बीकानेर प्रजामंडल से संबंधित तथ्य

?1931 की कुछ प्रमुख घटनाओं जैसे पत्र पत्रिकाओं में बिकानेर शासन व्यवस्था के बारे में छपे लेख, चूरू में लगान वृद्धि के विरोध सभा का आयोजन आदि राष्ट्रीय भावना वाले व्यक्तियों का दमन करने का निश्चय किया था
?सर्व हितकारिणी सभा के द्वारा लड़कियों लड़कियों के लिए पाठशालाएंस्थापित की गई थी
?इसके लिए राज्य सरकार से शिक्षा के प्रसार और स्वच्छ प्रशासनकी मांग की गई थी
?जिसके परिणाम स्वरूप महाराजा गंगा सिंह ने 8 व्यक्तियों को बीकानेर षडयंत्र द्वारा 3- 3 साल तक के कारावास की सजा सुनाई थी
?उत्तरदायी शासन की मांग करने और बीकानेर राज्य परिषद की स्थापना के कारण रघुवरदयाल गोयल को बीकानेर महाराजा ने गिरफ्तार कर नजर बंदकर दिया था
?बीकानेर सरकार की इस समय की राजस्थान की तमाम राज्यों में निंदा की गई
?27 अक्टूबर 1944 को पूरे राजस्थान में बीकानेर दमन विरोधी दिवस मनाया गया
? इससे लोगों में चेतना आई और प्रजा परिषद का कार्यभी शुरू किया
?दुधवा खारा आंदोलन से जनता में अभूतपूर्व राजनीतिक चेतना पैदा हुई
?जिसके परिणाम स्वरुप सरकार ने वैद्य जी प्रजा परिषद के सदस्यों सहित अनेक नेताओं को कैद कर नजर बंद कर दिया
?मार्च 1946 में एक प्रेस एक जारी कर समाचार पत्रों पर अनेक प्रतिबंध लगा दिए गए
?बीकानेर के आयकर कानून के विरोध में नोहर और भादरा में हड़ताल मनाई गई
?मई 1946 में बीकानेर में किसानों का एक जुलूसनिकला था

♻?आजाद पार्क में राजनीतिक सभा?♻  
1946 में आजाद पार्क में मास्टर भोलानाथ के नेतृत्व में राजनीतिक सभा हूई
?जिसमें सरकार के जुल्म की निंदाकी गई और उत्तरदायी शासनकी स्थापना की मांग की गई
?इसके बाद बीकानेर राज्य में सरकारी कर्मचारियों की सामूहिक हड़तालके कारण राजनीतिक वातावरण तनावपूर्ण हो गया और सरकार में धारा 144 लागू कर दी थी
?अप्रैल 1947 में बीकानेर राज्य प्रजा परिषदमें राजगढ़ में स्वामी कुमार आनंद के सभापतित्व मे अपना सम्मेलन करने का निश्चय किया
?लेकिन महाराजा ने सम्मेलन से पूर्व ही अनेक लोगों को गिरफ्तारकर लिया
?अंत में महाराजा को राजनीतिक दबावके आगे झुकना पड़ा और बीकानेर व्यवस्थापिका सभा की स्थापना की घोषणा की
?अप्रैल 1947 में बीकानेर केंद्रीय सविधान सभामें सम्मिलित होने वाला पहला राज्य बना
?स्वतंत्रता के बाद भारतीय संघ में सम्मिलित होने में भी बीकानेर महाराजा ने सबसे पहले कदम उठाया था
?17 दिसंबर 1933 को बीकानेर दिवस मनाया गया था

?प्रथम विश्व युद्ध के समय राजस्थान के नरेशोने हर तरह से ब्रिटिश सरकार की सहायता की थी
?प्रथम विश्व युद्ध के समय बीकानेर महाराजा गंगासिंह को साम्राज्यिक युद्ध मंत्री मंडल और साम्राज्यिक युद्ध सम्मेलन के सदस्य मनोनीत किया गया था
?इंहें जर्मनी से संधि वार्ता में भाग लेने के लिए भारत का प्रतिनिधित्व करने हेतु पेरिसभेजा गया था
?बीकानेर के महाराजा गंगासिह पहले शासक थे
?जिन्होंने प्रथम विश्व युद्ध के समय तार द्वारा सम्राट और वायस राय को सूचितकिया था कि
?वह स्वयं और उनकी सेना साम्राज्य के किसी भी भाग में सेवा अर्पित करने के लिए तैयार है
?महाराजा गंगासिह अपने प्रसिद्ध गंगा रिशाल (ऊंटों की पलटन)तथा शार्दुल लाइट इनफेंट्री के साथ युद्ध क्षेत्रमें पहुंचे

?1917में जब महाराजा गंगासिह साम्राज्य की युद्ध मंत्री मंडल और युद्ध सम्मेलन में भाग लेने इंग्लैंडगए थे
?उस समय भारत सचिव औस्तिन चेम्बरलेन महाराजा से आग्रह किया कि वह भारतीय समस्याओं पर अपने विचार लिखित रूप में प्रेषित करें
?मई 1917 में भारत लौटते समय महाराजा ने एक आलेख रोम से भारत सचिव को भेजा जिसे  रोम नोट के नाम से जाना जाता है
?महाराजा गंगा सिंह के शासनकाल को बीकानेर राज्य में निरपेक्षता और दमन का प्रतीक कहा जाता है
?दूसरे गोलमेज सम्मेलन में देसी राज्य के प्रतिनिधि के रूप में महाराजा गंगासिह लंदनगए थे
?उसी समय अखिल भारतीय देशी राज्य लोक परिषद्का एक शिष्टमंडल भी जनता का दृष्टिकोण प्रस्तुत करने के लिए लंदनगया था
? इस मंडल ने इस सम्मेलन में ज्ञापन बांटकर महाराजा गंगा सिंह के प्रशासन की भत्सर्नाकी थी

Leave a Comment

Scroll to Top