सड़क विकास कार्यक्रम उपलब्धियां & घनत्व

???सड़क विकास कार्यक्रम  उपलब्धियां???


?सारथी?(चालको और परिचालकों को लाइसेंस)
चालको और परिचालकों को लाइसेंस देने का कार्य मोटरयान अधिनियम 1988 के अंतर्गत जिला परिवहन अधिकारी या अधिकृत व्यक्ति द्वारा संपन्न किया जाता है विभाग में चालक लाइसेंस कार्य का सारथी सॉफ्टवेयर पर नेटवर्क आधारित कंप्यूटराइजेशन किया जा रहा है

???सड़क दुर्घटनाओं में कमी लाने हेतु कार्ययोजना???
राज्य में बढ़ती सड़क दुर्घटनाएं राज्य सरकार के लिए चिंता का विषय है सड़क दुर्घटनाओं में कमी लाने के लिए विभाग द्वारा निम्नलिखित उपाय किए गए हैं

राज्य में माननीय परिवहन मंत्री की अध्यक्षता में स्टेट रोड सेफ्टी काउंसिल का गठन 3 जुलाई 2009 को दिया गया है जो बढ़ती दुर्घटनाओं के कारण और इन में कमी लाने के बारे में विचार कर सुझाव देती है कौंसिल ने अल्पकालीन और दीर्घकालीन योजनाओं को अपनाया है
सड़क दुर्घटनाओं को रोकने के संबंध में कार्यवाही के लिए विभाग में अलग से सड़क सुरक्षा प्रकोष्ठ बनाया गया है
विभाग में आधुनिकरण की महति योजना के अंतर्गत प्रथम चरण में 5 इंटरसेप्टर राष्ट्रीय राजमार्गों पर तैनात किए गए हैं ये वाहनों के निर्धारित गति सीमा में चलने सीट बेल्ट का उपयोग करने नशे में वाहन नहीं चलाने वाहन चलाते समय मोबाइल फोन का उपयोग नहीं करने और यात्री वाहनों में क्षमता से अधिक सवारी नहीं बैठाने संबंधी यातायात नियमों की पालना कराते हैं
सभी जिलों में जिला कलेक्टर की अध्यक्षता में सड़क सुरक्षा समिति का गठन किया गया है जिसमें संबंधित विभागों के अधिकारियों स्वयंसेवी संगठनों और अन्य संबंधित संगठनों के पदाधिकारियों को सदस्य मनोनीत किया गया है

दुर्घटनाओं का कारण बनने वाले धीमी गति के वाहनों यथा ट्रैक्टर ट्रॉली ऊंट गाड़ी बेल गाड़ी आदि वाहन पर लगभग 4.30 लाख रिफ्लेक्टर लगाए गए हैं यातायात संबंधी अपराधों के प्रकरण में लाइसेंस पंचिंग करने की कार्यवाही किए जाने के निर्देश प्रदान किए गए हैं
NH पर मिलने वाली सड़कों पर सार्वजनिक निर्माण विभाग द्वारा 1850 स्पीड ब्रेकर बनाए गए और निर्धारित गति सीमा और यातायात चिन्हों के बोर्ड लगाए गए हैं

???राजस्थान में सड़क निर्माण का मास्टर प्लान :(1981 से 2011)??? 

राज्य ने सड़क विकास का मास्टर प्लान सार्वजनिक निर्माण विभाग द्वारा तैयार किया था जिसकी तथ्य इस प्रकार थे

  • सभी पंचायत मुख्यालयों को सड़कों से जोड़ना 
  • 1000 व इससे अधिक जनसंख्या (1971 की जनगणनानुसार) वाले सभी गांव को सड़कों से जोड़ना बढ़ी जिला सड़कों पर आवश्यक पुलों का निर्माण करना
  •  सड़कों की गायब कड़ियों को बनाना
  • अंतर्राज्यीय सड़कों का निर्माण करना
  • रेलवे स्टेशन तक सड़कों का निर्माण करना
  • पर्यटन स्थल व धार्मिक स्थलों तक सड़कों का निर्माण करना
  •  खनन सड़के बनाना
  • औद्योगिक केंद्रों और कृषि मंडी तक सड़के बनवाना

