ज़मीर और उस के अक्साम

(सर्वनाम और उस के प्रकार)


?वो अल्फ़ाज जो के इश्मे ख़ास के बजाय इस्तमाल किये जाये ज़मीर कहलाते है
?जैसे-वो, में, तुम, तुम को, तुम्हारा, वगेरा
? जैसे- आज हामिद दिल्ली गया, वो कल वापस लौटेगा
इस में “वो” हामिद के जगाह इस्तमाल हुवा है जो “जमीर” है

?ज़मीर की मन्दराजेल किश्मे है ?

?(1) जमीरे-सख्सि-वो जमीर जो किसी फरदा या आदमी के लिए इस्तमाल हो, जमीर सख्सि कहलाता है I
?जैसे वो,तुम,में

? जमीरे सख्सि की तीन किश्मे है ?
?(i) जमीरे मतकिम
?(ii) जमीरे हाज़िर
?(iii) जमीरे ग़ायब

?(i) जमीरे मतकलीम- बात करने वाला अपने लिए जो जमीर इस्तमाल करता है उसे जमीरे मतकिम कहते है I
(REET-2015 लेवल I लेंग्वेज II)
?जैसे- में, मुझे, मेरा, हमारा,हम, हम से-

?(ii) जमीरे हाज़िर- बात करने वाला अपने मुख़ातिब(सामने बुलाना/ सामने होना) के लिए जो ज़मीर इस्तमाल करता है वो जमीरे हाज़िर कहलाता है I

?जैसेतुम, तेरा, तुम को,

?(iii) जमीरे ग़ायब-वो ज़मीर जो ग़ायब(जो आस-पास ना हो/ कोई दुसरा) के लिए इस्तमाल हो I
? जैसे-वो, इस को, इस से, इन का, इस में, इन से वगेरा

?(2) जमीर मुसुआ- वो ज़मीर जो किसी इश्म के बजाय आते हो मगर इस के साथ हमेशा एक जुमला होता है जिस में ईश्म का बयान होता है I
? जैसे- वो क़िताब जो कल चोरी हो गई थी मिल गई है I
– आप के वो दोस्त जो जयपुर रहते है वो मुझे कल मिले थे I
– पहले जुमले जो किताब के लिए और दूसरे जुमले में जो दोस्त के लिए इस्तमाल है वो जमीर मुसुआ है I

?(3) जमीर इस्फहामिया- वो जुमला जो सवाल पूछने के लिए आये-
? जैसे- कौन, किस ने, किस को वगेरा-
? जैसे- कौन आया, किस ने कहा, किसी को बुलाओ वगेरा-
(REET-2015 लेवल II लेंग्वेज I)

?(4) जमीर तनकीर- जो जमीर अनजान या ना मालुम चीज़ो के लिए इस्तमाल हो उसे जमीर तनकिर कहलाता है I
?जैसे- कोई, कुछ, वगेरा
?जैसे– कोई आया
घर में कुछ है

?(5) जमीर इशारा- वो जुमला जो किसी इशारे के तोर पर इस्तमाल होते हो I
?जैसे-वो, या,
वो कौन है
या ये कौन है