत्री जल स्वावलम्बन अभियान’ द्वितीय चरण के अन्तर्गत स्वीकृत कार्य युद्ध स्तर पर किए जा रहे हैं। अभियान के प्रथम चरण में मिली सफलता के बाद सदैव ही पानी की कमी से जूझते इस क्षेत्र के लोगों को इस अभियान ने जल संरक्षण के लिए प्रेरित किया है।  पहाड़ी बसावट के कारण डूंगरपुर ज़िले के निवासियों के लिए पानी की कमी हमेशा से ही भयावह समस्या रही है। ऐसे में मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे की पानी को बचाने की दूरदर्शी सोच से शुरू हुए ‘मुख्यमंत्री जल स्वावलम्बन अभियान’ ने डूंगरपुर ज़िले के निवासियों में जल संरक्षण के प्रति एक जागरूकता पैदा कर दी है। प्रथम चरण की सफलता के बाद आमजन स्वस्फूर्त जल की उपयोगिता और भविष्य की जल त्रासदी को समझते हुए ‘गांव का पानी गांव में’ और ‘खेत का पानी खेत में’ रोकने के लिए तत्पर दिख रहा है। मुख्यमंत्री जल स्वावलम्बन अभियान के द्वितीय चरण में हो रहे कार्यों में ज़िला प्रशासन, पुलिस प्रशासन, जनप्रतिनिधि, स्वयंसेवी संस्थाएं, मीडियाकर्मी, आमजन, गांववासियों तथा अभियान से जुड़ा प्रत्येक व्यक्ति कंधे से कंधा मिलाकर सहयोग दे रहा है।


05. बिड़ला सभागार में 23 वां राज्य स्तरीय ‘भामाशाह सम्मान समारोह’ आयोजित किया जाएगा
शिक्षा विभाग की ओर से 28 जून को बिड़ला सभागार में 23 वां राज्य स्तरीय ‘भामाशाह सम्मान समारोह’ आयोजित किया जाएगा। शिक्षा राज्य मंत्री वासुदेव देवनानी ने बताया कि समारोह में 140 भामाशाहों और प्रेरकों को शैक्षिक क्षेत्र में किए गए उनके योगदान के लिए सम्मानित किया जाएगा। सम्मान समारोह की मुख्य अतिथि मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे होंगी।
समारोह में 10 लाख या इससे अधिक की सहायता करने वाले भामाशाहों अथवा संस्थाओं और प्रेरकों को सम्मानित किया जाएगा। वर्ष 1995 में शुरु हुए इस समारोह में अब तक 1302 भामाशाहों को सम्मानित किया जा चुका है। शिक्षा संकुल में बुधवार को शिक्षा सचिव नरेशपाल गंगवार ने समारोह की तैयारियों की समीक्षा की। गंगवार ने निर्देश दिया कि समारोह के लिए गठित की गई विभिन्न समितियों के कार्यों को इसी सप्ताह अंतिम रूप दिया जाए।

06. मुख्यमंत्री की पहल पर शुरू हुआ देश में रेलवे स्टेशनों का सौंदर्यकरण – रेल मंत्री
केन्द्रीय रेलमंत्री सुरेश प्रभु ने कहा है कि श्रीमती राजे की पहल पर राजस्थान से ही रेलवे स्टेशनों के सौंदर्यकरण की शुरूआत हुई। उनका मानना है कि रेलवे स्टेशन साफ-सुथरे होने के साथ-साथ सुन्दर भी दिखने चाहिए। अब सारे देश में रेलवे स्टेशनों के सौंदर्यकरण पर काम हो रहा है। जयपुर जंक्शन पर 367 करोड़ रूपए से अधिक लागत की विभिन्न रेल परियोजनाओं के शुभारम्भ के लिए आयोजित भव्य समारोह को सम्बोधित कर रहे थे। श्रीमती राजे एवं केन्द्रीय मंत्री ने प्रोजेक्ट्स का रिमोट के माध्यम से लोकार्पण एवं शिलान्यास किया तथा नई ट्रेनों को हरी झण्डी दिखाई। जयपुर में मुख्य समारोह के साथ-साथ मारवाड़ जंक्शन, उदयपुर, अजमेर, सीकर तथा हरियाणा के रेवाड़ी में भी समारोहों का आयोजन किया गया।