दुग्ध के मार्ग और पंचायत मुख्यालय और आवासीय क्षेत्रों में आवश्यक छोटी-छोटी संपर्क सड़के बनवाना
सड़क विकास तेजी से हो सके इसलिए इस योजना को कृषि उपज मंडी समिति केंद्रीय सड़क कोष ग्रामीण निर्माण कार्यक्रम व अकाल कार्यों से जोड़ने पर बल दिया गया है राजस्थान में नागपुर योजना के अनुसार सड़कों को विकसित किया गया है साथ ही मुंबई प्लान मास्टर प्लान के अलावा सब सड़क तंत्र के कायापलट के लिए राजस्थान रोड विजन 2025 तैयार किया गया है          


राजस्थान में सड़क परिवहन का घनत्व

राजस्थान को सड़कों के गलत की दृष्टि से निम्न वर्गों में रखा जा सकता है

1⃣  सघन घनत्व के क्षेत्र?? इस में राजस्थान के अलवर अजमेर जयपुर भरतपुर दौसा जोधपुर राजसमंद उदयपुर कोटा भीलवाड़ा और श्री गंगानगर जिले सम्मिलित है इन 11 जिलों में राजस्थान की 58 प्रतिशत सड़के पायी जाती हैं इन जिलों में खनिजों संसाधन धात्विक और अधात्विक खनिज खाद्यान्न व्यापारिक रेशेदार और पेय फसले रबी जायद व खरीफ की फसलें वस्त्र रसायन सीमेंट हस्तकला औद्योगिक पार्को जनसंख्या का सघन बसाव उपजाऊ भूमि व समतल मैदान का विस्तार अधिक पाया जाता है साथ ही इस प्रदेश में विकास की प्रचूर संभावनाएं पाई जाती है लोगों में सड़कों के रखरखाव के प्रति  जागरूकता पायी जाती है यहां पर राष्ट्रीय राजमार्ग राज्य मार्ग जिला व ग्रामीण सड़कों की अधिकता पाई जाती है

2⃣  मध्यम घनत्व के क्षेत्र?? इसके अंतर्गत राजस्थान के चित्तौड़ धौलपुर सवाई माधोपुर करौली बूंदी टोंक झालावाड बॉरा झूंझुनू सीकर हनुमानगढ़ नागोर पाली बांसवाड़ा डूंगरपुर जिले सम्मिलित है इन 15 जिलों में राजस्थान की कुल सड़कों का 32 प्रतिशत भाग सम्मिलित है राजस्थान के इन जिलों में आर्थिक क्रियाएं सीमित मात्रा में पाई जाती है यद्यपि यहां पर खनन कृषि औद्योगिक क्रिया की जाती है साथ ही इन क्षेत्रों में जनसंख्या का बसाव मध्यम है इन प्रदेश में राष्ट्रीय राजमार्गो राज्य मार्ग पाए जाते हैं

3⃣  कम घनत्व के क्षेत्र??इसके अंतर्गत राजस्थान के चूरु बीकानेर जालौर सिरोही प्रतापगढ़ जिले आते हैं इन 5 जिलों में राजस्थान की 8 प्रतिशत सड़के पाई जाती हैं राजस्थान के इन जिलों में खनिज संसाधनों वनस्पति उद्योगों जनसंख्या की कमी के कारण सड़क मार्गों की कमी पाई जाती है साथ ही भौतिक दशाएं भी विषम पाए जाती है सिरोही और प्रतापगढ़ जिले में भौतिक उच्चावच विषम पाया जाता है साथ ही अन्य जिलों में मरुभूमि पाई जाती है

4⃣  न्यूनतम घनत्व क्षेत्र??इसके अंतर्गत राजस्थान के वे भू-भाग आते हैं जहां आर्थिक क्रियाओं का लगभग अभाव पाया जाता है जैसलमेर बाड़मेर पश्चिमी जोधपुर डूंगरपुर व बांसवाड़ा का अरावली पर्वतीय क्षेत्र सिरोही का आबू पर्वत खंड बीहड प्रदेश इसमें आते हैं इन क्षेत्रों में भविष्य में भी सड़क मार्गों के निर्माण की संभावनाएं कम पाई जाती है साथ ही सड़क मार्ग का निर्माण करना संभव नहीं और अनार्थिक भी है राजस्थान की 2 प्रतिशत सडके इस में सम्मिलित है