बंगाल अभियान

बंगाल अभियान

मोहम्मद गौरी के समय में उसके एक सरदार इख्तियारुद्दीन मोहम्मद बख्तियार खिलजी ने  पूर्व में तुर्की (Turkey) सत्ता की स्थापना की उसने बिहार से आगे बढ़कर नदिया( Bengal) और लखनौती पर अधिकार कर लिया था

  • इस समय बंगाल में Pal Dynasty का शासक लक्ष्मण सेन था और इसकी राजधानी नदिया थी
  • Bakhtiyar khilji ने नदिया पर आक्रमण किया और लखनौती को अपनी राजधानी बनाया था
  • अली मर्दान खाँ ने  बख्तियार खलजी की हत्या कर दी और अपने आप को स्वतंत्र घोषित कर लखनौती पर अधिकार कर लिया।,लेकिन उसकी स्थिति सुदृढ़ नहीं थी
  • खलजी सरदार उसके विरुद्ध विद्रोह करने लगा है खलजी सरदारों ने अली मर्दान को कैद कर उसके स्थान पर मुहम्मद शेराँ को गद्दी पर इस शर्त पर बिठाया कि वह Delhi की अधीनता कभी स्वीकार नहीं करेगा
  •  अली मर्दान किसी तरह केंद से भागने में सफल रहा और कुतुबुद्दीन ऐबक से जा मिला
  • कुतुबुद्दीन ऐबक को बंगाल अपने नियंत्रण में लेने का यह सुनहरा अवसर था
  •  कुतुबुद्दीन ऐबक के इक्तेदार कैमाज रुमी जो उस समय  अवध का सरदार था ने मुहम्मद शेराँ  को पराजित कर अली मर्दान को पुनः बंगाल का इक्तादार(सूबेदार )बनाया
  •  पुन: गद्दी प्राप्त करने के बाद अली मर्दान अपने अंतिम समय तक कुतुबुद्दीन एबक के प्रति स्वामी भक्त रहा और बंगाल दिल्ली सुल्तान के अधीन हो गया

राजपूत राज्य पर नियंत्रण और कुतुबुद्दीन ऐबक की मृत्यु

  • मोहम्मद गौरी की मृत्यु का लाभ उठाकर राजपूत राज्यों ने अपने आप को स्वतंत्र कर दिया था
  •  कालिंजर और ग्वालियर तुर्को के हाथ से निकल गए थे  और बदायूं और Farrukhabad से तुर्को को निकाल दिया गया था
  • कुतुबुद्दीन ऐबक को इन राजपूतों के विद्रोह का सामना करना था लेकिन अकस्मात  मृत्यु के कारण वह इस  क्षेत्र में निर्णायक कार्यवाही नहीं कर सका
  • कुतुबुद्दीन ऐबक की मृत्यु 1210 ईस्वी में लाहौर में चौगान खेलते समय घोड़े से गिरकर हो गई थी
  • कुतुबुद्दीन ऐबक की मृत्यु के बाद उसके शरीर को लाहौर में ही दफनाया गया था