उत्तर भारत राजपूत काल से संबंधित प्रश्नोतरी | प्राचीन भारत का इतिहास

उत्तर भारत राजपूत काल से संबंधित प्रश्नोतरी | प्राचीन भारत का इतिहास

हमने उत्तर भारत राजपूत काल से संबंधित प्रश्नोतरी में महत्वपूर्ण प्रश्न & पिछली परीक्षाओं में भी आए हुए प्रश्नों को सम्मिलित किया है, सभी केंद्र और राज्य सरकारों द्वारा आयोजित परीक्षाओं जैसे UPSC, SSC, Railway, RAS, Banking, State PSC, SSC CGL, SSC CHSL, Patwari, Police, CTET, TET, Army, IBPS PO, IBPS Clerk, REET, में इनसे संबंधित 1-2 प्रश्न अवश्य पूछे जाते है, यह Test आपके लिए बहुत ही उपयोगी साबित होगा |

Free उत्तर भारत राजपूत काल से संबंधित प्रश्नोतरी Specific Instructions – 

  1. सभी प्रश्नों को ध्यानपूर्वक पढ़कर और समझकर उत्तर देवे
  2. इस टेस्ट में 30 प्रश्नों को सम्मिलित किया गया है जिनके लिए 20 मिनट का समय रखा गया है
  3. सभी सही प्रश्नों के लिए 1-1 अंक दिया जाएगा
  4. यदि आपको किसी प्रश्न में आपत्ति है तो नीचे Comment Box में लिख कर हमारे साथ साझा जरूर करे

0%
2 votes, 5 avg
0

उत्तर भारत राजपूत काल से संबंधित प्रश्नोतरी | प्राचीन भारत का इतिहास

Best of Luck for Quiz

1 / 30

1. त्रिपक्षीय संघर्ष का आरंभ और अंत किस राजवंश ने किया

2 / 30

2. किस पाल शासक को गुजराती कवि सोडूढ़ल ने 'उत्तरापथ स्वामिन्’ कहा

3 / 30

3. मोढेरा का सूर्य मंदिर किस राज्य में स्थित है

4 / 30

4. परमार वंश का सर्वाधिक शक्तिशाली राजा कौन था?

5 / 30

5. राजस्थान का प्रथम चौहान राज्य था

6 / 30

6. गुर्जर प्रतिहार वंश का अंतिम शासक था?

7 / 30

7. गुर्जर प्रतिहार के उज्जयिनी शाखा का संस्थापक कौन था

8 / 30

8. किसके राज्यकाल में लक्ष्मीधर ने 'कल्पद्रम' या 'कत्यक तहलक्ष्माधर ने 'कल्पद्रुम' या 'कृत्यकल्प तरु' नामक विधि ग्रंथ की रचना की

9 / 30

9. खजुराहो के मंदिरों का संबंध है

10 / 30

10. प्रतिहार स्वयं को . . . . . .  का वंशज मानते थे जो राम के प्रतिहार (अर्थात् द्वारपाल) थे

11 / 30

11. त्रिपक्षीय संघर्ष की पहल किसने की ?

12 / 30

12. चंदेल वंश के कौन से राजा ने अपनी राजधानी कलिंजर से खजुराहो में स्थानांतरित की थी ?

13 / 30

13. निम्नलिखित में से किस मंदिर परिसर में एक भारी-भरकम नन्दी की मूर्ति है जिसे भारत की विशालतम नन्दी मूर्ति माना जाता है?

14 / 30

14. किस पर स्वामित्व के लिए पाल, प्रतिहार व राष्ट्रकूट के बीच त्रिपक्षीय संघर्ष हुआ

15 / 30

15. कर्पूरमंजरी' नाटक के रचयिता राजशेखर को किस प्रतिहार शासक ने संरक्षण दिया?

16 / 30

16. रामचरित' की रचना किसने की

17 / 30

17. किस शासक ने कालिंजर के अजेय दुर्ग का निर्माण करवाया

18 / 30

18. किस प्रतिहार शासक ने 'आदिवराह' की उपाधि धारण की

19 / 30

19. नैषेध चरित' व 'खण्डन-खण्ड-खाद्य' के रचयिता श्रीहर्ष किस शासक के राजकवि थे

20 / 30

20. चन्दावर का युद्ध (1194 ई०) किसके मध्य हुआ ?

21 / 30

21. चौहान वंश का अंतिम शासक कौन था

22 / 30

22. कायस्थों का एक जाति के रूप में प्रथम उल्लेख कहाँ मिलता है?

23 / 30

23. त्रिपक्षीय संघर्ष में भाग लेकर उत्तर भारत की राजनीति में हस्तक्षेप करने वाली और दक्षिण से उत्तर पर आक्रमण करनेवाली दक्षिण की प्रथम शक्ति थे

24 / 30

24. किसने स्मृति ग्रंथ 'दान सागर' एवं ज्योतिष ग्रंथ 'अद्भुत सागर' की रचना की

25 / 30

25. 750 ई० में बंगाल के पाल वंश की स्थापना करनेवाले गोपाल ऐसे शासक थे जिन्हें

26 / 30

26. किस विदेशी यात्री ने गुर्जर-प्रतिहार वंश की 'अल-गुजर' एवं इस वंश के शासकों को 'बैरा' कहकर पुकारा

27 / 30

27. 9वीं सदी में भारत आए अरव यात्री सुलेमान ने किस साम्राज्य को 'रूहमा' कहकर संबोधित किया?

28 / 30

28. सूची-I को सूची-II से सुमेलित कीजिए :

सूची-I (ग्रंथकार)   -    सूची-II (ग्रंथ)

  1. कल्हण  - 1. राजतरंगिनी
  2. बिल्हण - 2. विक्र्मांकदेव चरित
  3. जयनक  - 3. पृथ्वी विजय
  4. सोमदेव   - 4. ललित विग्रह राज

कूट:-

29 / 30

29. किस पाल शासक को गुजराती कवि सोडूढ़ल ने 'उत्तरापथ स्वामिन्’ कहा ?

30 / 30

30. कल्हण कृत राजतरंगिन्णी में कुल कितने तरंग है

Please fill in your name and email to check the result. ( रिजल्ट चेक करने के लिए कृपया अपना नाम और ईमेल भरें। )

Your score is

The average score is 0%

0%

आप इस परीक्षा को 5 में से कितने सितारे देना चाहेंगे?
How many stars out of 5 would you like to give this exam?

हमारे व्हाट्सएप ग्रुप से जुड़ने के लिए 9015746713 पर Whatsapp मैसेज करें।

Important Notes & Test Series को जरूर पढ़ें –

Specially thanks to – सुभाष झाझड़िया

आपको हमारे द्वारा आयोजित उत्तर भारत राजपूत काल से संबंधित प्रश्नोतरी कैसा लगा | कृपया Comment Box में अपने विचार जरूर साझा करें, अपना कीमती समय देने के लिये – धन्यवाद

Leave a Comment

Your email address will not be published.

Scroll to Top