इल्तुतमिश के उत्तराधिकार की समस्या

 ? 1236 ईस्वी  में इल्तुतमिश की मृत्यु के बाद से 1265 ईसवी तथा बलबन के राज्य रोहन तक दिल्ली सल्तनत का राजनीतिक इतिहास अस्थिरता से  प्रभावित रहा
? क्योंकि इस काल में इल्तुतमिश के वंशजों और उसके द्वारा संगठित चालीसा दल के सरदारों के बीच राजनीतिक प्रभुत्व के लिए संघर्ष प्रारंभ हो गया था

? इस काल की दो मुख्य विशेषताएं थी
1. प्रथम– इल्तुतमिश के उत्तराधिकारियों का दुर्बल होना
2. द्वितीय– तुर्की अधिकारियों की महत्वकांक्षाएं

? चालीसा दल के सदस्य शासन पर अपना प्रभुत्व स्थापित करना चाहते थे इसीलिए इल्तुतमिश के वंशजों को केवल नाम मात्र का सुल्तान बनाए रखना चाहते थे
? इल्तुतमिश ने अपने बड़े पुत्र नासिरुद्दीन महमूद को अपना उत्तराधिकारी घोषित किया था
? लेकिन 1229 ईस्वी में नासिरुद्दीन महमूद  की असामयिक मृत्यु के कारण इल्तुतमिश के सामने उत्तराधिकार चुनने की समस्या उत्पन्न हो गई
? उसके शेष पुत्र अयोग्य और विलासी थे
? इल्तुतमिश ग्वालियर अभियान पर गया तो वह दिल्ली का शासन अपनी पुत्री रजिया के अधिकार में छोड़ गया
? रजिया ने अपना दायित्व इतनी कुशलता से पूरा किया कि ग्वालियर से लौटने के तुरंत बाद( 1232ई.)में इल्तुतमिश ने अपने मशरिफे ममलकत ताजुलमुल्क मुहम्मद दबुल  को यह आदेश दिया कि वह रजिया को उत्तराधिकारी बनाने के लिए मनोनयन पत्र तैयार करें

? उत्तराधिकार के प्रश्न पर इल्तुतमिश ने कहा कि मेरे पुत्र भोग विलास में ग्रस्त हैं और कोई भी शासन करने योग्य नहीं है वे इस राज्य का शासन नहीं कर सकते
? मेरी मृत्यु के उपरांत आपको ज्ञात हो जाएगा कि उसके(रजिया)समान शासन कोई अन्य नहीं कर सकेगा
? ग्वालियर अभियान के बाद एक संस्मारक मुद्रा प्रचलित की गई जिस पर इल्तुतमिश के साथ रजिया का नाम अंकित किया गया
?  इल्तुतमिश पहला शासक था जिसने अपनी मृत्यु से पूर्व ही अपना उत्तराधिकारी घोषित किया था
? रजिया को उत्तराधिकारी मनोनीत करना एक असाधारण निर्णय था
? इससे पूर्व तुर्को के बीच किसी महिला के शासक के रूप में कार्य करने का कोई उदाहरण नहीं था,उलेमा वर्ग भी इसे शरीयत के विरुद्ध मानते थे
? राज परिवार में रजिया के विरुद्ध षड्यंत्र प्रारंभ हो गया उसकी सौतेली मां शाह तुर्कान का अपने पुत्र रुकनुद्दीन फिरोजशाह को शासक  बनाने के लिए चालीसा दल के साथ मिलकर षड्यंत्र रचने लगी
? इल्तुतमिश के समय का प्रधानमंत्री निजामुलमुल्क रजिया के विरुद्ध था
? अत:  इल्तुतमिश की मृत्यु के दूसरे दिन अमीरो ने रुकनुद्दीन फिरोज शाह को सुल्तान घोषित किया

??????????

?? शाह तुर्कान ??
?शाह तुर्कान इल्तुतमिश की पत्नी और रजिया की सौतेली मां थी
?शाह तुर्कान रुकनुद्दीन फिरोज शाह की माता थी वह इल्तुतमिश के मरने के बाद रुकनुद्दीन फिरोज शाह को दिल्ली का उत्तराधिकारी घोषित करना चाहती थी
?शाह तुर्कान तानाशाह प्रवति की होने के बावजूद भी विद्वान और पवित्र जनों को उपहार दान आदि देती थी
?रुकनुद्दीन के समय वास्तविक सत्ता उसकी मां शाह तुर्कान के हाथों में थी
?लोगों ने रुकनुद्दीन को अपदस्थ कर रजिया को सुल्तान बनाया था

Leave a Comment

Your email address will not be published.

Scroll to Top